बिहार विधानसभा में पेंशन घोटाला! विधायक भतीजे की पत्नी का नाम भी 'गीता'देवी, पूर्व MLA स्व.रामनारायण की पत्नी 'गीता' के नाम पर ही हर महीने 46500 की अवैध निकासी

बिहार विधानसभा में पेंशन घोटाला! विधायक भतीजे की पत्नी का नाम भी 'गीता'देवी, पूर्व MLA स्व.रामनारायण की पत्नी 'गीता' के नाम पर ही हर महीने 46500 की अवैध निकासी

PATNA:  बिहार में लोकतंत्र के सबसे बड़े मंदिर विधानसभा में ही करोड़ों का पेंशन घोटाला हो रहा है। मृत विधायकों की पत्नी के नाम पर बड़े स्तर पर फर्जीवाड़ा किया जा रहा। सूचना के अधिकार के तहत यह सच्चाई सामने आई है। न्यूज4नेशन ने खुलासा किया तो सिस्टम नंगा हो गया है। बक्सर के राजपुर से विधायक रहे रामनारायण राम की पत्नी गीता देवी के नाम पर हर महीने पेंशन मद में 46500 रू खाते में जा रहा। यह फर्जीवाड़ा 2016 से लेकर अबतक किया जा रहा है। बड़ा सवाल यही है कि आखिर ये गीता देवी कौन है? अब गीता देवी को लेकर तरह-तरह की चर्चा शुरू है। यह चर्चा तेजी से फैली है कि पूर्व विधायक स्व. रामनारायण राम के दत्तक पुत्र व वर्तमान विधायक की पत्नी का नाम भी गीता देवी ही है। कहीं वही गीता देवी(वर्तमान विधायक की पत्नी) के नाम पर तो हर महीने सरकारी पैसा तो नहीं आ रहा? 

कहीं विधायक की पत्नी के नाम पर तो नहीं हो रहा उठाव?

बिहार के राजनीतिक गलियार में यह चर्चा तेजी से फैली है कि सीटिंग विधायक व दत्तक पुत्र विश्वनाथ राम की पत्नी जिनका नाम गीता देवी है उन्हीं के नाम पर पेंशन की राशि आ रही? यह सवाल आजपूर्व विधायक स्व. रामनारायण राम के दत्तक पुत्र व राजपुर से वर्तमान विधायक विश्वनाथ राम से पूछा गया। उन्होंने कहा कि यह गलत बात है। अगर सबूत है पेश करिए। बैंक स्टेटमेंट दिखलाइए कि वही है। हमारी पत्नी का नाम गीता देवी है लेकिन उनके नाम पर पेंशन नहीं आ रहा। उनसे पूछा गया कि तो फिर कौन गीता देवी हैं जिनके नाम पर हर महीने पेंशन की राशि का उठाव हो रहा। उन्होंने कहा कि हम नहीं जानते। हमने विधानसभा से पूछा है। कहां गड़बड़ी हुई यह तो जांच से ही पता चलेगा।विधायक विश्वनाथ राम ने कहा कि आरटीआई से यह जानकारी सामने आई है कि हमारे चाचा स्व. रामनारायण राम की पत्नी गीता देवी के नाम पर पेंशन का उठाव हो रहा। अगर इस तरह की बात है तो इसमें सरकार और विधानसभा कटघरे में है।  

सच से उठ गया पर्दा

दरअसल, पूरे मामले का खुलासा आरटीआई से हुआ है। बिहार के जाने-माने आरटीआई एक्टिविस्ट शिवप्रकाश राय ने बिहार विधानसभा सचिवालय से पूछा था कि विधानसभा के पूर्व सदस्य जो पेंशन पाते हैं उनकी मृत्यु के बाद आश्रित पत्नी-पति को पारिवारिक पेंशन दिया जाता है उसकी सूची उपलब्ध करायें। विधानसभा सचिवालय की तरफ से 1 जुलाई 2021 को आरटीआई एक्टिविस्ट शिवप्रकाश राय को सूचना उपलब्ध कराई गई। प्रशाखा पदाधिकारी मणिकांत निराला ने पूरी जानकारी दी। इसी जानकारी से सच से पर्दा उठ गया और सिस्टम की पोल खुल गई। 

पत्नी है नहीं और हर महीने 46500 रू मिल रहा पेंशन

रामनारायण राम 1985 से लेकर 1995 तक राजपुर से विधायक रहे थे। 2016 में उनका निधन हो गया। अब उनकी पत्नी के नाम पर पेंशन की राशि की निकासी हो रही। विधानसभा सचिवालय की तरफ से जो जानकारी दी गई है उसके अनुसार स्व. रामनारायण राम की पत्नी गीता देवी के नाम पेंशन मद में 46500 रू हर महीने खाते में जा रहा। यहीं से फर्जीवाड़ा शुरू हुआ। दरअसल पूर्व विधायक रामनारायण राम के निधन के बाद पत्नी के नाम में गीता देवी जोड़ दिया गया और फिर पत्नी बनाकर हर महीने पेंशन की राशि का उठाव होने लगा। यह फर्जीवाड़ा किसने किया? क्या यह काम बिना विधानसभा सचिवालय के मिलीभगत के संभव है ? 

सरकारी खजाने को लूटने वाले को करेंगे बेनकाब

आरटीआई एक्टिविस्ट शिवप्रकाश राय ने विधानसभा सचिवालय से पूरे बिहार के बारे में जानकारी मांगी थी। बक्सर जिले में कुल 11 लोगों को पारिवारिक पेंशन दिया जा रहा। इनमें पहले नंबर पर स्व. रामनारायण राम की पत्नी गीता देवी के नाम पर 46500 रू का उठाव हो रहा। इसके अलावे स्वामीनाथ तिवारी को 47000, श्रीकांत पाठक को 47000, स्व. चतुरी राम की पत्नी परमदेई देवी को 35250 रू,स्व. वीर बहादुर सिंह की पत्नी चिंता देवी को 35250 रू,रामश्रय सिंह को 41000 रू, मंजू प्रकाश को 62000, छेदी लाल राम को 47000,अजीत चौधरी को 77000,डॉ दाउद अली को 47000, सुखदा पांडेय को 62000 रू का पेंशन दिया जा रहा। आरटीआई एक्टिविस्ट शिवप्रकाश राय कहते हैं कि यह सरकारी खजाने की लूट है। न जाने ऐसे कितने लोग हैं तो फर्जी पत्नी बनवाकर पेंशन की राशि का उठाव कर रहे। इसमें केवल लेने वाला नहीं बल्कि देने वाला यानी विधानसभा भी कटघरे में है। क्यों कि बिना मिलीभगत के यह संभव नहीं। बिहार विधानसभा सचिवालय पूरे मामले की जांच कराये। अगर विस सचिवालय जांच नहीं कराती है तो पूरे मामले को पटना हाईकोर्ट में ले जायेंगे ताकि फर्जीवाड़ा करने वाले बेनकाब हो सकें। शिवप्रकाश राय कहते हैं कि गीता देवी जिसे स्व. रामनारायण राम की पत्नी बताकर पेंशन लिया जा रहा उसके बारे में भी पता चला है। सरकार जांच नहीं कराती है तो कोर्ट में पूरा साक्ष्य रखूंगा। 

दत्तक पुत्र व MLA बोले- पत्नी हैं ही नहीं तो पेंशन कैसे मिलेगा? हम केस करेंगे

स्व. रामनारायण राम की पत्नी जिंदा नहीं हैं. बचपन में ही शादी हुई फिर वो कभी इनके घर नहीं आईं. इस बात की पुष्टि उनके भतीजे सह दत्तक पुत्र व राजपुर विस से कांग्रेस विधायक विश्वनाथ राम ही कर रहे। विधायक विश्वनाथ राम ने न्यूज4नेशन से बातचीत में कहा कि हमारे चाचा की शादी बचपन में ही हो गई थी। इसके बाद पत्नी नहीं आईं। हमारे चाचा रामनारायण राम 1985 से लेकर 1995 तक विधायक रहे थे। 2016 में उनका निधन हो गया। उन्होंने सारी संपत्ति हमें दे दी। यूं कहें कि हम उनके दत्तक पुत्र हैं। उनसे जब पूछा गया कि जब आपके चाचा की पत्नी नहीं हैं तो फिर गीता देवी के नाम पर हर महीने 46500 रू का पेंशन विधानसभा सचिवालय से कैसे जा रहा? इस पर उन्होंने कहा कि यह सब गलत है। बदनाम करने की साजिश है। विधानसभा सचिवालय ने गलत जानकारी दी है। हम जानकारी देने वाले अधिकारी पर केस करेंगे। 

Find Us on Facebook

Trending News