POSITIVE NEWS: देश को नई ‘ऊंचाई’ देगा चिनाब रेलवे पुल, दुनिया के सबसे ऊंचे ब्रिज के रूप में मिली पहचान

POSITIVE NEWS: देश को नई ‘ऊंचाई’ देगा चिनाब रेलवे पुल, दुनिया के सबसे ऊंचे ब्रिज के रूप में मिली पहचान

DESK: भारतीय रेलवे एक तरफ जहां अपने नेटवर्क को मजबूत और सुरक्षित रखने की कवायद में है, वहीं दूसरी तरफ नए नए कीर्तिमान स्थापित कर देश का मान बढ़ाने का काम कर रही है. ताजा उदाहरण है चिनाब रेलवे पुल, जिसे उधमपुर-श्रीनगर-बनिहाल रेल लाइन के बीच बनाया गया है.

फिल्हाल इस पुल का सबसे मुश्किल कार्य यानी कि आर्च स्ट्रक्टर बनकर तैयार हो गया है, विश्व का सबसे ऊंचा यह रेल पुल दिसंबर 2021 तकबनकर तैयार हो जाएगा. इस रेलवे पुल की चर्चा इसलिए हो रही है क्योंकि यह अपने आप में अनोखे तरीके से बना है. यह दुनिया का सबसे ऊंचा आर्च स्ट्रक्चर वाला पुल होगा, जिसकी ऊंचाई 359 मीटर होगी. सीधे शब्दों में बताएं तो यह पुल फ्रांस के एफिल टॉवर से भी 35 मीटर ज्यादा ऊंचा है. रेलवे के अधिकारियों के मुताबिक, इस पुल पर बम के हमले का कोई असर नहीं होगा.

चिनाब ब्रिज के लिए 205 किलोमीटर की एप्रोच रोड बनाई गई है जो रियासी और रामबन इलाके के 70 गांवों को जोड़ती है. इससे डेढ़ लाख लोगों की आबादी को सड़क मार्ग की सुविधा मिली है. इससे रोजगार पर भी सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा और अवसर बढ़ेंगे. पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए रेलवे ने एक और तैयारी की है. इस रूट पर पारदर्शी शीशे की छतों वाली यानी ‘विस्टाडोम कोच’ वाली ट्रेनें चलाएगा जिससे कश्मीर का सुंदरता देखी जा सकेगी.

इस खास ब्रिज को लेकर रेलवे का दावा है कि इसपर 100 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ़्तार से ट्रेन चलेगी. 266 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ़्तार से चलने वाली हवा को भी ये बर्दाश्त कर सकता है. इसकी अनुमानित उम्र 120 वर्ष है. इसे सबसे अधिक तीव्रता वाले ज़ोन-5 के भूकम्प बलों को बर्दाश्त करने योग्य बनाया गया है. किसी बड़े भूकंप में भी इसे न्यूनतम नुक़सान ही पहुंचेगा. वहीं इसकी लागत 1483 करोड़ रुपए है. चिनाब ब्रिज की कुल लम्बाई 315 मीटर है.


Find Us on Facebook

Trending News