कुख्यात मंटू शर्मा को 50 लाख रंगदारी मामले में मुंबई से मुजफ्फरपुर ले आई पुलिस, एक दर्जन से अधिक दर्ज हैं मामले

 कुख्यात मंटू शर्मा को 50 लाख रंगदारी मामले में मुंबई से मुजफ्फरपुर ले आई पुलिस, एक दर्जन से अधिक दर्ज हैं मामले

MUZAFFARPUR : जिले में बीते महीने बिक्कू सिंह से 50 लाख रुपए की रंगदारी मांगे जाने के मामले में मुजफ्फरपुर पुलिस को अहम सफलता हाथ लगी है। इस पूरे मामले में ओंकार सिंह की गिरफ्तारी के बाद  कुख्यात मंटू शर्मा की गिरफ्तारी पुलिस के लिए चैलेंज बनी हुई थी। पुलिस ने मंटू शर्मा की गिरफ्तारी को सुनिश्चित करने के लिए एक गोपनीय टीम बनाई। जिसके बाद मुंबई से मंटू शर्मा की गिरफ्तारी सुनिश्चित की जा सकी।


बता दें की बिहार में सीपीडब्ल्यूडी के टेंडर मैनेज को लेकर शंभू- मंटू गिरोह के मुखिया के रूप में मंटू शर्मा उर्फ प्रद्युम्न शर्मा चर्चित रह चुका हैं। मंटू शर्मा छपरा जिले के बहलोलपुर गांव निवासी है। पढ़ाई लिखाई की उम्र में कुख्यात भुटकुन शुक्ला के संपर्क में आ गया। भुटकुन शुक्ला के सानिध्य में आने पर मंटू शर्मा और शंभू सिंह ने मिलकर  भुटकुन शुक्ला के लिए कार्य करना प्रारंभ किया। लेकिन भुटकुन शुक्ला की हत्या के बाद शंभू - मंटू गिरोह बनाकर सीपीडब्ल्यूडी की ठेकेदारी मैनेज करने लगा। इसके बाद शंभू- मंटू अपराध  की दुनिया में यूपी बिहार का सबसे बड़ा अंडरवर्ल्ड गिरोह बन गया।  

भू माफिया से लेकर रंगदारी, अपहरण और हत्या ऐसे बहुत सारे मामले में मंटू शर्मा का नाम अभी तक आ चुका है। मुजफ्फरपुर में हुई सबसे बड़ी राजनीतिक हत्या जिसमें मुजफ्फरपुर के मेयर समीर कुमार की एके-47 से भूनकर कर हत्या कर दी गई थी। इस हत्याकांड ने पूरे मुजफ्फरपुर को हिला कर रख दिया । हत्या में शामिल मंटू शर्मा का शार्प शूटर गोविंद भी अब एक बड़ा नाम बन चुका था। इस हत्याकांड ने अपराध की दुनिया में मंटू शर्मा का कद और ऊंचा कर दिया। सूत्र बताते हैं कि शंभू - मंटू गिरोह के पास अब तक हथियारों की लंबी फेहरिस्त है।

हालांकि अब शंभू - मंटू गिरोह एक साथ काम नहीं करता। लेकिन साथ काम ना करने को लेकर दोनों में कोई विवाद भी सामने नहीं आता है। आपराधिक विश्लेषक बतलाते हैं की एक ही केस में दोनों का नाम गिरोह का मुखिया होने के कारण कॉमन तरीके से सामने आ जाता था। इससे बचने के लिए भी दोनों दुनिया के लिए अलग हो गए होंगे, लेकिन शंभू और मंटू के बीच अभी भी उतना ही प्रेम है। शंभू सिंह ने सफेद चोला धारण कर खुद को अपराध के क्षेत्र से अलग कर लिया, लेकिन मंटू शर्मा का नाम जमीनी विवाद के कारण रंगदारी को लेकर एक बार फिर से सुर्खियों में है। मुजफ्फरपुर के एसएसपी जयंत कांत के द्वारा प्रेस को दिए रिलीज में मंटू शर्मा के ऊपर कुल 13 अपराधिक इतिहास होने की बात बताई है।

मुजफ्फरपुर से गोविन्द की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News