स्पोर्टस ट्रेनिंग सेंटर बनाने का सपना होगा पूरा, विधायक श्रेयसी सिंह की पहल पर जगह का मुआयना करने पहुंचे खेल प्राधीकरण की टीम

स्पोर्टस ट्रेनिंग सेंटर बनाने का सपना होगा पूरा, विधायक श्रेयसी सिंह की पहल पर जगह का मुआयना करने पहुंचे खेल प्राधीकरण की टीम

JAMUI : निशानेबाजी में देश के लिए कई पदक जीत चुकीं जमुई विधायक श्रेयसी सिंह का बिहार में एक बेहतर स्पोर्टस ट्रेनिंग सेंटर शुरू किए जाने का सपना अब धीरे धीरे पटरी पर आता नजर आने लगा है। मंगलवार को जमुई विधायक की पहल पर भारतीय खेल प्राधिकरण की एक टीम जमुई पहुंची और गिद्धौर स्थित धोवघट गांव के खाली पडे मैदान का दौरा किया। माना जा रहा है कि 17 साल से यहां  खेल प्रशिक्षण केंद्र बनाने की कोशिश अब पूरी हो सकेगी। बता दें कि भाजपा विधायक श्रेयसी सिंह (BJP MLA Shreyasi Singh) अपने पिता के अधूरे सपने पूरा करने के लिए केंद्रीय खेल मंत्री किरण रिजूजू से मामले में मुलाकात की थी। 

भाजपा विधायक श्रेयसी सिंह ने बताया कि अपने पिता दिग्विजय सिंह के सपने को पूरा करने के लिए दिल्ली जाकर केंद्रीय खेल मंत्री से मुलाकात की थी जिसका परिणाम है कि स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया के अधिकारी मौके पर पहुंचे हैं. ये यहां से निरीक्षण कर इसकी रिपोर्ट भारतीय खेल प्राधिकरण को सौंपेंगे. वहीं कोलकाता से पहुंचे स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया के अधिकारी शंकर घोष ने बताया कि भाजपा विधायक श्रेयसी सिंह खुद एथलीट हैं और अंतरराष्ट्रीय निशानेबाज खेल के प्रति लगाव का नतीजा है उन्होंने केंद्रीय मंत्री से मुलाकात की और फिर विभाग के निर्देश पर वो लोग यहां आए हैं.

किसानों ने दी थी 22 एकड़ जमीन

बता दें  कि गिद्धौर स्थित धोवघट गांव के खाली पडे मैदान पर भाजपा विधायक के पिता और पूर्व केंद्रीय मंत्री दिग्विजय सिंह के प्रयास से 2004 में भारतीय खेल प्राधिकरण ने यहां स्पेशल एरिया गेम्स सेंटर शुरू किया था. बाद में2008 में कई गांव वालो ने खेल प्रशिक्षण के लिए 22 एकड़ जमीन दान में दी थी। दान की जमीन पर सैग (स्पेशल एरिया गेम्स सेंटर) सेंटर बनाने के लिए 2008 में दो करोड़ रुपया भी आया था। लेकिन सरकार की तरफ से इस दिशा में कोई खास पहल नहीं किये जाने के कारण जो पैसा केंद्र से मिला था, वह वापस लौट गया। इसके बाद खेल सेंटर के मैदान अब चारागाह बन कर रह गया। जमीन का प्रयोग नहीं होने के कारण लोगों ने अपनी भूमि वापस करने की मांग तक कर डाली है।

अब निशानेबाज विधायक ने उठाया जिम्मा

जिस मैदान को खेल सेंटर बनाने का सपना पूर्व केंद्रीय मंत्री ने देखा, जिसके लिए ग्रामीणों ने अपनी जमीन दान में दी, अब उस जमीन को स्पोर्टस सेंटर बनाने की योजना को निशानेबाज विधायक ने पूरा करने की तैयारी शुरू कर दी है। मंगलवार को खेल प्राधिकरण की टीम का जमुई दौरा उस दिशा में बड़ा कदम माना जा रहा है। अधिकारियो के दौरे के बाद एक बार फिर उम्मीद जगी है वर्षो पहले दान की जमीन पर खेल को ब़ढावा मिलेगा. फिलहाल 2004 से जमुई का सैग सेंटर गिद्धौर के संस्कृत स्कूल परिसर में चलते आ रहा है जहां छोटे स्थान पर खिलाडियो को प्रशिक्षण दिया जाता है। लेकिन अब दिन बहुरने की संभावना तेज हो गई है।


Find Us on Facebook

Trending News