संबित पात्रा ने बिहार की मिट्टी को किया नमन- आपातकाल के विरुद्ध बिहार ने शुरू किया था संघर्ष तभी हुआ लोकतंत्र का दोबारा शंखनाद

संबित पात्रा ने बिहार की मिट्टी को किया नमन- आपातकाल के विरुद्ध बिहार ने शुरू किया था संघर्ष तभी हुआ लोकतंत्र का दोबारा शंखनाद

पटना. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को मन की बात की में वर्ष 1975 में देश पर इंदिरा सरकार द्वारा लागू किए गए आपातकाल का जिक्र करते हुए इसे भारत के इतिहास का काला अध्याय बताया. पटना में भाजपा नेताओं के साथ मन की बात सुन रहे भजपा के रष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा कि मेरे लिए सौभाग्य का विषय है कि आज बिहार में मेरा आगमन हुआ है. आज यहां बिहार भाजपा के नेताओं के साथ मन की बात सुना. संघर्ष के बाद किस प्रकार देश की जनता ने लोकतंत्र को स्थापित किया उसके विषय में पीएम मोदी ने मन की बात में बताया. 

उन्होंने कहा कि बिहर की मिटटी को नमन करता हूँ क्योंकि आपातकाल के विरुद्ध बिहार की मिटटी ने युद्ध शुरू किया था. यह पावन मिटटी है. मैं धन्य मानता हूँ कि आज यहां आया हूँ. जहाँ से लोकतंत्र का दोबारा शंखनाद हुआ. उन्होंने कहा कि आज पीएम ने भी 1975 में हमारे माता-पिता ने जो आपातकाल देखा है उसका उन्होंने जिक्र किया.

मन की बात को भाजपा के प्रदेश कार्यालय में सुना गया. कार्यक्रम में प्रदेश अध्यक्ष संजय जसवाल, राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा, विधायक नन्द किशोर यादव, भिखूभाई दलसानिया, नगेंद्र सिंह के साथ-साथ बीजेपी के कई कार्यकर्ता और नेता मौजूद रहे. प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल ने कहा कि मन की बात में आज प्रधानमंत्री ने भी आपातकाल को बताया ऐसे में उन दिनों को लोग कैसे भूल सकते हैं.


Find Us on Facebook

Trending News