आरा में निजी क्लिनिक के स्टाफ की हैवानियत, बिना बताये किशोर के शव को किया बाहर, परिजनों ने किया जमकर बवाल

आरा में निजी क्लिनिक के स्टाफ की हैवानियत, बिना बताये किशोर के शव को किया बाहर, परिजनों ने किया जमकर बवाल

ARA : आरा के महावीर टोला स्थित डॉक्टर महावीर प्रसाद की क्लिनिक मे उस समय अफरा तफरी का माहौल कायम हो गया। जब इलाज के क्रम मे एक 17 वर्षीय किशोर की मौत हो गई। किशोर की मौत के बाद निजी नर्सिंग होम के डॉक्टर और उसके स्टाफ ने हैवानियत की सारे हदें पार करते हुए मृत युवक के परिजनों को बिना सूचना दिए ही शव को नर्सिंग होम के पिछले दरवाजे से स्ट्रेचर पर रख क्लिनिक से बाहर निकाल दिया। 


इसकी सूचना जैसे ही परिजनों को मिली। मौके पर पहुँचे परिजनों ने इस प्रकार की गई डॉक्टर महावीर प्रसाद के कुकृत्य को देख कर नाराज हो गए और नर्सिंग होम मे हंगामा करते हुए तत्काल महावीर टोला सड़क पर शव को रख सड़क जाम कर डॉक्टर महावीर प्रसाद के उपर कार्रवाई करने की मांग करने लगे। जाम की वजह से देखते ही देखते सड़क पर गाड़ियों की लंबी कतार लग गई। अंत मे मौके पर पहुंचे भोजपुर जिलाधिकारी के अश्वासन के बाद जाम को हटाया गया। 

जिलाधिकारी ने मृतक के परिजनों से आवेदन लेकर कारवाई करने का भरोसा दिया। दरअसल चरपोखरी थाना के मलौर निवासी धनंजय पांडे का 17 वर्षीय पुत्र निलेश पांडे शुक्रवार दोपहर सड़क हादसे में घायल हो गया था। हादसे में उसके दाहिने पैर की हड्डी टूट गई थी। जिसके बाद उसके परिजनों ने उसे आरा सदर अस्पताल में भर्ती कराया। 

मृतक के घरवालों के मुताबिक सदर अस्पताल में कार्यरत डॉ0महावीर गुप्ता ने शुरुआती इलाज किया। जिसके बाद कुछ दलाल उन्हें बहला कर डॉ0महावीर गुप्ता के निजी अस्पताल ले गए। जहां उनसे पैसे भी लिए गए और डॉक्टर की जगह कम्पाउण्डर ने उनके बेटे का इलाज किया। जिससे उसकी मौत हो गई।आज सुबह अस्पताल प्रबंधन ने उनके बेटे के शव को अस्पताल से बाहर सड़क पर छोड़ दिया। इधर परिजनों के सड़क जाम और हंगामे के बाद स्थानीय पुलिस और सदर अस्पताल के सिविल सर्जन द्वारा आरोपों की जांच कर दोषियों पर कार्रवाई के आश्वासन पर मृतक के परिजनों ने जाम हटाया।

आरा से रविन्द्र कुमार की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News