भारतीय सीमा से आर्मी को हटाने की मंशा लेकर पहुंची चीनी सेना इंडियन आर्मी का नहीं कर सकी मुकाबला, लौटने को किया मजबूर

भारतीय सीमा से आर्मी को हटाने की मंशा लेकर पहुंची चीनी सेना इंडियन आर्मी का नहीं कर सकी मुकाबला, लौटने को किया मजबूर

DESK :एक तरफ चीन भारत के साथ अपने व्यापारिक रिश्ते को बेहतर करने की कोशिश कर रहा है। वहीं दूसरी तरफ वह लगातार अरुणाचल प्रदेश (Arunachal Pradesh) के तवांग (Tawang) में घुसपैठ करने की कोशिश करता रहा है। बीते 9 दिसंबर को भी चीनी सेना अपने 300 जवानों के साथ तवांग में पहुंच गया। जिसमें बताया जा रहा है कि भारतीय सैनिकों से उनकी मुठभेड़ भी हुई है। हालांकि अच्छी बात यह है कि भारत के वीर बहादुरों ने चीनी सेना को कदम पीछे लेने के लिए मजबूर कर दिया। इस मुठभेड़ में भारत के कुछ जवान भी घायल बताए जा रहे हैं। 

 इस मुठभेड़ को लेकर भारतीय सेना (Indian Army) ने एक बयान जारी किया है। जिसमें मुठभेड़ की जानकारी दी गई है। बताया गया कि यह झड़प 9 दिसंबर 2022 को तवांग जिले के यंगस्ते में हुई है। चीन की पीपुल्स लिब्रेशन आर्मी (PLA) LAC तक पहुंची थी, जिसका भारतीय सेना ने मजबूती के साथ विरोध किया। चीनी सैनिक भारतीय चौकी को हटाना चाह रहे थे। हमने उन्हें खदेड़ा। इस दौरान दोनों देशों के सैनिकों को हल्की चोटें आई हैं। सेना ने अपने बयान में कहा कि भारतीय सैनिकों ने चीनी सैनिकों का बहादुरी से मुकाबला किया और उनकी साजिशों को नाकाम किया।

लगभग 300 चीनी सैनिक अपनी तैयारी से आए थे लेकिन भारतीय सेना के जवानों ने उन्हें मुंहतोड़ जवाब दिया। हालांकि चीनी सैनिकों को भारत की तरफ से इस सख्त प्रतिक्रिया की उम्मीद नहीं थी।

खबर सामने आने के बाद शुरू हुई राजनीति

भारत और चीन के सैनिकों के बीच हुई झड़प पर कांग्रेस (Congress) ने एक ट्वीट कर कहा, “अरुणाचल प्रदेश के तवांग सेक्टर में भारत-चीन के सैनिकों के बीच झड़प की खबर है। वक्त आ गया है कि सरकार ढुलमुल रवैया छोड़कर सख्त लहजे में चीन (China) को समझाए कि उसकी यह हरकत बर्दाश्त नहीं की जाएगी।”

इसके अलावा कांग्रेस ने पीएम नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) का एक वीडियो शेयर कर लिखा, “अगर ये गलती न की होती। चीन का नाम लेने से डरे न होते तो आज चीन की हैसियत नहीं थी कि हमारे देश की तरफ आंख उठाकर देखे। हमारी जमीन पर कब्जा करना, हमारी जमीन पर आकर हमारे सैनिकों से झड़प करना तो दूर की बात है। अब भी वक्त है… डरो मत!”

बता दें पिछले साल अक्टूबर में भी भारतीय सैनिकों ने इसी क्षेत्र में चीनी सेनाको रोका था। दरअसल उस समय अरुणाचल प्रदेश में लगभग चीनी आर्मी के 200 जवान LAC के पास आना चाह रहे थे, जिन्हें भारतीय सेना के जवानों ने खदेड़ा था।


Find Us on Facebook

Trending News