सच्चिदानंद राय बोले- एनआरसी और सीएबी देश के लिए है जरूरी, पीएम मोदी और अमित शाह के नेतृत्व में दोनों कानून अवश्य होंगे लागू

सच्चिदानंद राय बोले- एनआरसी और सीएबी देश के लिए है जरूरी, पीएम मोदी और अमित शाह के नेतृत्व में दोनों कानून अवश्य होंगे लागू

PATNA: बीजेपी के एमएलसी सच्चिदानंद राय ने एनआरसी और सीएबी(Citizenship Amendment Bill) को देश के जरूरी बताया है। उन्होंने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह के नेतृत्व में ये दोनों कानून अवश्य ही लागू होंगे। भारतवर्ष अतिशीघ्र दीमक जैसे घुसपैठियों से मुक्त होगा।

बीजेपी एमएलसी सच्चिदानंद राय ने कहा कि महाराष्ट्र के बुलढाणा के चिखली में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने पूरे देश में एनआरसी लागू करने के संकेत दे दिए हैं। एनआरसी और सीएबी (Citizenship Amendment Bill), ये दो ऐसे मुद्दे हैं, जिनके प्रति भारतीय जनता पार्टी नेतृत्व पूरी तरह प्रतिबद्ध है। ऐसी अपेक्षा की जा रही है कि संसद के आगामी शीतकालीन सत्र में ही इन दोनों मुद्दों से संबंधित विधेयक लाए जाएंगे और जैसा तीन तलाक और धारा 370 के मामले में संसद ने भारी बहुमत से सरकार का साथ दिया, विश्वास है ये दोनों कानून भी उसी प्रकार से भारी बहुमत से पास होंगे। क्योंकि यह दोनों कानून देश के हित में है और समय की नज़ाकत को देखते हुए अति आवश्यक हैं। 

उन्होंने कहा कि अभी आपने देखा होगा तीन दिन पहले ही बंगाल के मुर्शिदाबाद में इसी तरह के घुसपैठिए रोहिंग्या मुसलमानों ने विश्वबंधु पाल, उनके 8 वर्षीय पुत्र और गर्भवती पत्नी को दरिंदगी से मौत के घाट उतार दिया और पिछले 3 दिनों से बिहार के जहानाबाद में भी जो तनाव का माहौल बना है, हमारे कार्यकर्ताओं ने हमें सूचित किया है उसके पीछे भी रोहिंग्या घुसपैठियों की जमात है। कश्मीर में हमने देखा ही था। इसी प्रकार देश के विभिन्न कोने में इस प्रकार के हजारों-लाखों घुसपैठिए देश की एकता और अखंडता को घुन की तरह नुकसान पहुंचा रहे हैं और साथ ही देश में रोजगार के जो संसाधन उपलब्ध है उन पर भी बोझ डाल रहे हैं। 

सच्चिदानंद राय ने कहा कि मुझे विश्वास है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं गृह मंत्री अमित शाह के मजबूत नेतृत्व में दोनों कानून लागू अवश्य होंगे। भारतवर्ष अतिशीघ्र दीमक जैसे घुसपैठियों से मुक्त होगा। हालांकि मैं उतने विश्वास के साथ नहीं कह सकता कि हमारे देश के अंदर उपस्थित कुछ जयचंद इस प्रतिज्ञा में कितना सहयोग देंगे। लेकिन खुशी की बात यह है कि देश में अभी भी जयचन्दों से कहीं ज्यादा तादाद पृथ्वीराज चौहान जैसे देशभक्तों की है।

Find Us on Facebook

Trending News