सहरसा एडीएम के पुत्र का पटना में किया गया अंतिम संस्कार, परिजनों ने हत्या का लगाया आरोप

सहरसा एडीएम के पुत्र का पटना में किया गया अंतिम संस्कार, परिजनों ने हत्या का लगाया आरोप

PATNA : सहरसा एडीएम सह डीपीजीआरओ पुरुषोत्तम पासवान के बेटे दीपक कुमार की मौत मामले में दीघा थाने की पुलिस ने यूडी केस दर्ज किया है. लेकिन मृतक के परिवार वालों ने सुसाइड को नकारते हुए हत्या का आरोप लगाया है. गुरुवार की दोपहर दीपक का अंतिम संस्कार बांस घाट पर किया गया. मौके पर मृतक के माता-पिता, बहन समेत अन्य परिवार वाले भी मौजूद थे. सभी का रो-रोकर बुरा हाल था. जैसे ही दीपक के शव को अंतिम संस्कार के लिए शवदाह गृह में ले जाने लगे कि एक महिला वहीं पर बेहोश हो गयी. मृतक की बहन प्रियंका दीक्षित ने बताया कि मेरे भाइ के फेस पर ब्लड लगा था. वह सुसाइड नहीं कर सकता है. उसे कई लोगों ने मारा और फिर उसे सुसाइड का रूप देने के लिए ये सारा सीन क्रिएट किया है. 

मृतक दीपक को कुछ लोग तंग किया करते थे

बहन ने बताया कि मेरे भाई ने कुछ दिन पहले घर में बताया था कि मुझसे कुछ लोग जबरदस्ती बात करने की कोशिश करते हैं. कभी बोलते हैं चलो नाव से घूमते हैं. उन्हें यह पता था कि दीपक के पिता एक पदाधिकारी है. वे फिर मेरा डिटेल मांगने लगे कि कहां रहते हो कितने बजे यहां आते हो. कई बार जबरदस्ती कुछ खिलाने की भी कोशिश करते थे. लेकिन भइया मना कर देते थे. मेरे भाई का पटना में कोई भी दोस्त नहीं था. वह लॉकडाउन के दौरान मुंबई से पटना इधर कुछ महीने पहले ही आया था.

फोन करने वाले ने पहले कहा हत्या हो गयी, फिर कहा सुसाइड कर लिया

दीपक की मां ने रोते हुए बताया कि मेरे बेटे के नंबर से फोन आया था. एक लड़ने ने फोन कर कहा कि आपके बेटे की हत्या कर दी गयी है जल्दी आइये. उसका कपड़ा और मोबाइल यहां रखा है. जब उससे पूछने लगे कि किसने किया तो वह फिर कहा कि नहीं सुसाइड कर लिया है और फोन कट कर दिया. जब वहां पहुंची तो कपड़ा पड़ा था. पुलिस को इस बात की सूचना दी, लेकिन कोई रिस्पांस नहीं लिया जा रहा था. इसके किसी तरह घटनास्थल पर बाद में पुलिस पहुंची तो दो लड़कों ने कहा भी कि इस लड़के को कुछ लोग टॉर्चर कर रहे थे. हाथापाई भी हुई थी. लेकिन पुलिस ने उससे बातचीत तक नहीं की और जाने दिया. पुलिस इसे सुसाइड साबित करने के पीछे लगी है लेकिन मैं मान ही नहीं सकती कि यह सुसाइड है.

पिता ने कहा: न्यायपालिका पर पूरा भरोसा, लेकिन पुलिस ने सही से जांच नहीं किया

एडीएम सह डीपीजीआरओ पुरुषोत्तम पासवान ने अपने बेटे की मौत मामले में कहा कि मुझे न्यायपालिका पर पूरा भरोसा है. लेकिन पुलिस ऐसा क्यों कर रही है ये समझ में नहीं आ रहा है. घटना के वक्त तो मैं नहीं था. लेकिन मेरी बेटी और पत्नी ने कहा कि उसके साथ मारपीट हुई है. मौत से पहले बेटे ने घर में काफी कुछ बताया था. मेरे समझ में यह नहीं आ रहा कि पुलिस ने परिवार वालों के होते हुए भी इन्क्वेस्ट में साइन नहीं कराया. मैं बस यही कहना चाहता हूं कि यह कोई आम घटना नहीं है, इसके पीछे कोई साजिश हुई है. पुलिस ने सही से जांच नहीं किया है.

दीघा घाट से बरामद हुआ था दीपक का शव

मालूम हो कि सहरसा के एडीएम सह डीपीजीआरओ पुरुषोत्तम पासवान के बेटे दीपक कुमार का शव बुधवार की देर रात दीघा थाना क्षेत्र के दीघा घाट गंगा नदी से बरामद की गयी थी. मृतक का परिवार बुद्धा कॉलोनी थाना क्षेत्र के नागेश्वर कॉलोनी का रहने वाला है.

पटना से अनिल की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News