प्राइवेट स्कूल इस बार भी आपसे जबरन फीस वसूलेंगे, नीतीश सरकार आपकी नहीं करेगी कोई मदद,सवाल को घुमाने लगे CM-शिक्षा मंत्री

प्राइवेट स्कूल इस बार भी आपसे जबरन फीस वसूलेंगे, नीतीश सरकार आपकी नहीं करेगी कोई मदद,सवाल को घुमाने लगे CM-शिक्षा मंत्री

PATNA: बिहार में बढ़ते कोरोना केस के मद्देनजर सीएम नीतीश ने प्रेस कांफ्रेंस किया।मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कोरोना के खतरे के मद्देनजर सरकार की तरफ से उठाये गए कदमों के बारे में जानकारी दी। उन्होंने ऐलान किया कि स्कूल आगे भी एक सप्ताह के लिए बंद होंगे। आज यह भी घोषणा की गई कि धार्मिक स्थल श्रद्धालुओं के लिए बंद रहेंगे। वहीं दुकानें भी शाम सात बजे तक ही खुलेंगी। हालांकि सीएम नीतीश ने पिछली दफे लॉकडाउन के बाद भी निजी स्कूलों द्वारा जबरन ली गई फीस  और इस बार भी विद्यालयों द्वारा फीस नहीं लिये जाने के सवाल पर कोई जावब नहीं दिया। वहीं स्कूल फीस को लेकर शिक्षा मंत्री विजय चौधरी भी सवाल को घुमाते रहे। 

निजी स्कूलों की मनमानी रोकने में नीतीश सरकार हांफने लगती है

बिहार के बड़े स्कूलों द्वारा की गई मनमानी और पिछले सत्र में बिना पढ़ाई के पाई-पाई फीस लेने से लोगों में भारी आक्रोश है। इस बार भी कोरोना के खतरे के मद्देनजर स्कूलों को बंद किया जा रहा। इस संबंध में आज जब मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से सवाल पूछा गया तो वे टालते दिखे।वे निजी स्कूलों की मनमानी रोकने के सवाल का जवाब देने से साफ तौर पर बचते दिखे। मुख्यमंत्री से पूछा गया कि पिछली दफा सभी बड़े स्कूलों ने  बिना पढ़ाई किये ही जबरन फीस लिये। अभिभावकों को मजबूरी में प्रति छात्र हजारों से लेकर लाखो रू देने पड़े। लेकिन सरकार हरकत में नहीं आई। क्या सरकार फीस माफी पर कोई पहल करेगी ?  इस सवाल पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सीधे जवाब देने से बचते रहे। उन्होंने शिक्षा मंत्री विजय चौधरी पर सवाल फेक दिया। शिक्षा मंत्री विजय चौधरी ने कहा कि हमने निजी स्कूल के प्रबंधकों के साथ मीटिंग की। वे स्कूल बंद करना नहीं चाहते,सरकार भी नहीं चाहती कि स्कूल बंद हो लेकिन परिस्थिति ऐसी है कि स्कूल बंद करना पड़ रहा। न तो शिक्षा मंत्री और न मुख्यमंत्री ही निजी स्कूलों की फीस को लेकर कोई माकूल जवाब दिया। मतलब साफ है कि भले ही स्कूल बंद रहेंगे, बच्चों की पढ़ाई बाधित रहेगी लेकिन आपसे स्कूल प्रबंधन जबरन फीस लेगा।सरकार निजी स्कूलों पर कोई कार्रवाई नहीं करेगी।

निजी स्कूलों की मनमानी का विस में भी इस बार उठा था सवाल

 बता दें, इस बार विधानसभा में बजट सत्र के दौरान सत्ता पक्ष और विपक्ष ने संयुक्त रूप में निजी स्कूलों की मनमानी पर सवाल उठाया था। विधायकों ने सरकार से साफ कहा था कि लॉकडाउन के दौरान बिना पढ़ाई के ही निजी स्कूल प्रबंधन ने जबरन फीस ली है। छात्रों की परीक्षा को बाधित कर अभिभावकों से फीस वसूल गये। ऐसे में सरकार कार्रवाई करे। तब शिक्षा मंत्री ने कहा था कि हम भी चाहते हैं कि निजी स्कूल लॉकडाउन के दौरान का फीस नहीं लें। लेकिन फीस लेने से रोकने का सरकार के पास अधिकार ही नहीं है। 

11-14 अप्रैल तक 4 लाख टीकाकरण का लक्ष्य

हमलोग अधिक से अधिक टेस्ट करने की कोशिश कर रहे। टीकाकरण भी किया जा रहा,11-14 अप्रैल तक टीकाकरण का विशेष अभियान चले प्रधानमंत्री ने मीटिंग में कहा था। हमलोगों ने यह तय किया है कि टीकाकरण की रफ्तार को और बढ़ाया जाये। 4 दिनों में 4 लाख तक टीकाकरण करेंगे। पटना से लेकर नीचे के स्तर तक टीकाकरण का प्रबंध किया जा रहा है। टीकाकरण के बाद लोग ज्यादा सुरक्षित होंगे। अगर टीका लेने के बाद पॉजिटिव हो भी जाते हैं उन्हें ज्यादा परेशानी नहीं होगी।सरकार ने पहले ही कहा था स्कूल 11 अप्रैल तक बंद होंगे। आज यह निर्णय हुआ है कि अगले एक सप्ताह के लिए स्कूल और भी बंद रहेंगे। राज्यपाल मोहदय की अध्यक्षता में एक सर्वदलीय बैठक होगी। इसकी तारीख बहुत जल्द तय हो जाएगी। सीएम नीतीश ने कहा कि अभी लॉकडाउन पर विचार नहीं हुआ है। नाईट कफ्यू पर भी अभी कोई विचार नहीं है। तीस अप्रैल तक हमलोग देख रहे हैं। इसके बाद आगे समीक्षा करेंगे और तब निर्णय लेंगे। 

सात बजे के बाद दुकानें होंगी बंद

आपदा प्रबंधन विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने कहा कि अब मठ मंदिर श्रद्धालुओं के लिए बंद किये गये हैं। होम डिलिवरी बंद किये गए। दूकान-मॉल शाम सात बजे बंद हो जायेंगे। होटल में पचीस फीसदी एक साथ होंगे। सिनेमा हाल की क्षमता का 50 फीसदी ही उपयोग होगा.मंदिर, मस्जिद और सभी धार्मिक स्थल बंद रहेंगे. निजी कार्यालय भी 35 फीसदी कमर्चारी ही आएंगे.पब्लिक ट्रासपोर्ट में 50 फीसदी ही बैठेंगे. सीएम नीतीश ने कहा कि अभी कोई कोरेंटाइन सेंटर नही खोले जा रहे। अगला 4-5 दिन अभी देखा जा रहा । इसके बाद अनुमंडल स्तर पर कोरेंटाइन सेंटर  खोले जा सकते हैं। 



Find Us on Facebook

Trending News