राजद की मंशा पर फिरा पानी, आयोग के फैसले से स्वतंत्र और सुरक्षित चुनाव के प्रति बढ़ा जनता का भरोसा : सुशील मोदी

राजद की मंशा पर फिरा पानी, आयोग के फैसले से स्वतंत्र और सुरक्षित चुनाव के प्रति बढ़ा जनता का भरोसा : सुशील मोदी

Patna : बिहार विधान सभा चुनाव को लेकर चुनाव आयोग ने गाइड लाइन जारी किया है। इधर चुनाव आयोग द्वारा गाइडलाइन जारी किये जाने पर बिहार के सत्ताधारी बीजेपी में खुशी व्याप्त है। साथ ही बीजेपी द्वारा कोरोना काल में चुनाव का विरोध कर रहे राजद पर निशाना साधा गया है। 

बिहार के डिप्टी सीएम व बीजेपी के वरिष्ठ नेता सुशील मोदी ने इसे लेकर ट्वीट किया है। जिसमें उन्होंने लिखा है.... चुनाव आयोग ने बिहार में चुनाव के लिए दिशा-निर्देश जारी कर अनिश्चितता की स्थिति समाप्त कर दी। आयोग की गाइड लाइन से स्पष्ट है कि कोरोना काल में मतदाताओं की सुरक्षा का पूरा ध्यान रखा जाएगा। 

उन्होंने लिखा है .....कोरोना के बहाने राजद चाहता था कि चुनाव टल जाएँ या मतदान हों, तो बैलेट पेपर के जरिये ताकि लाठी में तेल पिलाने वाली पार्टी को बूथलूट का मौका मिले। आयोग ने राजद की मांग ठुकरा कर निष्पक्ष , स्वतंत्र और सुरक्षित चुनाव के प्रति जनता का भरोसा बढ़ाया। 

डिप्टी सीएम ने आगे लिखा है......बिहार की पहली एनडीए सरकार ने स्कूलों मे छात्र-शिक्षक अनुपात को ठीक करने के लिए निश्चित वेतन पर शिक्षकों की नियुक्तियां कीं और दो चरणों में 3 लाख से ज्यादा शिक्षित बेरोजगार युवाओं को टीचर बनने का अवसर दिया था। 15 साल में इन शिक्षकों की सेवाशर्तों में काफी सुधार हुआ। वेतन 5 हजार से बढ़ कर 25 हजार तक हो गया। जनता ने फिर सेवा का मौका दिया, तो शिक्षकों की बाकी अपेक्षाएँ भी एनडीए सरकार ही पूरी करेगी। 

लालू- राबड़ी राज में सरकारी स्कूलों का बुरा हाल था। वर्षों से टीचर भर्ती नहीं हुई थी और जो नियुक्त थे, उन्हें मुश्किल से वेतन मिलता था। एनडीए सरकार  आने पर जब नियुक्तियां शुरू हुई थीं, तब चरवाहा विद्यालय खोलवाने वाले लालू प्रसाद ने शिक्षक अभ्यर्थियों की योग्यता पर सवाल उठाये थे। आज उनकी पार्टी उन्हीं नियोजित शिक्षकों के एक वर्ग को सरकार के विरुद्ध उकसा कर चुनाव जीतना चाहती है, लेकिन शिक्षक अपने हित-अहित को समझने में गलती नहीं करेंगे।

Find Us on Facebook

Trending News