भ्रष्टाचार की नींव पर हुआ है राजद का गठन, वहां जगदानंद जैसे ईमानदार की इज्जत नहीं, भाजपा का लालू के दल पर करारा प्रहार

भ्रष्टाचार की नींव पर हुआ है राजद का गठन, वहां जगदानंद जैसे ईमानदार की इज्जत नहीं, भाजपा का लालू के दल पर करारा प्रहार

पटना. राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह के पटना लौटने के बाद भी राजद दफ्तर नहीं जाने पर भाजपा ने लालू यादव की पार्टी राजद पर जमकर प्रहार किया. भाजपा प्रवक्ता डॉ रामसागर सिंह ने शनिवार को कहा कि जगदानंद सिंह ईमानदार छवि के व्यक्ति हैं. ऐसे लोगों की राजद में कोई इज्जत नहीं है बल्कि वहां सिर्फ भ्रष्टाचार करने वालों को जगह मिलती है. उन्होंने कहा कि जगदानंद सिंह अपने गांव से पटना लौटे तो वे राजद दफ्तर नहीं गए. इस पर राजद के शीर्ष नेतृत्व की ओर से उन्हें दफ्तर नहीं बुलाया गया. उलटे उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव द्वारा सारे कार्यालयी दस्तावेज मंगवा लिया गया. 

डॉ रामसागर ने कहा कि राष्ट्रीय जनता दल का गठन भ्रष्टाचार की नींव पर हुआ था. वर्ष 1996 में लालू प्रसाद यादव पर जब भ्रष्टाचार के आरोप लगे तब उन्होंने जनता दल को तोड़कर राजद का गठन किया था. यही कारण है कि राजद में भ्रष्टाचारियों की पूछ होती है न कि जगदा बाबू जैसे ईमानदार लोगों की.

उन्होंने कहा कि राजद में ईमानदार लोगों को हमेशा बेइज्जत किया गया है. पहले भी रघुवंश बाबू जैसे लोगों की कोई इज्जत नहीं रही. रघुवंश बाबू को पूरा देश मनरेगा मैन के रूप में जानता था लेकिन राजद में रघुवंश बाबू को एक लोटा पानी का कर अपमानित किया गया. उन्होंने कहा कि राजद में सिर्फ भ्रष्टाचार करने वालों को इज्जत मिलती है न कि ईमानदार लोगों की. राजद को सिर्फ सत्ता चाहिए ना कि गुणवान, शीलवान और अनुशासन प्रिय आगे बढ़ाने वाले नेता चाहिए. यही कारण है आज जगदानंद सिंह को अपमानित किया जा रहा है. 

दरअसल, जगदानंद सिंह ने ही अपने बेटे सुधाकर सिंह के नीतीश मंत्रिमंडल से इस्तीफा देने की बात सार्वजनिक की थी. अगस्त महीने में जब बिहार में महागठबंधन की सरकार बनी और सुधाकर सिंह को कृषि मंत्री बनाया गया उन्होंने एक के बाद एक कई बयानों से नीतीश सरकार को कठघरे में खड़ा किया. स्थिति यहां तक आ गई कि सीएम नीतीश के नेतृत्व में चल रही मन्त्रिमंडल बैठक से भी सुधाकर सिंह उठकर बाहर चले गए थे. हर दिन बढ़ते विवाद के बाद सुधाकर ने मंत्री पद छोड़ दिया. वहीं उनके पिता जगदानंद सिंह ने भी प्रदेश अध्यक्ष रहते हुए कई ऐसे बयान दिए जो नीतीश कुमार और जदयू को नागवार गुजरा. इस बीच पिछले एक महीने से वे पटना से बाहर थे. अब पटना लौटने पर जब जगदानंद राजद ऑफिस नहीं गए तो भाजपा ने पुरे मसले पर राजद पर जमकर हमला बोला है. 


Find Us on Facebook

Trending News