विधानसभा चुनाव में जब्त गाड़ियों का अबतक नहीं मिला किराया, वाहन मालिक खा रहे हैं दर दर की ठोकरें

विधानसभा चुनाव में जब्त गाड़ियों का अबतक नहीं मिला किराया, वाहन मालिक खा रहे हैं दर दर की ठोकरें

SUPAUL : विहार विधानसभा का चुनाव संपन्न होने के बाद राज्य में नई सरकार का गठन हो चुका है। लेकिन चुनावी कार्य में लगे वाहनों के मालिकों को अब तक वाहन किराया नहीं मिल सका है। परिवहन विभाग के आदेश के बावजूद जिले के त्रिवेणीगंज मे वाहन मालिकों को पैसे नहीं दिए गए। इस कारण आज भी वाहन मालिक बकाए पैसे को लेकर अधिकारियों के दरवाजे पर आने के लिए विवश हैं। 

चुनाव में एसी-नॉन एसी, छोटे-बड़े वाहनों के अनुसार गाड़ियों का किराया तय किया गया था। गाड़ियों की जब्ती के साथ ही परिवहन विभाग ने वाहनों का दैनिक किराए के अलावा तेल का पैसा भी अलग से देने का आदेश दिया था। ड्राइवरों को खाने-पीने की राशि भी अलग से हर रोज देनी थी। इसके लिए हरेक प्रखंड में बने वाहन कोषांग के अधिकारियों को जिम्मेवारी दी गई। विभाग ने दो टूक कहा था कि किसी भी कीमत पर चुनावी कार्य में बाधा उत्पन्न नहीं होना चाहिए। इसलिए गाड़ी जब्ती प्रक्रिया में किसी तरह के नियम के खिलाफ काम न किए जानेवाली अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। विभाग ने कहा था कि जैसे-जैसे चुनाव समाप्त होते जाएंगे। वाहन मालिकों का किराया भुगतान भी कर दिया जाए। 

खासकर वैसी गाड़ियां जिन्हें चुनावी कार्य से मुक्त कर दिया गया है, उसका भुगतान किसी भी कीमत में न रोका जाए। जैसे ही चुनावी मतगणना हो जाए, उसके बाद सभी वाहन मालिकों को वाहन किराया दे दिया जाए। विभाग का यह आदेश त्रिवेणीगंज प्रखंड में पालन नहीं हुआ। अन्य जिलों की कौन कहे, त्रिवेणीगंज प्रखंड क्षेत्र में अभी सैकड़ों वाहन मालिकों को चुनावी कार्य का पैसा नहीं मिल सका है। जिसको लेकर वाहन मालिक दर -दर भटक रहे हैं। 

सुपौल से पप्पू आलम की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News