तो वो उन्हें मरने नहीं देते, बचाने के लिए जान पर खेल जाते....जी. कृष्णैया की हत्या को लेकर बोलीं लवली आनंद

तो वो उन्हें मरने नहीं देते, बचाने के लिए जान पर खेल जाते....जी. कृष्णैया की हत्या को लेकर बोलीं लवली आनंद

PATNA : एक डीएम की हत्या के आरोप में उम्र कैद की सजा काटकर रिहा हुए बाहुबली सांसद आनंद मोहन के मुद्दे पर सबकी अलग-अलग राय है। कोई उनकी रिहाई को गलत बता रहा है, तो कोई उनके समर्थन में दिख रहा है। इस बीच अब गोपालगंज डीएम जी कृष्णैया की हत्या और उसमें आनंद मोहन की भूमिका को लेकर लवली आनंद ने भी बड़ी बात कही है। 

पति के जेल से रिहा होने पर बेहद खुश दिख रहीं व पूर्व सांसद लवली आनंद ने कहा कि हमने 15 साल मुश्किल से काटा है। उनकी रिहाई हमारे लिए और समर्थकों के लिए खुशी की बात है।

दो परिवारों ने झेला सबसे ज्यादा दुख

लवली आनंद ने आगे कहा कि आइएएस जी कृष्णैया जी की हत्या होने के बाद दो परिवारों ने सबसे ज्यादा दुख झेला। आनंद मोहन निर्दोष होते हुए जेल चले गए। उधर, उमा कृष्णैया का सुहाग उजड़ गया। जी कृष्णैया जी ईमानदार अफसर थे। इसका हमें भी बहुत दुख है। हमारे सामने ये घटना होती तो आनंद मोहन और हम जरूर जान पर खेलकर जी कृष्णैया की रक्षा करने की कोशिश करते हैं। उन्होंने आगे कहा कि हमलोग स्वतंत्रता सेनानी परिवार से आते हैं। हमने हमेशा कानून का पालन किया है। इसलिए कोर्ट के फैसले के बाद आनंद मोहन जेल चले गए।

50 किमी दूर थे आनंद मोहन

बता दें 5 दिसंबर 1994  को गोपालगंज डीएम जी कृष्णैया की भीड़ ने पत्थरों से मारकर हत्या कर दी थी, जब यह घटना हुई, उस समय आनंद मोहन मौका-ए-वारदात से लगभग 50 किमी दूर मौजूद थे। हालांकि इसके बाद भी यह माना गया कि आनंद मोहन की उकसाई भीड़ ने ही डीएम की हत्या की, ऐसे में बाहुबली सांसद को दोषी बताया गया।


Find Us on Facebook

Trending News