पिता की मौत के बाद बेटियों ने शव को दिया कांधा, मुखाग्नि देकर पिता की अंतिम इच्छा को किया पूरा

पिता की मौत के बाद बेटियों ने शव को दिया कांधा, मुखाग्नि देकर पिता की अंतिम इच्छा को किया पूरा

NALANDA : जिले के बिहारथाना  इलाके केहाजीपुर मोहल्ला निवासी व शहर के जाने-माने मिठाई दुकान बसंत बहार के संचालक 46 वर्षीय श्रवण कुमार की हार्ट अटैक से मौत हो गई। उनकी मौत से व्यवसाइयों में शोक की लहर दौड़ गई। 

मृतक को कोई बेटा नहीं है उनकी सिर्फ तीन बेटिया ही है। तीनों बेटियों ने बेटों की तरह अपने पिता को सिर्फ कांधा ही नहीं दिया बल्कि मुखाग्नि देकर अपने पिता की उनकी अंतिम इच्छा भी पूरी की। 

मृतक की बेटी तान्या ने बताया कि उनका कोई भाई नहीं है। पिता ने बेटों की तरह पाला पोशा था। वे हमेशा कहा करते थे कि उनकी मृत्यु होने पर तीनों बेटियां कांधा देना और अंतिम संस्कार की रश्म को पूरा करना। 

तान्या ने बताया कि अपने पिता की अंतिम इच्छा को पूरी करने के लिए वे तीनों बहनों ने अपने पिता के शव को कांधा और मुखाग्नि दी है।  इधर श्रवण कुमार के असामयिक निधन से व्यवसाइयो में गहरा शोक व्याप्त है। उनके घर शोक प्रकट करने वालों का तांता लगा हुआ है। 

आज सुरेश प्रसाद, छोटू गुप्ता, सोनू कुमार, संतोष कुमार, कन्हैया कुमार समेत कई अन्य व्यवसायी श्रवण कुमार के घर पहुंच परिजनों को सांत्वना दी और शोक प्रकट किया। 

नालंदा से राज की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News