पटना बेउर में बंद शातिर के गिरोह के लोगों ने मध्य प्रदेश के गोल्ड फाइनेंस से लूटा था 16 किलो सोना, देश भर में 300 किलो सोने पर कर चूके हैं हाथ साफ

पटना बेउर में बंद शातिर के गिरोह के लोगों ने मध्य प्रदेश के गोल्ड फाइनेंस से लूटा था 16 किलो सोना, देश भर में 300 किलो सोने पर कर चूके हैं हाथ साफ

 PATNA : मध्य प्रदेश के कटन के बरगवां स्थित मण्णपुरम गोल्ड फाइनेंस ऑफिस से बीते 26 नवंबर को हुई 16 किलो सोना व 3.50 लाख नकद लूट की वारदात का कनेक्शन बिहार से जुड़ गया है। बताया जा रहा है कि पटना बेउर जेल में बंद कुख्यात सोना लुटेरा सुबोध सिंह के गिरोह ने अंजाम दिया था। मामले में कटनी पुलिस ने वारदात में शामिल सुबोध गिरोह के दो लुटेरे शुभम तिवारी और अंकुश को गिरफ्तार कर लिया। पटना के रहने वाले  दोनों लुटेरों को कटनी पुलिस ने मांडला से गिरफ्तार किया है। 

हुई कई खुलासे

रिपोर्ट की मानें तो सुबोध गैंग के शातिरों ने ही राजस्थान के उदयपुर के प्रताप नगर थाना क्षेत्र में भी 29 अगस्त को मण्णपूरम के ही दफ्तर से 12.50 करोड़ मूल्य के 25 किलो सोना और 10 लाख कैश लूटा था। तब राजस्थान पुलिस ने वैशाली के प्रिंस और फंटूस को गिरफ्तार किया था। तब दोनों ने स्वीकार किया था कि वे सुबोध सिंह गैंग के सदस्य है। गिरफ्तार बदमाशों ने कहा कि सुबोध सिंह ही उनलोगों का गुरु है। यह गिरोह अब तक देश के कई राज्यों से 300 किलो सोना लूट चुका है। 

दोनों राज्यों की पुलिस पटना में मौजूद

इन मामलों में अन्य शातिरों की तलाश में मध्य प्रदेश और राजस्थान की पुलिस सोना लुटेरों की तलाश में पटना पहुंची है। दोनों राज्यों की पुलिस पत्रकार नगर, अगमकुआं और बाईपास के इलाके में सोमवार को छापेमारी की। पटना पहुंचे एमपी पुलिस के अधिकारी ने बताया कि शुभम और अंकुश के खिलाफ पत्रकार नगर में केस दर्ज है। एमपी पुलिस ने कटनी लूट मामले में शुभम तिवारी और अंकुश मांडला को गिरफ्तार किया है। वहीं पटना पहुंची राजस्थान पुलिस के अधिकारियों ने बताया कि उसे वैशाली के गुड्‌ड और पटना के कुछ अपराधियों की तलाश है। पुलिस के अनुसार घटना में वैशाली का अखिलेश उर्फ विकास, पटना का अर्जुन उर्फ पीयूष, बक्सर का मिथलेश उर्फ धर्मेंद्र, अमित सिंह उर्फ विक्कू भी शामिल था।  फरार शातिर भी पटना और वैशाली के आसपास ही छिपे हुए हैं। पटना पुलिस सहयोग कर रही है।

लूट से पहले 20 दिन की रेकी

कटनी एसपी सुनील जैन के अनुसार, गिरफ्तार शुभम और अंकुश ने बताया कि गिरोह के सभी छह लोग 7 नवंबर को कटनी पहुंचे। इसके बाद 20 दिन तक  मण्णपुरम गोल्ड फायनेंस ऑफिस की रेकी की। जिसके बाद पूरी योजना बनाई और फिर उन्होंने डकैती डाली।

बंगाल और नेपाल भेजा जाता है सोना

राजस्थान के उदयपुर में लूट मामले में गिरफ्तार प्रिंस उर्फ सूरज और फंटूस उर्फ मनोज ने पुलिस को बताया कि गिरोह सिर्फ सोना ही लूटते हैं। सोना लूटने के बाद गिरोह के कुछ लोग अलग अलग टोली में सोना लेकर बंगाल और नेपाल पहुंचते हैं। यहां तय सुनार सोने को तुरंत गला देता है।


Find Us on Facebook

Trending News