प्रोफेशनल्स के भरोसे बिहार के नेताजी, सोशल मीडिया पर ऐसे बनाई जा रही छवि, देखिए पूरा रेट कार्ड

प्रोफेशनल्स के भरोसे बिहार के नेताजी, सोशल मीडिया पर ऐसे बनाई जा रही छवि, देखिए पूरा रेट कार्ड

Desk: बिहार विधानसभा चुनाव के तारीखों का एलान हो चुका है. कोरोना काल में जनता के बीच में खुद को प्रोजेक्ट करने के लिए नेताजी प्रोफेशनल्स को मोटी रकम देकर रख रहे है. इरादा खुद की छवि को सोशल मीडिया पर मजबूत करने का है.

पिछली बार चुनाव में सोशल साइट्स पर नेताजी की धमक बढ़ी थी लेकिन इस बार जनसंपर्क में बाधक बने कोरोना ने इसे काफी मजबूती दी है. टिकट की चाह रखने वाले कई नेता लाइक्स, शेयर और कमेंट्स की बाढ़ दिखाकर शीर्ष नेताओं को यह बताने में लगे हैं कि लोकप्रियता में उनका भी कोई मुकाबला नहीं है. कई प्रोफेशनल्स की टीम भी लगी है जो पलक झपकते न केवल नेताजी की प्रतिक्रिया टाइप कर पोस्ट करती है बल्कि विरोधियों को कमेंट में जवाब देने के लिए भी तैयार रहती है. पार्टी की नीतियों की पहुंच बढाने के साथ साथ व्यक्तिगत छवि चमकाने के लिए भी यह प्रयोग काफी लोकप्रिय हो रहा है.

पैकेज जानकर चौंक जाएंगे
पीयू, पीपीयू और एकेयू के वैसे छात्र जो सोशल मीडिया पर काफी लोकप्रिय हैं वे भी एक टीम बनाकर काम कर रहे हैं. कई प्रत्याशियों ने दिल्ली, मुम्बई और बंगलुरू से भी प्रोफेशनल टीम को हायर किया है. लोकप्रिय नेताओं ने भी सोशल साइट्स पर मार्केटिंग के लिए प्रोफेशनल टीम का सहारा लिया है.  हालांकि नये या पुराने नेताओं को लोकप्रिय बनाने के लिए चुनौतियां को देखते हुए और प्रोफेशनल टीम ने अलग अलग रेट रखा है. चर्चित नेताओं के सोशल मीडिया हैंडल का रेट नए नेताओं से अपेक्षाकृत ज्यादा है क्योंकि इनके बयानों पर लोग ज्यादा से ज्यादा प्रतिक्रिया देंनी होती है और उसका उस अनुसार जवाब भी देना होता है.

ये है पूरा रेट कार्ड
पूरा पैकेज - 50 हज़ार, केवल फेसबुक पर पोस्टर और विरोधियों को जवाब- 10 हज़ार रुपये, नारे गढ़ना और ऑनलाइन पोस्टर तैयार करना- 10 हज़ार, ट्विटर पर स्टेटस अपडेट और प्रतिक्रिया-10 हज़ार, भाषण की रिकॉर्डिंग को एडिट करना और स्पीच तैयार करना- 20 हज़ार.


Find Us on Facebook

Trending News