'जनता के दरबार में मुख्यमंत्री कार्यक्रम में शामिल हुए मुख्यमंत्री, 77 लोगों की सुनी समस्यायें, अधिकारियों को दिए आवश्यक दिशा निर्देश

'जनता के दरबार में मुख्यमंत्री कार्यक्रम में शामिल हुए मुख्यमंत्री, 77 लोगों की सुनी समस्यायें, अधिकारियों को दिए आवश्यक दिशा निर्देश

पटना. मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार ने नए साल पर सोमवार को  'जनता के दरबार में मुख्यमंत्री कार्यक्रम में फरियादियों की समस्याओं को सुना। 'जनता के दरबार में मुख्यमंत्री कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने राज्य के विभिन्न जिलों से पहुंचे 77 लोगों की समस्याओं को सुना और संबंधित विभागों के अधिकारियों को समाधान के लिए समुचित कार्रवाई के निर्देश दिए। आज 'जनता के दरबार में मुख्यमंत्री कार्यक्रम में सामान्य प्रशासन विभाग, गृह विभाग, राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग, मद्य निषेध, उत्पाद एवं निबंधन विभाग, निगरानी विभाग, खान एवं भूतत्व विभाग, निर्वाचन विभाग तथा मंत्रिमंडल सचिवालय विभाग एवं संसदीय कार्य विभाग से संबंधित मामलों पर सुनवाई हुयी। मुजफ्फरपुर जिला से आयी एक लड़की ने मुख्यमंत्री से गुहार लगाते हुए कहा कि मेरे इकलौते इंजीनियर भाई की षड्यंत्र के तहत दो साल पहले हत्या कर दी गई थी। अब तक दोषी की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है वहीं दूसरी महिला ने गुहार लगाते हुए कहा कि वर्ष 2021 में मेरे बेटे की हत्या कर दी गई है, लेकिन आज तक अपराधी की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है। मुख्यमंत्री ने पुलिस महानिदेशक को उचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया। 

बक्सर जिला से एक किसान ने मुख्यमंत्री से गुहार लगाते हुए कहा कि कर्मनाशा नदी से बालू के अवैध उत्खनन पर रोक लगायी जाए हमलोगों की खेती की जमीन इससे प्रभावित हो रही है, जिससे हमलोग परेशान हैं। मुख्यमंत्री ने खान एवं भूतत्व विभाग को समुचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया। लखीसराय जिला से आए एक किसान ने आग्रह करते हुए मुख्यमंत्री से कहा कि मेरे दो बिगहा जमीन को दबंगों द्वारा कब्जा कर लिया गया है। दबंग लोग धमकाते हैं। थाने में शिकायत करने पर कोई कार्रवाई नहीं होती है। वहीं सहरसा जिले से आए एक बुजुर्ग ने मुख्यमंत्री से गुहार लगाते हुए कहा कि उनके निजी जमीन को दबंगों द्वारा रास्ता के नाम कब्जा कर लिया गया है मेरे सारे ओरिजिनल कागजात को देखकर मेरे जमीन को घेरवा दिया जाए। मुख्यमंत्री ने संबंधित मामलों पर पुलिस महानिदेशक को उचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया।

किशनगंज जिला से आए एक युवा ने मुख्यमंत्री से आग्रह करते हुए कहा कि सरकारी रास्ते को कुछ भू-माफियाओं द्वारा कब्जा किया जा रहा है। अधिकारियों को सूचना देने के बाद भी किसी प्रकार की कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। मुख्यमंत्री ने संबंधित विभाग को उचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया। पश्चिमी चंपारण जिला से आयी एक महिला ने मुख्यमंत्री से गुहार लगाते हुए कहा कि उसे और उसके बच्चे को पति, सास-ससुर द्वारा मारपीट कर घर से बाहर निकाल दिया गया है। वहीं दूसरे फरियादी ने गुहार लगाते हुए कहा कि दबंगों ने उनकी जमीन को कब्जा कर लिया और मेरे बेटे की जमकर पिटाई की, प्रशासन को सूचना देने के बाद अब तक कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। मुख्यमंत्री ने पुलिस महानिदेशक को उचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया।

भागलपुर जिला से आयी एक महिला ने मुख्यमंत्री से गुहार लगाते हुए कहा कि मेरे निजी जमीन पर ही नल जल योजना के तहत पानी टंकी बना दिया गया है। शिकायत करने पर मारपीट किया जाता है। वहीं दूसरे फरियादी ने कहा कि पुश्तैनी जमीन को दबंगों ने कब्जा कर लिया है, खाली करने के लिए कहने पर जान से मारने की धमकी दी जा रही है। मुख्यमंत्री ने संबंधित विभाग को उचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया। समस्तीपुर से आए एक फरियादी ने मुख्यमंत्री से गुहार लगाते हुए कहा कि चुनाव के दौरान किए गए काम के एवज में अबतक राशि का भुगतान नहीं किया है। मुख्यमंत्री ने संबंधित विभाग को मामले की जांचकर उचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया। सीतामढ़ी जिला से आए एक युवक ने मुख्यमंत्री से गुहार लगाते हुए कहा कि सड़क के लिए ली गई मेरी जमीन का अब तक मुआवजे का भुगतान नहीं किया गया है। मुख्यमंत्री ने संबंधित विभाग को जांचकर उचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया।

सारण जिला से आए एक पिता ने मुख्यमंत्री से गुहार लगाते हुए कहा कि वर्ष 2019 में मेरी बेटी की शादी के 15 दिन के अंदर ही उसके ससुराल वालों ने उसकी हत्या कर दी थी। हत्यारे अभी भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं। मुख्यमंत्री ने पुलिस महानिदेशक को उचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया। मधुबनी से आए एक फरियादी ने मुख्यमंत्री से गुहार लगाते हुए कहा कि भूदान में मुझे मिली जमीन पर मेरे बने मकान को तोड़कर दूसरे को जमीन आवंटित कर दिया गया 1 मुख्यमंत्री ने संबंधित विभाग को जांचकर उचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया। नालंदा जिला से आए फरियादी ने मुख्यमंत्री से शिकायत करते हुए कहा कि उनके गांव के आहर की खुदाई अवैध तरीके से किया जा रहा है और पेड़ों को नष्ट किया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने संबंधित विभाग को उचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया। पूर्वी चंपारण जिला से आयी एक महिला ने मुख्यमंत्री से गुहार लगाते हुए कहा कि मेरे चार पुत्र हैं मेरे बड़े बेटे ने अपनी बहू के नाम पर जमीन लिख दिया है। मुझे संपत्ति से बेदखल कर दिया गया है। मुख्यमंत्री ने संबंधित विभाग को उचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया।

'जनता के दरबार में मुख्यमंत्री कार्यक्रम में वित्त, वाणिज्य कर एवं संसदीय कार्य मंत्री विजय कुमार चौधरी, राजस्व एवं भूमि सुधार मंत्री आलोक कुमार मेहता, खान एवं भूतत्व मंत्री रामानंद यादव, मद्य निषेध, उत्पाद एवं निबंधन मंत्री सुनील कुमार, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव दीपक कुमार, मुख्य सचिव आमिर सुबहानी, पुलिस महानिदेशक आर०एस० मट्ठी संबंधित विभागों के अपर मुख्य सचिव / प्रधान सचिव / सचिव, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव डॉ० एस० सिद्धार्थ, मुख्यमंत्री के सचिव अनुपम कुमार, मुख्यमंत्री के विशेष कार्य पदाधिकारी गोपाल सिंह, पटना के जिलाधिकारी चंद्रशेखर सिंह तथा वरीय पुलिस अधीक्षक मानवजीत सिंह ढिल्लो उपस्थित थे।

Find Us on Facebook

Trending News