विधानसभा चुनाव में बुरी तरह हारे स्वामी प्रसाद मौर्य अब पिछले दरवाजे से जाएंगे विधानमंडल, जानें कैसे होगा यह

विधानसभा चुनाव में बुरी तरह हारे स्वामी प्रसाद मौर्य अब पिछले दरवाजे से जाएंगे विधानमंडल, जानें कैसे होगा यह

DESK : यूपी विधानसभा चुनाव में योगी आदित्यनाथ को शिकस्त देने के लिए सपा के साथ गए स्वामी प्रसाद मौर्य एक बार फिर चर्चा में हैं। चुनाव में भले ही भाजपा को पटखनी देने में उन्हें कामयाबी नहीं मिली हो और खुद चुनाव हार गए हों, लेकिन अखिलेश यादव ने उनके सदन में जाने के दूसरे रास्ते खोल दिए हैं। अखिलेश यादव ने उन्हें विधान परिषद के लिए पार्टी का कैंडिडेट बनाया है। पूर्व कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य सात जून को नामांकन कर सकते हैं। 

बता दें कि छह जुलाई को यूपी विधान परिषद के 13 सदस्यों का कार्यकाल खत्म होने जा रहा है, जिसके लिए 20 जून को चुनाव होना है। इनमें छह सीटें सपा, भाजपा और बसपा तीन-तीन और कांग्रेस की एक सीट शामिल है। एमएलसी चुनाव के लिए नामांकन पत्र नौ जून तक भरे जाएंगे।

इन 13 सीटों में छह सीटें तब सपा के हिस्से में आयी थी, जब अखिलेश खुद यूपी के सीएम थे। लेकिन अब स्थिति बदल गई है। फिलहाल, योगी की सरकार है और विधानसभा में भाजपा विधायकों की संख्या के आधार पर 13 में नौ सीटें भाजपा के हिस्से में जाएगी. वहीं सिर्फ चार सीटें सपा के हिस्से में  आएगी। 

फिलहाल समाजवादी पार्टी ने विधान परिषद चुनाव में स्वामी प्रसाद मौर्य और सोबरन सिंह यादव के नाम पर मुहर लगा दी है। वहीं दो सीटों के नाम पर माथापच्ची की जा रही है। सपा की सहयोगी सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) भी एक सीट लेने के लिए दबाव बना रही है।

Find Us on Facebook

Trending News