'अग्निपथ' पर बवाल : बिहार बंद के दौरान औरंगाबाद में कुछ जगहों पर हुई तोड़फोड़ व आगजनी, पुलिस बल भी दिखा सख्त

'अग्निपथ' पर बवाल : बिहार बंद के दौरान औरंगाबाद में कुछ जगहों पर हुई तोड़फोड़ व आगजनी, पुलिस बल भी दिखा सख्त

औरंगाबाद. अग्निपथ योजना के विरोध में बिहार बंद के दौरान पुलिस की सख्ती के बावजूद अग्निवीरों का समूह बंद को सफल बनाने के लिए सड़कों पर उतरें, लेकिन पुलिस के भारी बंदोबस्त के चलते उग्र प्रदर्शन नहीं कर पाये। इस दौरान कुछ जगहों पर इनके द्वारा तोड़फोड़ व आगजनी की सूचना मिली है।

मिली जानकारी के अनुसार बंद के दौरान औरंगाबाद जिले में कही भी किसी हिस्से से किसी अप्रिय घटना का समाचार नहीं है। बंद के दौरान औरंगाबाद शहर में भाकपा माले के छात्र संगठन आइसा ने शहर में विराध प्रदर्शन निकाला। वहीं अग्निवीरों के एक छोटे से समूह ने शहर के सिन्हा कॉलेज इलाके में मार्च निकाला। इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने राहगीरों पर डंडे बरसाये, जिससे दो-तीन राहगीरों का सिर फूटने की सूचना है। हालांकि प्रशासनिक स्तर पर इसकी पुष्टि नहीं हो सकी है। कहा जा रहा है कि चोटिल हुए राहगीरों ने निजी चिकित्सकों से इलाज कराया है। कहा जा रहा है कि प्रदर्शनकारियों का छोटा समूह पुलिस के सख्त तेवर के आगे सिन्हा कॉलेज मोड़ से आगे नहीं बढ़ सका और सभी बैरंग वापस लौटने पर मजबूर हुए।


इस दौरान औरंगाबाद शहर में बंद से निपटने के लिए सभी संवेदनशील स्थानों समेत पूरे शहर में चप्पे-चप्पे पर पुलिस तैनात रही। इस कारण बंद समर्थक सड़कों पर नहीं उतर सके। वहीं बिहार बंद के दौरान ओबरा प्रखंड में अग्निवीरों का कोई समूह तो सड़क पर नहीं, उतरा लेकिन बंद के समर्थन में भाकपा-माले और राजद नेताओं का समूह सड़क पर उतरा। भाकपा माले के जिला सचिव मुनारिक राम के नेतृत्व में सड़क पर उतरे नेताओं ने ओबरा बाजार में घंटे भर तक एनएच-139 को जाम कर प्रदर्शन किया। प्रदर्शन में राजद नेता इंदल यादव, माले नेता दुःखन राम एवं राजकिशोर मेहता आदि शामिल रहे। दाउदनगर में बंद समर्थक कहीं सड़क पर तो नहीं उतरे, लेकिन अग्निवीरों द्वारा एनएच-139 पर जिनोरिया और पसवां के बीच पटना जा रहे स्टेट ट्रांसपोर्ट के अधीन चलने वाले निजी बस पर रनिंग हालत में रोड़े बरसाये, जिससे वाहन की खिड़कियों के शीशे टूट गये।

बाद में यह बस दाउदनगर से आगे नहीं गई और पुलिस के देखरेख में बस को औरंगाबाद वापस कराया गया। हसपुरा में पुलिस के सख्त प्रबंधों के कारण अग्निवीर सड़कों पर नहीं उतर सके। वहीं गोह में पुलिसियां सख्ती के बावजूद अग्निवीरों ने उत्पात मचाया। अग्निवीरों ने गोह में हमीदनगर मोड़ और शहीद जगतपति चौक पर सड़क पर टायर जलाकर आगजनी की। केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारे लगाये। इस दौरान उपद्रवियों ने गोह प्रखंड कार्यालय में आरटीपीएस काउंटर की खिड़की के शीशे तोड़ डाले। यहां पुलिस और उपद्रवियों में नोक झोक भी हुई और पुलिस ने उपद्रवियों को नियंत्रित करने के लिए लाठीचार्ज भी किया।

इस दौरान पुलिस ने 57 उपद्रवियों को गिरफ्तार किया है। वहीं अग्निवीरों ने पुलिस पर गोह थाना के पीछे से पांच फायरिंग करने का आरोप लगाया है, जिससे पुलिस ने इंकार किया है। रफीगंज में अग्निवीर रानी ब्रज राज हाई स्कूल से बिहार बंद को सफल बनाने सड़कों पर उतरे, लेकिन मुख्य बाजार पहुंचने तक पुलिस का भारी बंदोबस्त देखकर प्रदर्शनकारी आगे नहीं बढ़ पाये। मदनपुर एवं देव में पुलिस की भारी मात्रा में तैनाती के कारण अग्निवीर सड़कों पर नहीं उतरे और बाजारों में पूर्ण शांति रही। बाजार सामान्य दिनों की भांति खुले रहे। अम्बा में पुलिसिया प्रबंधों के बावजूद करीब 50-60 की संख्या में अग्निवीरों का समूह सड़क पर उतरा।

इस समूह ने अम्बा मुख्य चौक पर प्रदर्शन करते हुए एनएच-139 पर टायर जलाकर आगजनी की। इस दौरान पुलिस ने उपद्रव करने के आरोप में चार अग्निवीरों को हिरासत में लिया। नबीनगर और बारूण में बंद का कोई असर नहीं दिखा। बाजार खुले रहे। जगह-जगह पुलिस तैनात रही। दोनों प्रखंडों में अग्निवीरों का कोई भी समूह सड़कों पर नहीं उतरा। वहीं पूरे मामले में पुलिस कप्तान कांतेश कुमार मिश्रा ने बताया कि बंद से निपटने के लिए व्यापक प्रबंध किये गये थे। इन प्रबंधों के कारण बंद के दौरान कोई अप्रिय घटना नहीं हो सकी और सभी जगह शांति रही।

उन्होने अपील की कि अग्निपथ योजना का विरोध कर रहे लोग धैर्य का परिचय दे। शांतिपूर्ण और कानून के दायरे में रहकर विरोध करे। कानून हाथ में लेने पर कानून अपना काम करेगा और उपद्रव करनेवाले लोगों पर सख्ती बरती जाएंगी। उन्होने बताया कि पूरे जिले में अबतक 70 उपद्रवियों को गिरफ्तार किया गया है। उपद्रव करनेवालों को पुलिस लगातार चिंहित कर रही है और उन्हे गिरफ्तार कर जेल भेजा जाएगा।

Find Us on Facebook

Trending News