बिहार उत्तरप्रदेश मध्यप्रदेश उत्तराखंड झारखंड छत्तीसगढ़ राजस्थान पंजाब हरियाणा हिमाचल प्रदेश दिल्ली पश्चिम बंगाल

BREAKING NEWS

  • जदयू चिकित्सा सेवा प्रकोष्ठ ने पीएमसीएच में ओपीडी सहित अन्य सुविधाओं के उद्घाटन पर जताई ख़ुशी, कहा सीएम नीतीश के नेतृत्व में स्वास्थ्य सेवाओं का हो रहा विकास
  • जदयू चिकित्सा सेवा प्रकोष्ठ ने पीएमसीएच में ओपीडी सहित अन्य सुविधाओं के उद्घाटन पर जताई ख़ुशी, कहा सीएम

  • 28 फरवरी को सिवान आएंगे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, जिलाधिकारी और एसपी ने लिया कार्यक्रम स्थल का जायजा
  • 28 फरवरी को सिवान आएंगे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, जिलाधिकारी और एसपी ने लिया कार्यक्रम स्थल का जायजा

  • यूपी में क्रांस वोटिंग ने अखिलेश को दिया झटका, तीन की जगह राज्यसभा की दो सीटों से ही करना पड़ा संतोष, भाजपा के खाते में आठ सीट
  • यूपी में क्रांस वोटिंग ने अखिलेश को दिया झटका, तीन की जगह राज्यसभा की दो सीटों से ही

  • भाई के हर्ष फायरिंग का वीडियो वायरल होने पर बोले लोजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष, कहा विधि सम्मत कार्रवाई के लिए हैं तैयार
  • भाई के हर्ष फायरिंग का वीडियो वायरल होने पर बोले लोजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष, कहा विधि सम्मत कार्रवाई

  • तमिलनाडु में रालोमो की इकाई गठित, टी.एस दासप्रकाश बने अध्यक्ष, उपेंद्र कुशवाहा ने दी बधाई
  • तमिलनाडु में रालोमो की इकाई गठित, टी.एस दासप्रकाश बने अध्यक्ष, उपेंद्र कुशवाहा ने दी बधाई

  •  प्रदेश की आपसी सद्भाव को खत्म करना ही जन विश्वास यात्रा का लक्ष्य  : प्रभाकर मिश्र
  • प्रदेश की आपसी सद्भाव को खत्म करना ही जन विश्वास यात्रा का लक्ष्य : प्रभाकर मिश्र

  • नालंदा पहुंचे बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय ने इंडिया गठबंधन पर किया हमला, कहा 7 परिवारों ने अस्तित्व बचाने के लिए बनाया एलायंस
  • नालंदा पहुंचे बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय ने इंडिया गठबंधन पर किया हमला, कहा 7 परिवारों ने अस्तित्व बचाने

  • 45 साल की शादीशुदा महिला के प्यार में पागल था नाबालिग, जुदा होने का गम नहीं कर सका बर्दाश्त, दे दी जान
  • 45 साल की शादीशुदा महिला के प्यार में पागल था नाबालिग, जुदा होने का गम नहीं कर सका

  • नालंदा में बदमाशों ने चाकू से गोदकर की डॉक्टर के माँ की निर्मम हत्या, परिजनों ने जमीनी विवाद में घटना को अंजाम देने का लगाया आरोप
  • नालंदा में बदमाशों ने चाकू से गोदकर की डॉक्टर के माँ की निर्मम हत्या, परिजनों ने जमीनी विवाद

  • नालंदा में बेटी का इलाज कराकर घर लौट रहे दंपत्ति को अनियंत्रित ट्रक ने रौंदा, पत्नी के सामने ही पति और पुत्री की हुई मौत
  • नालंदा में बेटी का इलाज कराकर घर लौट रहे दंपत्ति को अनियंत्रित ट्रक ने रौंदा, पत्नी के सामने

बिहार में अप्रैल में लॉकडाउन लगाते तो बच सकती थी सैकड़ों लोगों की जानें, क्या सच में सीएम नीतीश ने निर्णय लेने में कर दी देरी, पढ़िए इनसाइड स्टोरी

बिहार में अप्रैल में लॉकडाउन लगाते तो बच सकती थी सैकड़ों लोगों की जानें, क्या सच में सीएम नीतीश ने निर्णय लेने में कर दी देरी, पढ़िए इनसाइड स्टोरी

PATNA : बिहार में लॉकडाउन लगाने में क्या नीतीश सरकार ने देर कर दी। यह सवाल फिर से उठने लगा है। लॉकडाउन लगने के सिर्फ कुछ दिनो में जिस तरह से बिहार में संक्रमण के आंकड़े में कमी आई है और यह 15 फीसदी से घटक 8.9 पर पहुंच गई है, वह इस सवाल को जन्म दे रही है कि बिहार के सीएम और अधिकारियों ने लॉकडाउन को लेकर सही फैसला नहीं लिया। अगर अप्रैल में ही लॉकडाउन लगाया गया होता तो संभवतः बिहार की स्थिति इतनी खराब नहीं होती जैसा की आज है।

अधिकारियों ने दिया गलत परामर्श

एक्सपर्ट भी मानते हैं कि लॉकडाउन का फैसला कुछ समय और पहले लिया गया होता तो बिहार में बड़ी राहत होती। यहां तक कि राज्यपाल की मीटिंग में भी कुछ नेताओं ने नाइट कर्फ्यू की जगह तीन दिन का साप्ताहिक लॉकडाउन या पूर्ण लॉकडाउन लगाने की मांग की थी। लेकिन इसे नीतीश सरकार के अधिकारियों की अदूरदर्शिता कहें या कुछ और, उन्होंने पूर्ण लॉकडाउन की जगर नाइट कर्फ्यू लगाने की सलाह दी। लगभग दस दिन तक नाइट कर्फ्यू लगाए जाने के बाद भी बिहार में कोरोना संक्रमितों की संख्या में कोई कमी नहीं आई. वहीं हर दिन औसतन 100 के करीब लोग अपनी जान गंवाते रहे।

हाईकोर्ट ने भी की थी मांग


बिहार में लॉकडाउन लगाने में हो रही देरी को लेकर हाईकोर्ट ने भी नाराजगी जाहिर की थी। कोर्ट ने कई बार राज्य सरकार से पूछा था वह लॉकडाउन को लेकर क्या सोच रही है, लेकिन सरकार ने इस ओर ध्यान देने की जगह बयानबाजी तक खुद को सीमित रखा। हर दिन कोर्ट में कोरोना को लेकर उठाए गए कदम को लेकर सुनवाई हुई। यहां तक कि हाईकोर्ट ने राज्य सरकार के लिए यह तक कह दिया था कि आपसे नहीं हो पा रहा है सेना को जिम्मेदारी सौंप दी। यह हाईकोर्ट की सख्ती का ही परिणाम था कि राज्य सरकार को लॉकडाउन का फैसला लेना पड़ा। 

आंकड़े बताते हैं सब कुछ

बिहार में 4 मई को लॉकडाउन लगाने की घोषणा की गई। इस तारीख को बिहार में कोरोना का संक्रमण दर 15.06 फीसदी था, लॉकडाउन लगने के 24 घंटे में ही इसमें कमी आनी शुरू हो गई। 5 मई को आंकड़ा घटकर 14.04, छह मई को 12.06 तक पहुंच गया। इस तरह लॉकडाउन के बाद बिहार में संक्रमण के आंकड़े लगातार कम हो रहे हैं।  लॉकडाउन कितना जरूरी था यह अब सरकार को समझ में आ गया है। मात्र 12 दिन में तेजी से बढ़ती संक्रमण की दर 15% से घटकर 8.9% पर पहुंच गई है। सरकार ने लॉकडाउन का फैसला कर कोरोना पर बड़ी चोट की है और इसका सबूत आंकड़े भी बता रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि 12 दिन में संक्रमण का ग्राफ तेजी से घटा है। जो साफ बता रहा है कि बिहार सरकार ने लॉकडाउन के फैसले को लेकर कहीं न कहीं चूक कर दी, अन्यथा इसका परिणाम और बेहतर हो सकता था।

मई में लगातार बिहार में यह रहा संक्रमण दर

  • 01 मई - 15.01%
  • 02 मई - 15.07%
  • 03 मई - 15.06%
  • 04 मई - 15.06%
  • 05 मई - 14.04%
  • 06 मई - 12.06%
  • 07 मई - 12%
  • 08 मई - 10.03%
  • 09 मई - 10.02%
  • 10 मई - 9.90%
  • 11 मई - 9.90%
  • 12 मई - 8.90%