साइबर क्राइम करने वालों की खैर नहीं, यूपी-झारखंड से मिलकर काम करेगी बिहार पुलिस

साइबर क्राइम करने वालों की खैर नहीं, यूपी-झारखंड से मिलकर काम करेगी बिहार पुलिस

पटना: साइबर क्राइम की घटनाये दिन प्रति दिन बढती जा रहीं है जानकारी के मुताबिक साइबर क्राइम की बढ़ती घटनाओं पर रोक के लिए बिहार पुलिस सीमावर्ती राज्यों के साथ मिलकर काम करेगी. खासकर 'जामताड़ा गैंग'  सरीखे अपराधियों को पकड़ने के लिए झारखंड , पश्चिम बंगाल , उत्तर प्रदेश और बिहार की टीम मिलकर काम करेगी. 

गुरुवार को आर्थिक अपराध इकाई (ईओयू) के एडीजी नैयर हसनैन खान ने इसको लेकर पुलिस पदाधिकारियों के साथ बैठक भी की. उन्होंने बताया कि साइबर फ्रॉड खासकर जामताड़ा के गैंग की ओर से किए जा रहे अपराध को लेकर जनवरी में झारखंड में केंद्रीय टीम की मीटिंग हुई थी. इसमें बिहार से ईओयू के पदाधिकारी भी शामिल हुए थे. इस बैठक में साइबर फ्रॉड को लेकर सीमावर्ती राज्यों को मिल-जुलकर काम करने को कहा गया था. हर राज्य की ओर से एसपी रैंक के एक नोडल पदाधिकारी बनाने का भी निर्देश मिला था. 

इसके बाद पुलिस मुख्यालय की ओर से नालंदा एसपी को नोडल पदाधिकारी बनाया गया है.वहीं एडीजी ने बताया कि बिहार में साइबर फ्रॉड के सबसे अधिक मामले गया, नवादा, नालंदा और जमुई जिले में रिकॉर्ड किए गए हैं. ईओयू की टीम इन मामलों का अध्ययन कर रही है. इसकी पड़ताल को जिला पुलिस की मदद ली जा रही है. जरूरत होने पर सीमावर्ती राज्यों की पुलिस की भी मदद ली जाएगी. अगर अलग अलग राज्य की पुलिस इसी तरह मिलकर काम करेगे तो जल्द ही साइबर क्राइम करने वाले पर पुलिस के गिरफ्त में आ जायेंगे. 


Find Us on Facebook

Trending News