अवैध खाद फैक्ट्री को बचाने की कोशिश में लगे कृषि विभाग का सच आया सामने, अधिकारी के कबूलनी पड़ी कार्रवाई की बात

अवैध खाद फैक्ट्री को बचाने की कोशिश में लगे कृषि विभाग का सच आया सामने, अधिकारी के कबूलनी पड़ी कार्रवाई की बात

KATIHAR : जिले में चल रहे अवैध खाद फैक्ट्री को बचाने में लगे कृषि विभाग का सारा सच सामने आ गया है। लगभग एक माह से मामले में बचने की कोशिश में लगे जिले के डीएओ को आखिरकार यह मानना पड़ा है कि यहां एक अवैध खाद फैक्ट्री के खिलाफ कार्रवाई की गई है। यह कबूलनामा भी तब किया गया जब पटना से विभाग के अधिकारी जांच के लिए पहुंचे थे। इसी दौरान मीडियाकर्मियों ने उनके सामने ही जिले के डीएओ से इस संबंध में सवाल पूछ लिया। 

बताया गया कि कटिहार में जैविक खाद उत्पादन के नाम पर चल रहे खाद फैक्ट्री को कृषि विभाग ने कई दिन पहले ही सील कर दिया था लेकिन इस पर अधिकारी कुछ भी बोलने के लिए तैयार नहीं थे। जिसके बाद यह चर्चा शुरू हो गई कि अधिकारी दोषियों को बचाने की कोशिश कर रहे हैं। इसी कारण सील को लेकर क्या कार्रवाई की गई है, विभाग के किसी अधिकारी  ने इस पर बात करना जरुरी नहीं समझा है। यहां तक बीएओ भी मीडियाकर्मियों के सवाल से बचते हुए दिख रहे थे। 

पटना से आए अधिकारियों के सामने हुए मजबूर

बीते शनिवार को पटना से विभाग के वरीय अधिकारी कटिहार पहुंचे थे, जिसमें अधिकारियों के सामने जब यह बातें रखी गई तो उन्होंने इस कार्रवाई के बारे में अनभिज्ञता जाहिर करते हुए बताया कि इसमें जिला के अधिकारी ही बेहतर बता सकते हैं। चूंकि अधिकारी सामने मौजूद थे, ऐसे में डीएओ के पास इस कार्रवाई को छिपा पाना मुश्किल हो गया था। उन्होंने इस बात को माना कि नकली खाद फैक्ट्री को सील किया गया है और वहां से जब्त खाद के सैंपल को जांच के लिए भेजा गया है। जिसके आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी। हालांकि इस दौरान भी डीएओ भी गोल मटोल जवाब देकर बचने की कोशिश में लगे रहे।

नकली खाद की हो रही थी पैकिंग

बता दें कि पिछले दिनों यह खबर सामने आई थी कि मुफसिल थाना क्षेत्र के बहरिया में अवैध रूप से नकली खाद की पैकिंग कर उसे बाजार में खपाया जा रहा है। इस फैक्ट्री के बारे में जानकारी मिलने के बाद कृषि विभाग को सूचित किया गया था, जिसके बाद फैक्ट्री को दिखावे के लिए विभाग ने सील कर दिया। लेकिन इस दौरान क्या कार्रवाई की गई, इसको लेकर विभाग ने चुप्पी साध ली। 

गौरतलब है कि जिले में खाद की किल्लत के कारण किसानों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।


Find Us on Facebook

Trending News