खटिया पर मरीज को लेकर जाने की मजबूरी, आज़ादी के बाद अब गांव के लोगों को नसीब नही हुई सड़कें, ट्रेडिशनल युग में जीते हैं लोग

खटिया पर मरीज को लेकर जाने की मजबूरी,  आज़ादी के बाद अब गांव के लोगों को नसीब नही हुई सड़कें, ट्रेडिशनल युग में जीते हैं लोग

GAYA : बिहार के गया ज़िला के अतिनक्सल प्रभावित क्षेत्र इमामगंज के मल्हारी पंचायत के लूटटी टांड गांव में आज़ादी के कई दशकों के बाद भी सड़क  नहीं बन सकी। सड़क से वंचित लोगों को उनकी बर बीमारी में देखा गया के देहाती जुगाड़ खटिया पर टांग कर लेजाते देखा गया। जहां लूटटी टांड के पीड़ित खटिया पर मरीज़ को टांग कर ले जा रहे  लोगों ने बताया कि आज़ादी के बाद यही हालात का सामने करते आए हैं।

यहां के लोगों ने बताया कि मल्हारी गांव से लूटटी टांड की दूरी करीब 4.50 किलोमीटर है। और 60 से 80 घर की आबादी है। लेकिन सरकार की सभी योजनाओं से वंचित हैं। वहां के लोग आजतक पकिया सड़क पर चलने के लिए सपना ही देखते हैं। वहां के लोग हकीकत में सड़क पर चलना चाहते हैं। लेकिन  सरकारी कोई भी मदद नहीं मिल पा रही है। सड़क नहीं होने के  कारण कई को जान गवानी पड़ जाती है। खास कर प्रसूता महिलाओं को जान गवानी पड़ गई है। आज भी वहां वाहन जाने की बात तो दूर की बात है साइकिल तक जाने का रास्ता नहीं है। केवल पैदल ही जाने का रास्ता है। आपात स्थिति में मरीज़ को खटिया पर टांग कर लाने के एलावे अन्य कोई विकल्प नहीं है।

गांव में ही जन्म लेना और गांव में ही मर जाना, यही नियति

 वहां के कुछ लोगों ने बताया के पहाड़ी क्षेत्र है। चारों तरफ से जंगल से गांव घिरा है। नक्सलियों का बहूल्य क्षेत्र माना जाता है, दूर दूर तक शिक्षा का कोई साधन नहीं है। यहां का लोग लूटटीटांड गांव में ही जन्म लेता है,और यहीं मृत्यु होजाती है और कुछ शिक्षा के अभाव में मुख्यधारा से भटक कर नक्सली संगठन में शामिल हो जाते हैं। जो पुलिस प्रशासन के लिए रोड़ा बन जाते हैं। फिर सरकार करोड़ों  खर्च कर नक्सली के विरुद्ध पुलिस बल तैयार करती है। अगर वही रुपया से सरकार क्षेत्र के विकास में लगा दें तो वंचित लोग  में जागरूकता आएगी और देश प्रदेश के विकास में योगदान भी मिलेगा।

 लोगों की मांग है कि गया ज़िला प्रशासन व बिहार सरकार सड़क निर्माण करा दे, जो लूटटी टांड गांव के लोगों का सपना सड़क पर चलने का हकीकत में बदल जाएगा। साथ मे यह भी जानकारी प्राप्त हुई के सड़क का टेंडर हो चुका है, पर निर्माण के लिए अभी तक इसके आगे कोई काम नहीं हुआ। इस पर समाज व मानव की समस्या पर खरे उतरने वाले जिलाधिकारी  अभिषेक सिंह को ध्यान देते हुए, शीघ्र सड़क निर्माण करा कर लूटटी टांड गांव के लोगों को सौगात देने की ज़रूरत है। वहीं नवनिर्वाचित मुखिया पति विजय कुमार यादव ने बताया के फतेहपुर गांव से लूटटी टांड गांव जाने वाले रास्ते का लिख कर दिया था। जिसका टेंडर हो चुका है,उन्हों ने बताया के यह वन विभाग क्षेत्र में आता है। जो ज़िला प्रशासन को शीघ्र निर्माण करने की ज़रूरत है।


REPORTED BY MANOJ KUMAR SINGH

Find Us on Facebook

Trending News