खबर के बाद जागे? 'नीतीश' के खिलाफ आज सुशील मोदी ने संभाला था मोर्चा, पीछे रह गये तारकिशोर प्रसाद अब आज देंगे CM को जवाब

खबर के बाद जागे? 'नीतीश' के खिलाफ आज सुशील मोदी ने संभाला था मोर्चा, पीछे रह गये तारकिशोर प्रसाद अब आज देंगे CM को जवाब

PATNA: न्यूज4नेशन की खबर के बाद बीजेपी कोटे से डिप्टी सीएम रहे तारकिशोर प्रसाद जागे. लेकिन तब तक देर हो चुकी थी। तारकिशोर प्रसाद भले ही विधायक दल के नेता हों, लेकिन नीतीश कुमार को घेरने में सुशील मोदी ने बिहार बीजेपी में अपनी उपयोगिता फिर से साबित कर दी। सुशील मोदी के सनसनीखेज खुलासे के बाद जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष को जवाब देने पर विवश होना पड़ा। सुशील मोदी ने बुधवार को बीजेपी प्रदेश कार्यालय में प्रेस कांफ्रेंस कर नीतीश कुमार को जमकर घेरा। मोदी ने खुलासा कर सनसनी फैला दी कि नीतीश कुमार उप राष्ट्रपति बनना चाहते थे। जब हमारा शीर्ष नेतृत्व इसके लिए तैयार नहीं हुआ तो उन्होंने नाता तोड़ लिया। 

पिछड़ रहे तारकिशोर प्रसाद 

बता दें, बिहार विधानसभा चुनाव 2020  के परिणाम बाद बीजेपी नेतृत्व ने वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी को साइड कर तारकिशोर प्रसाद को विधायक दल का नेता बनाया था। जो नेता न कभी संगठन में बड़े पद पर रहे न मंत्री बने उस पर भाजपा नेतृत्व ने बड़ी जिम्मेदारी सौंपी थी। भाजपा नेतृत्व ने तारकिशोर प्रसाद को नीतीश कुमार की सरकार में सीधे डिप्टी सीएम की कुर्सी दी थी। अब नीतीश कुमार ने भाजपा को सत्ता से बेदखल कर दिया है। भाजपा अब विपक्ष में आ गई। लेकिन बीजेपी नेतृत्व ने जिस तारकिशोर प्रसाद पर बड़ी जिम्मेदारी दी थी वो कसौटी पर खरे नहीं उतर सके। नीतीश कुमार द्वारा सत्ता से बेदखल किये जाने के बाद जवाब देने तारकिशोर प्रसाद नहीं बल्कि सुशील कुमार मोदी मैदान में उतरे हैं। नेतृत्व के इशाले पर सुशील मोदी को मैदान में उतारा गया है। मोदी ने अपने पुराने दोस्त नीतीश कुमार को लेकर कई बड़े खुलासे कर राजनीतिक गलियारे में उन्हें कटघरे में खड़ा कर दिया है। सुशील मोदी के एक बार फिर से सक्रिय होने के बाद पूर्व डिप्टी सीएम व भाजपा विधायक दल के नेता तारकिशोर प्रसाद भी प्रेस कांफ्रेंस करेंगे। वे गुरूवार 11 बजे भाजपा प्रदेश कार्यालय में प्रेस कांफ्रेंस कर नीतीश कुमार पर निशाना साधेंगे। बिहार बीजेपी की तरफ से यह जानकारी दी गई है। 

नीतीश कुमार धोखेबाज-मोदी 

नीतीश कुमार के एनडीए से संबंध तोड़ने के बाद सुशील मोदी ने प्रदेश कार्यालय में प्रेस कांफ्रेंस कर मुख्यमंत्री की पोल खोली। मोदी ने तमाम आरोपों का सिलसिलेवार जवाब देते हुए नीतीश कुमार को धोखेबाज बताया। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार के निकटस्थ जदयू नेताओं ने हाल ही भाजपा के शीर्ष नेतृत्व से नीतीश कुमार को उप राष्ट्रपति बनाने की बात कही थी. हालांकि भाजपा ने इस पर विचार नहीं किया. हमारे पास बहुत है तो हम किसी दूसरे दल के नेता को क्यों उप राष्ट्रपति बनाते? नीतीश के एनडीए से नाता तोड़कर राजद के साथ जाने का यह एक प्रमुख कारण रहा. 

सफेद झूठ बोले रहे सीएम नीतीश -मोदी 

उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार ने एनडीए से नाता तोड़ने के दौरान कई सफेद झूठ बोला है. नीतीश का कहना है कि बिना उनकी सहमति के आरसीपी सिंह को मोदी मंत्रिमंडल में मंत्री बनाया गया, जो सरासर झूठ है. सुशील मोदी ने कहा कि जब 2019 में नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री पद की शपथ ले रहे थे तब एनडीए के घटक दल के रूप में जदयू को एक मंत्री पद देने की बात हुई थी. लेकिन, नीतीश कुमार ने कहा था कि हमारे दल में किसी के नाम पर सहमति नहीं है. दूसरी बार जब मोदी मंत्रिमंडल का विस्तार हुआ तब गृह मंत्री अमित शाह ने नीतीश कुमार को फोन कर उनके दल से मंत्री बनने वाले का नाम पूछा. सुशील मोदी ने दावा किया कि नीतीश कुमार ने आरसीपी सिंह को मंत्री बनाने की सहमति दी और यह भी कहा कि इससे ललन सिंह कुछ नाराज होंगे. वहीं अब आरसीपी सिंह को लेकर नीतीश सफेद झूठ बोल रहे हैं कि बिना उनकी सहमति के वे मंत्री बने.  

नीतीश कुमार को जवाब देने के लिए होमवर्क जरूरी 

जानकार बताते हैं कि बिहार बीजेपी ने जिस नेता पर दांव लगाया था वो नीतीश कुमार को जवाब देने में असफल रहे। आखिर असफल हों भी क्यों नहीं....सामने अगर नीतीश कुमार हों तो जवाब देने के लिए होमवर्क जरूरी होता है।यही वजह है कि तारकिशोर प्रसाद की बजाय नेतृत्व ने सुशील मोदी को आगे किया। सुशील मोदी को जो जिम्मेदारी दी गई थी उसे पूरा भी किया और एक-एक कर नीतीश कुमार की पोल खोली.  

नीतीश कुमार के एनडीए से बाहर होने के बाद मंगलवार को प्रदेश कार्यालय में तारकिशोर प्रसाद प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल के साथ प्रेस कांफ्रेंस में शामिल हुए थे। लेकिन वे नीतीश कुमार को लेकर पीसी में एक शब्द भी नहीं बोले।

Find Us on Facebook

Trending News