रालोजपा सांसदों को तोड़ने की अफवाह फ़ैलाने वाले का हुआ खुलासा, प्रिंस ने खोला राज- कौन फैला रहा नीतीश के साथ जाने का भ्रम

रालोजपा सांसदों को तोड़ने की अफवाह फ़ैलाने वाले का हुआ खुलासा, प्रिंस ने खोला राज- कौन फैला रहा नीतीश के साथ जाने का भ्रम

पटना. केंद्रीय मंत्री पशुपति पारस की पार्टी रालोजपा के सांसदों के टूटने की खबर के बाद रविवार को रालोजपा के सभी सांसदों ने एकजुटता दिखाई. रालोसपा कार्यालय में सांसद प्रिंस राज, सांसद वीणा देवी, सांसद चंदन सिंह और सांसद महबूब अली कैसर इकट्ठे हुए. प्रिंस राज ने कहा कि हम लोग एक हैं. हमारी पार्टी के टूटने की भ्रामक खबर फैलाई जा रही है. उन्होंने इसे विरोधी गुट की साजिश बताते हुए कहा कि उसके कई पदाधिकारी हमारे संपर्क में बने हुए हैं और जल्दी विरोधी गुट का सफाया हो जाएगा. रालोजपा में हम लोग एक हैं.

एक्सक्लूसिवः जंगलराज रिटर्न्स....जेल में बंद बाहुबली 'आनंद मोहन' पहुंच गये पटना आवास, पत्नी-RJD विधायक बेटे व समर्थकों के साथ की मीटिंग, MLA कॉलोनी भी गए


उन्होंने कहा कि हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष पशुपति पारस में हम लोगों की आस्था है. हम लोग एनडीए में बने हुए हैं. 2024 में इंडिया में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में हम लोग चुनाव लड़ेंगे. भाजपा को सभी दलों को साथ में लेकर चलने वाली पार्टी बताते हुए उन्होंने कहा कि जिस प्रकार की अफवाह  फैलाई गई है उस पर सफाई देने के लिए हमारे सभी सांसद आज यहां उपस्थित हुए हैं. किसी भी सांसद के किसी अन्य दल में जाने की बातें सिर्फ अफवाह है. 

हालांकि उन्होंने विरोधी गुट के रूप में किसी का नाम नहीं लिया लेकिन उनका इशारा संभवतः चिराग पासवान की ओर रहा. उन्होंने कहा कि विरोधी गुट के नेता ने कहा था कि वे किसी गठबंधन में नहीं हैं. उनके अकेले चुनाव में उतरने से पार्टी को नुकसान हुआ. अब जो लोग उनके साथ हैं वे वहां असहज महसूस कर रहे हैं. उनके पदाधिकारी हमारे सम्पर्क में हैं. अपनी कमजोर होती स्थिति और पार्टी के साथियों पर पकड़ नहीं रहने के कराण अब उनके द्वारा हमारे दल के सांसदों के टूट की अफवाह फैलाई गई. 

नवादा सांसद चंदन सिंह ने भी कहा कि रालोजपा में कोई टूट नहीं हो रही है. सब एक साथ हैं. पार्टी के वरिष्ठ नेता और पूर्व सांसद बाहुबली सूरजभान सिंह के जदयू के सम्पर्क में होने के सवाल पर प्रिंस ने इसे ख़ारिज किया. उन्होंने कहा कि सूरजभान सिंह एक दिन पहले ही मीडिया के सामने इस पर सफाई दे चुके हैं. वे हमारी पार्टी के साथ शुरू से बने हैं. नीतीश कुमार के एनडीए से अलग होने पर कहा कि 2019 के लोकसभा चुनाव में जदयू को कम सीट होने के बाद भी भाजपा ने उन्हें ज्यादा सीटें दी. भाजपा गठबंधन धर्म का पालन करती है. 


Find Us on Facebook

Trending News