जनता द्वारा नकारे गए पारिवारिक पार्टियों और नेताओं को जातीय उन्माद का सहारा, विकास में बनेगें बाधक : अरविन्द सिंह

जनता द्वारा नकारे गए पारिवारिक पार्टियों और नेताओं को जातीय उन्माद का सहारा, विकास में बनेगें बाधक : अरविन्द सिंह

PATNA : भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता अरविन्द कुमार सिंह ने कहा है कि जनता द्वारा नकारे गए पारिवारिक पार्टियां और नेताओं ने  विकास के दौड़ में कमजोर पड़ने पर अब जातीय उन्माद फैलाकर अपने सियासी रोटी सेकने के लिए लालायित हैं और जनता को भ्रम में डालने के प्रयास में लगे हैं।

दो-तीन दशकों तक केंद्र और राज्य के सत्ता में रहने के बाद भी जो काम कांग्रेस पार्टी और उनके सहयोगी दलों द्वारा न कर सके। वें आज एनडीए सरकार पर दबाव बनाने का काम कर रही हैं कि उनकी जात के नाम पर धर्म के नाम पर जातीय सियासी रोटी  सेकीं जा सके।  जो जरूरी विकास का काम था शिक्षा स्वास्थ्य रोजगार और जनसंख्या नियंत्रण उसको करने में यह सारे दल असफल रहे, यह देश के विकास की गति को रोकने में सफल रहे और अब जनता से नाउम्मीद हो करके पुनः एक बार जातीय और धार्मिक उन्माद के सहारे पर राजनीतिक दांव लगा रहे हैं।

भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि देश की जनता विकास की दौड़ में बहुत आगे निकल चुकी है, वह पीछे मुड़कर के अब जातीय और धार्मिक उन्माद में फंसने वाली नहीं है।  अब वह डॉक्टर इंजीनियर वं आईएमए, आईआईटी, हवाई अड्डे ऐम्स,सड़क, स्वास्थ्य, चिकित्सा, वैक्सीन और जमीन से लेकर के अंतरिक्ष तक का विकास देख रही है, और रोजगार के अवसर देख रही है।

 अब जात पात का दौर समाप्त हो चुका है, देश की जनता अब जात-पात और धार्मिक उन्माद से ऊपर उठकर के विकास के राह पर चलने के लिए तत्पर है। वह सबका साथ और सबका विकास देखना चाहती है और वह राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और बाबा साहब भीमराव अंबेडकर और स्व पं दीनदयाल उपाध्याय एवं स्व श्यामा प्रसाद मुखर्जी जी के के सपनों को साकार करने में लगी हैं।

Find Us on Facebook

Trending News