रेरा का इकबाल खत्म! बिहटा का 'ग्लैक्सी सिटी' RERA को ही दिखा रहा ठेंगा, बिना पेपर के टाउनशिप बसाने के नाम पर चल रहा धंधा

रेरा का इकबाल खत्म! बिहटा का 'ग्लैक्सी सिटी' RERA को ही दिखा रहा ठेंगा, बिना पेपर के टाउनशिप बसाने के नाम पर चल रहा धंधा

PATNA: पटना और आसपास के इलाकों में टाउनशिप बसाने वाले प्रमोटर अनकंट्रोल हो गये हैं. बिहटा इलाके में डेवपर्स के मन से रेरा का खौफ पूरी तरह से खत्म हो गया है। बिना कोई डर-भय के डेवलपर्स टाउनशिप बसाने का अवैध धंधा कर रहे हैं. न्यूज4नेशन एक-एक कर वैसे टाउनशिप की पोल खोल रहा है जो गैर निबंधित हैं. रेरा के नियम के अनुसार वो गलत हैं. इसके बाद भी अवैध धंधा रूकने का नाम नहीं ले रहा। दशहरा-दीपावली के मौके पर ऐसे डेवलपर्स जबरदस्त रूप से प्रचार-प्रसार करते हैं ताकि ग्राहक फंस सकें. बिहटा के एसडीआरएफ के समीप ग्लैक्सी सिटी बसाया जा रहा है। इसका हाल भी वही है। बिना कागज-पत्तर के ही ग्लैक्सी सिटी का काम किया जा रहा है। 

ग्लैक्सी सिटी से सावधान

बिहटा के एसडीआरएफ के समीप ग्लैक्सी सिटी बसाई जा रही है। प्लॉट की बिक्री के लिए बजाप्ता प्रचार-प्रसार किया जा रहा है। ग्राहकों को जाल में फंसाने के लिए तरह-तरह के प्रलोभन दिये जा रहे हैं. साइट पर ले जाने के लिए कंपनी की तरफ से ही मुफ्त व्यवस्था की गई है। साथ ही यह भी बताया गया है कि कितने रू में एक स्कॉयर फीट जमीन मिलेगी। यानी सब कुछ खुल्लम खुल्ला किया जा रहा है,जैसे रेरा एप्रुव प्रोजक्ट का प्रचार-प्रसार किया जाता है। इस तरह से अब बिहटा इलाके में काम कर रहे डेवलपर्स रेरा का नाम भी भूल गये हैं. ऐसा लग रहा मानो ऊपर का संरक्षण मिला है। यह स्थिति हाल के कुछ महीनों में उत्पन्न हुई है। यानी इस तरह के प्रोजेक्ट में प्लॉट की बुकिंग कराते हैं तो पैसा फंसने का पूरा चांस है। 

मेट्रो सिटी से सावधान,निबंधन नहीं  

 नेउरा के टिकैतपुर में मौलाना आजाद इंजीनियरिंग कॉलेज के समीप DIRECT SELL BUILDCON नाम की कंपनी मेट्रो सिटी बसा रही है। इस कंपनी के द्वारा 2 अन्य प्रोजेक्ट भी हैं. लेकिन नेउरा में बन रहे मेट्रो सिटी गैर निबंधित है। कंपनी के द्वारा 6529.75 स्कॉयर मी. में प्रोजेक्ट पर काम किया जा रहा। कंपनी की तरफ से रेरा को जानकारी दी गई थी जिसमें प्रोजेक्ट को 5 नवंबर 2023 को पूरा होना था लेकिन रेरा ने निबंधन ही नहीं दिया। रेरा ने मार्च 2022 में ही रेरा निबंधन आवेदन खारिज कर दिया था. इस संबंध में रेरा ने कंपनी के निदेशक अरविंद कुमार को जानकारी दे दी थी. रेरा के पत्र में कहा गया था कि कंपनी की तरफ से बेंच के समक्ष अपना आवेदन वापस लेने की बात कही गई। इस वजह से आवेदन रद्द किया जाता है। अगर ग्राहक प्रचार-प्रसार में फंस कर प्लॉट की बुकिंग कराते हैं तो फंस सकते हैं.

बिना कागज-पत्तर वाला सुविधा इनक्लेव फेज-2 

न्यूज4नेशन पटना और आसपास के इलाकों में बिना निबंधन के टाउनशिप बसाने वालों की पोल खोल रहा। अब तक सिर्फ नौबतपुर,शिवाला,बिहटा इलाके के एक दर्जन से अधिक प्रोजेक्ट की पोल खोली गई है। वे तमाम प्रोजेक्ट रेरा से निबंधित नहीं हैं,फिर भी धडल्ले से जमीन का सौदा कर रहे। आज हम आपको बिहटा के सिकरिया इलाके में डीएनएस होम्स के प्रोजेक्ट सुविधा इनक्लेव फेज-2 की पोल खोल रहे हैं. यह कपंनी सिकरिया इलाके में बड़े भूभाग को कागज पर एग्रीमेंट कर लिया और टाउनशिप के नाम पर ग्राहकों से बेंच रही। बताया जाता है कि इस इलाके के 20-22 बीघे जमीन पर डीएनएस होम्स की नजर है और उसे सुविधा इनक्लेव फेज-2 का नाम देकर ग्राहकों को दिखाया जा रहा । बताया जाता है कि कई प्लॉट की बिक्री भी कर दी गई।  

सुविधा इनक्लेव की हकीकत 

डीएनएस होम्स पटना जिले के बिहटा के कई किमी दूर सिकरिया में सुविधा इनक्लेव प्रोजेक्ट पर काम शुरू किया है। बताया जाता है कि कंपनी ने कई बीघे जमीन को टाउनशिप बसाने के नाम पर ग्राहकों में बिक्री कर रही है. जमीन की बिक्री के लिए तरह-तरह के प्रलोभन दिये जा रहे हैं. बजाप्ता बोर्ड लगाकर और पोस्टर के माध्यम से प्रोजेक्ट का प्रचार-प्रसार किया जा रहा। बिचौलिया ग्राहकों को फोन कर उन्हें जाल में फंसाने की कोशिश कर रहे हैं. ग्राहक को लगातार फोन जा रहा। बड़ा सवाल यही है कि क्या वह प्रोजेक्ट रेरा से निबंधित है?  आप इस कंपनी के बारे में रेरा में पता करेंगे तो कोई अता-पता नहीं चलेगा. न कंपनी का पता है और न प्रोजेक्ट का। यानि बिना निबंधन के ही डीएनएस होम्स के द्वारा सुविधा इनक्लेव पर काम किया जा रहा। जबकि रेरा का सख्त आदेश है कि रेरा से निबंधन लिये बिना न तो किसी प्रोजेक्ट का प्रचार-प्रसार करना है और न बिक्री। लेकिन यहां तो कोई कानून ही नहीं है। जब हमने ग्राहक बनकर फोन किया तो कहा गया कि अभी रेरा से निबंधन नहीं है लेकिन आगे हो जायेगा। आप प्लॉट खरीद सकते हैं। 

Find Us on Facebook

Trending News