बक्सर में पुलिस थाने में हुई मौत का मुद्दा गरमाया,IMA के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ने कहा -सुसाइड नहीं मर्डर है, दारोगा जुनैद आलम ने DSP के साथ मिलकर ली है जान

बक्सर में पुलिस थाने में हुई मौत का मुद्दा गरमाया,IMA के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ने कहा   -सुसाइड नहीं मर्डर है, दारोगा जुनैद आलम ने DSP के साथ मिलकर ली है जान

BUXER : बक्सर जिले के कोरानसराय थाने में वयोवृद्ध 70 वर्षीय जमुना सिंह की मौत से इलाके में सनसनी है। कोपवां गांव के मृतक जमुना सिंह काफी मिलनसार स्वभाव के प्रतिष्ठित व्यक्ति थे। उनकी मौत के बारे में बताई जा रही पुलिसिया कहानी से हर कोई अचंभित है। मामले में एसपी ने थाने के इंस्पेक्टर को निलंबित कर दिया है। लेकिन इसके बाद भी मामला थमता हुआ नजर नही ंआ रहा है। 

दारोगा और DSP ने ली है जान 

मृतक के पड़ोसी व IMA के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सचिदानंद सिंह ने इसे पुलिसिया मर्डर बताया है। उन्होंने कहा है कि मृतक जमुना सिंह ने आत्महत्या नहीं की है। कोरानसराय के दारोगा जुनैद आलम और DSP ने मिलकर उनकी हत्या की है। सचिदानंद सिंह ने आगे बताया कि जब जुनैद आलम DSP के साथ गिरफ्तार करने मृतक के घर पहुंचा तो वहां भी मृतक जमुना सिंह को जलील किया। बुरी तरह से मारते-पीटते कोरानसराय थाने लाया और सरिस्ता (पुलिस लॉकअप) में बंद कर दिया।

शाम के समय कराह रहे थे मृतक जमुना सिंहल

सचिदानंद सिंह ने आगे बताया कि परिवार के अन्य सदस्यों पर मुकदमा होने के कारण मृतक से मिलने कोई नहीं गया। देर शाम लगभग 8 बजे जब जमुना सिंह की पतोहू खाने लेकर थाने पर पहुंची तो उसने देखा कि उसके ससुर सरिस्ता (पुलिस लॉकअप) में कराह रहे हैं। जैसे गंभीर चोटें उन्हें लगीं हो। 

रात में ही पहुंची एसएसपी से मिलने

थाने पर खाना लेकर पहुंची मृतक जमुना सिंह की बहू के साथ भी दारोगा जुनैद आलम ने बदसलूकी की। जिसके बाद रात में ही वो ससुर की सलामती के लिए बक्सर एसपी नीरज कुमार सिंह से मिलने पहुंची। जहां एसपी के द्वारा मृतक के बहू को आश्वस्त किया गया कि उसका ससुर यानी मृतक जमुना सिंह पुलिस कस्टडी में सुरक्षित है। कुछ नहीं होगा। एसपी के इस आश्वासन के बाद मृतक की बहू संकोचित मन से घर लौट आई।


सुबह उठी अफवाह:-

अहले सुबह कोपवां गांव में अफवाह मची कि जमुना सिंह ने आत्महत्या कर ली है। जिसके बाद आनन-फानन में मृतक के परिजन थाने पहुंचें। जहां उन्हें यह जानकारी मिली कि जमुना सिंह ने आत्महत्या कर ली है। जिसके बाद मृतक के परिजनों में चीख-पुकार मच गई। 

कंप्यूटर कक्ष में थे जमुना सिंह:- जुनैद आलम

आरोपी दारोगा जुनैद आलम के अनुसार मृतक जमुना सिंह को कंप्यूटर कक्ष में रखा गया था। जहाँ उन्होंने आत्महत्या कर ली। जबकि परिजनों का आरोप है कि जुनैद आलम जमुना सिंह को मारते-पीटते थाने लाया था और सरिस्ता में बंद किया था। 

एसपी ने दारोगा को किया सस्पेंड

बहरहाल लोगों के आक्रोश को देखते हुए एसपी ने थानाध्यक्ष जुनैद आलम को सस्पेंड कर दिया है।

जुनैद आलम पर दर्ज कराएंगे प्राथमिकी

IMA के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सचिदानंद ने कहा है कि आरोपी दारोगा और DSP के ऊपर प्राथमिकी दर्ज कराई जाएगी। दोषियों के खिलाफ हम एकजुट होकर लड़ेंगे। मामूली बच्चों के विवाद में दारोगा ने झूठे SC-ST के मुकदमे करवाएं और लगभग 22 लोगों को नामजद आरोपी बना दिया। जबकि ये बच्चों का खेल-खेल में मामूली विवाद था।

गौरतलब है कि इस घटना के बाद हर कोई दारोगा जुनैद आलम के रवैए से खफा है, और न्यायिक जांच के साथ कार्रवाई की मांग कर रहा है। बक्सर के चौक-चौराहे पर इस घटना की चर्चा और निंदा हो रही है।


Find Us on Facebook

Trending News