प्रशांत किशोर बोले- भले ही महागठबंधन कागज पर मजबूत लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और...

प्रशांत किशोर बोले- भले ही महागठबंधन कागज पर मजबूत लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और...

PATNA: जदयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने महागठबंधन पर तंज कसा है। पीके ने कहा कि महागठबंधन कागज पर या मंच पर देखने से भले ही मजबूत दिखता हो लेकिन हकीकत कुछ और ही है।महागठबंधन में शामिल 5-7 दलों को एक साथ लेकर चलना काफी मुश्किल भरा काम है। इसका सबूत महागठबंधन में साफ-साफ दिख भी रहा है।

जदयू प्रदेश कार्यालय में पीसी में प्रशांत किशोर ने कहा कि महागठबंधन में सीट शेयरिंग की बात फाइनल होने की बात तो दूर अभी यह भी स्पष्ट नहीं है कि उसमें कितने दल शामिल हैं।मंच पर भले ही महागठबंधन के नेता अपनी मजबूती दिखा रहे हों लेकिन जमीन सच्चाई कुछ और ही है।

बहुत जल्द होगा एनडीए मे सीटों का फाइनल बंटवारा

प्रशांत किशोर ने कहा कि महागठबंधन से काफी पहले एनडीए में सीटों के बंटवारे की घोषणा हो जाएगी। संभव है कि अगले 5 दिनों में ही यह हो जाए। एनडीए में अब सीटों के बंटवारे में कोई पेंच नहीं है। जब भी नेता एक साथ बैठेंगे तभी बातचीत फाइनल हो जाएगी। प्रशांत किशोर ने कहा कि पहले जदयू और बीजेपी 25-15 सीटों पर चुनाव लडती थी।अब उसमे लोजपा है। तो उसी के हिसाब से सीटों को एडजस्टमेंट हो जाएगा।

मांझी बहुत बड़े नेता!

प्रशांत किशोर ने जीतनराम मांझी पर तंज कसते हुए कहा कि वे बहुत बड़े नेता हैं। जदयू जैसे छोटे दल में उनके एडजस्टमेंट का सवाल कहां है? वहीं नागमणी के जदयू में आने के सवाल पर पीके ने कहा कि अभी इस संबंध में मुझे कोई जानकारी नहीं है। वे जदयू में आना चाहते हैं या नहीं पहले ये देखना होगा। हालांकि उन्होंने कहा कि जो लोग भी जदयू में आना चाहते हैं उनके लिए हमारी पार्टी का दरवाजा हमेशा खुला है।

Find Us on Facebook