बिहार उत्तरप्रदेश मध्यप्रदेश उत्तराखंड झारखंड छत्तीसगढ़ राजस्थान पंजाब हरियाणा हिमाचल प्रदेश दिल्ली पश्चिम बंगाल

BREAKING NEWS

  • बिहार विधानसभा के बजट सत्र का सातवां दिन आज, उपाध्यक्ष के लिए होगा नामाकंन, विपक्ष कर सकता है हंगामा
  • बिहार विधानसभा के बजट सत्र का सातवां दिन आज, उपाध्यक्ष के लिए होगा नामाकंन, विपक्ष कर सकता है

  • मोतिहारी पुलिस ने अपराध की योजना बनाते 3 बदमाशों को किया गिरफ्तार, हथियार और जिन्दा कारतूस किया बरामद
  • मोतिहारी पुलिस ने अपराध की योजना बनाते 3 बदमाशों को किया गिरफ्तार, हथियार और जिन्दा कारतूस किया बरामद

  • शेखपुरा में सहित हत्याकांड का पुलिस ने किया खुलासा, कहा प्रेम प्रसंग को लेकर हत्या, पुलिस ने 5 आरोपियों को किया गिरफ्तार
  • शेखपुरा में सहित हत्याकांड का पुलिस ने किया खुलासा, कहा प्रेम प्रसंग को लेकर हत्या, पुलिस ने 5

  • बीजेपी ने राजद-कांग्रेस पर कसा तंज, कहा वन नेशन-वन इलेक्शन से भयभीत हैं परिवारवाद वाली पार्टियां
  • बीजेपी ने राजद-कांग्रेस पर कसा तंज, कहा वन नेशन-वन इलेक्शन से भयभीत हैं परिवारवाद वाली पार्टियां

  • बांका में देशी कट्टा के साथ गिरफ्तार युवक ने की पुलिस को गुमराह करने की कोशिश, हत्याकांड का निकला आरोपी
  • बांका में देशी कट्टा के साथ गिरफ्तार युवक ने की पुलिस को गुमराह करने की कोशिश, हत्याकांड का

  • कोरोना काल में निकला था विज्ञापन, अब चार साल बाद बिहार में आयुष चिकित्सकों का रिजल्ट जारी
  • कोरोना काल में निकला था विज्ञापन, अब चार साल बाद बिहार में आयुष चिकित्सकों का रिजल्ट जारी

  • बांका में अनियंत्रित ट्रक ने पुलिस वाहन में मारी टक्कर, तीन पुलिसकर्मी हुए जख्मी, अस्पताल में चल रहा है इलाज
  • बांका में अनियंत्रित ट्रक ने पुलिस वाहन में मारी टक्कर, तीन पुलिसकर्मी हुए जख्मी, अस्पताल में चल रहा

  • हाजीपुर पुलिस पर लगा बर्बरतापूर्वक मारपीट करने का आरोप, पीड़ित ने एसपी से मांगा इंसाफ
  • हाजीपुर पुलिस पर लगा बर्बरतापूर्वक मारपीट करने का आरोप, पीड़ित ने एसपी से मांगा इंसाफ

  • मुंगेर में पर्यावरण सुरक्षा की तेज हुई कवायद, गंगा नदी में छोड़े गए मछलियों के 4 लाख से अधिक बिचड़े
  • मुंगेर में पर्यावरण सुरक्षा की तेज हुई कवायद, गंगा नदी में छोड़े गए मछलियों के 4 लाख से

  • लखीसराय सड़क हादसे के बाद फूटा लोगों का गुस्सा, सड़क जाम कर की आगजनी, एसडीओ ने मुआवजे का दिया आश्वासन
  • लखीसराय सड़क हादसे के बाद फूटा लोगों का गुस्सा, सड़क जाम कर की आगजनी, एसडीओ ने मुआवजे का

अवैध टाउनशिप और RERA की चुप्पी! बिहटा के 'सुविधा इनक्लेव फेज-2' की हकीकत, बिना निबंधन 22 बीघे में 'टाउनशिप' का खेल

अवैध टाउनशिप और RERA की चुप्पी! बिहटा के 'सुविधा इनक्लेव फेज-2' की हकीकत, बिना निबंधन 22 बीघे में 'टाउनशिप' का खेल

PATNA: बिहार में बिना निबंधन के टाउनशिप बसाने या अपार्टमेंट का प्रचार-प्रसार या बिक्री करना प्रतिबंधित है। रेरा ने ऐसे गैर निबंधित प्रोजेक्ट्स की सूचना देने वालों को 10 हजार रू के इनाम की घोषणा कर रखा है।  इसके बाद भी कुकुरमुत्ते की तरह उगे बिल्डर-प्रमोटरों की तरफ से खुल्लमखुल्ला प्लॉट-फ्लैट का प्रचार-प्रसार किया जा रहा.लगता है कि अब बिहार में किसी को कानून का भय नहीं रहा. बिल्डर- डेवलपर रेरा के साथ-साथ सरकार को भी चैलेंज दे रहे हैं. गैर रजिस्टर्ड टाउनशिप में फंस कर भोले-भाले ग्राहकों का पैसा डूब रहा। न्यूज4नेशन लगातार वैसे गैर निबंधित टाउनशिप के बारे में लोगों को आगाह कर रहा है। रेरा का भी ध्यान आकृष्ट कराया जा रहा।  

अवैध टाउनशिप का खेल !

न्यूज4नेशन पटना और आसपास के इलाकों में बिना निबंधन के टाउनशिप बसाने वालों की पोल खोल रहा। अब तक सिर्फ नौबतपुर,शिवाला,बिहटा इलाके के एक दर्जन से अधिक प्रोजेक्ट की पोल खोली गई है। वे तमाम प्रोजेक्ट रेरा से निबंधित नहीं हैं,फिर भी धडल्ले से जमीन का सौदा कर रहे। आज हम आपको बिहटा के सिकरिया इलाके में डीएनएस होम्स के प्रोजेक्ट सुविधा इनक्लेव फेज-2 की पोल खोल रहे हैं. यह कपंनी सिकरिया इलाके में बड़े भूभाग को कागज पर एग्रीमेंट कर लिया और टाउनशिप के नाम पर ग्राहकों से बेंच रही। बताया जाता है कि इस इलाके के 20-22 बीघे जमीन पर डीएनएस होम्स की नजर है और उसे सुविधा इनक्लेव फेज-2 का नाम देकर ग्राहकों को दिखाया जा रहा । बताया जाता है कि कई प्लॉट की बिक्री भी कर दी गई।  

सुविधा इनक्लेव की हकीकत 

डीएनएस होम्स पटना जिले के बिहटा के कई किमी दूर सिकरिया में सुविधा इनक्लेव प्रोजेक्ट पर काम शुरू किया है। बताया जाता है कि कंपनी ने कई बीघे जमीन को टाउनशिप बसाने के नाम पर ग्राहकों में बिक्री कर रही है. जमीन की बिक्री के लिए तरह-तरह के प्रलोभन दिये जा रहे हैं. बजाप्ता बोर्ड लगाकर और पोस्टर के माध्यम से प्रोजेक्ट का प्रचार-प्रसार किया जा रहा। बिचौलिया ग्राहकों को फोन कर उन्हें जाल में फंसाने की कोशिश कर रहे हैं. ग्राहक को लगातार फोन जा रहा। बड़ा सवाल यही है कि क्या वह प्रोजेक्ट रेरा से निबंधित है?  आप इस कंपनी के बारे में रेरा में पता करेंगे तो कोई अता-पता नहीं चलेगा. न कंपनी का पता है और न प्रोजेक्ट का। यानि बिना निबंधन के ही डीएनएस होम्स के द्वारा सुविधा इनक्लेव पर काम किया जा रहा। जबकि रेरा का सख्त आदेश है कि रेरा से निबंधन लिये बिना न तो किसी प्रोजेक्ट का प्रचार-प्रसार करना है और न बिक्री। लेकिन यहां तो कोई कानून ही नहीं है। जब हमने ग्राहक बनकर फोन किया तो कहा गया कि अभी रेरा से निबंधन नहीं है लेकिन आगे हो जायेगा। आप प्लॉट खरीद सकते हैं। बजाप्ता कंपनी के फोन नंबर पर बताया गया है कि टाउनशिप की खासिय़त क्या है। 

GREEN CLAVE का भी निबंधन नहीं 

पटना में टाउनशिप बसाने को लेकर बिल्डर-प्रमोटर एम्स,आईआईटी के नाम पर ग्राहकों को ठगते हैं। नौबतपुर इलाके के प्रोजेक्ट को एम्स के नजदीक बताया जाता है. वहीं अगर टाउनशिप बिहटा इलाके में हो तो उसे आईआईटी बिहटा के नजदीक बताया जाता है। इस तरह से ग्राहकों को ठगा जाता है। एक ऐसा ही प्रोजेक्ट है ग्रीन क्लेव कंस्ट्रक्शन कंपनी। इस कंपनी का प्रोजेक्ट  एम्स- नौबतपुर सोन नहर रोड पर है। बिना रेरा से निबंधन के ही प्रोजेक्ट की बिक्री का काम शुरू कर दिया गया है। कंपनी ने बजाप्ता बिक्री के लिए बोर्ड भी लगाये हैं. साथ ही दो नबंर जारी किया गया है। प्लॉट बेचने वाली कंपनी के लिए ग्राहकों को अपने फोन नंबर सार्वजनिक किये हैं। आप समझ सकते हैं कि अब प्लॉट बिक्री करने वालों में रेरा का कोई डर नहीं रहा। ऐसे लोग खुल्लम-खुल्ला काम कर रहे। बताया जाता है कि मिलीभगत से इस तरह का धंधा खूब फल फूल रहा। ग्राहक झांसे में आकर ऐसे लोगों के चक्कर में फंस जाते हैं। अगर आप रेरा में इस तरह के प्रोजेक्ट और कंपनी को खोजते रह जायेंगे,आपको नहीं मिलेगा.

GOLDEN HERITAGE  नाम से सावधान

अब हम आपको बिहटा इलाके के इस प्रोजेक्ट के बारे में बचा रहे हैं। बिहटा के देवकुली इलाके में PATHOS REALWAYS नाम की कंपनी टाउनशिप बसा रही है। टाउनशिप का नाम बहुत ही सुंदर दिया गया है। टाउनशिप बसाने वाली कंपनी GOLDEN HERITAGE नाम से 2092.68 स्कॉयर मी. के प्रोजेक्ट पर काम कर रही है। लेकिन रेरा ने इस प्रोजेक्ट के लिए निबंधन नहीं दिया है। यानी अब तक यह प्रोजेक्ट गैर निबंधित है। इस प्रोजेक्ट के शुरूआत करने का समय 1 फऱवरी 2020 था जबकि पूरा होने का समय 31 जनवरी 2025 है। लेकिन प्रोजेक्ट का मैप व अन्य वजहों से रेरा ने निबंधन देने से मना कर दिया।