सीएम नीतीश के सात निश्चय पर सवाल : बिना सड़क बनाए कर लिया पैसो का बंदरबांट, RTI से मिली जानकारी, अब जनता दरबार में पहुंचा मामला

सीएम नीतीश के सात निश्चय पर सवाल : बिना सड़क बनाए कर लिया पैसो का बंदरबांट, RTI से मिली जानकारी, अब जनता दरबार में पहुंचा मामला

LAKHISARAI : मुख्यमंत्री की महत्वाकांक्षी योजना सात निश्चय को लेकर नीतीश कुमार जितनी भी अपनी पीठ थपथपा लें पर जमीनी हकीकत कुछ और ही बयां करती है।  7 निश्चय योजना के तहत किए गए दावे और हकीकत में जमीन आसमान का अंतर है।खासकर हर घर नल जल और गली-नाली योजनाओं का बुरा हाल है। 

बड़हिया नगर पंचायत के वार्ड नंबर 8 में गली-नाली योजना में भारी अनियमितता को लेकर प्रवीण कुमार शर्मा ने मुख्यमंत्री जनता दरबार में दिए गए आवेदन में यह आरोप लगाते हुए बताया है कि वित्तीय वर्ष 2015-16 में 14 वें वित्त आयोग से सतेंदर मास्टर के घर से विष्णु झा घर तक एवं विजय सिंह घर से गोरेलाल सिंह घर तक एवं अन्य छोटी-छोटी गलियों को जोड़ते हुए मिट्टी भराई सोलिंग पीसीसी ढलाई एवं नाली निर्माण कार्य के लिए ₹299700 का प्राक्कलन तैयार हुआ था परंतु कागजों पर ही कार्य दिखाते हुए राशि का बंदरबांट कर लिया गया।


कागज में बना दी पीसीसी सड़क

बंदरबांट की भेंट चढ़ चुके गली-नाली निर्माण को लेकर जब श्री शर्मा द्वारा आरटीआई का इस्तेमाल किया गया। तो नगर पंचायत प्रशासन द्वारा जो आंकड़े उपलब्ध कराये गए, वह सत्य से परे और हास्यास्पद हैं। मात्र कागजों पर हुए निर्माण का विवरण प्राक्कलित राशि के साथ उपलब्ध कराया गया है। जबकि सत्य तो यह है कि इस निर्माण का बुनियाद सरकारी फाइलों से इतर जमीन पर उतरा ही नहीं। जिसे स्थलीय निरीक्षण व अवलोकन में भली भांति देखा और समझा जा सकता है। उक्त स्थल के आवासित लोग आज भी असुविधाओं के बीच बदतर जिंदगी जीने को मजबूर हैं।

Find Us on Facebook

Trending News