पुलिस विभाग का कारनामा, नौकरी में आने के 4 वर्ष पूर्व ही बना दिया थानेदार, बिना थानेदार रहे ही अभियुक्त को लाभ पहुंचाने के आरोप में शुरू कर दिया प्रोसिडिंग

पुलिस विभाग का कारनामा, नौकरी में आने के 4 वर्ष पूर्व ही बना दिया थानेदार, बिना थानेदार रहे ही अभियुक्त को लाभ पहुंचाने के आरोप में शुरू कर दिया प्रोसिडिंग

PATNA: बिहार पुलिस अपने कारनामो को लेकर हमेशा से सुर्खियों में रहती है। इस बार का कारनामा सुनकर आप चौक जाएंगे. विभाग ने एक ऐसे पुलिस पदाधिकारी से विभागीय कार्यवाही के लिए स्पष्टीकरण की मांग की है जो उस समय नौकरी में थे ही नहीं। मामले के चार साल बाद वे पुलिस विभाग में नौकरी शुरू की। साथ ही जिस थाना क्षेत्र का मामला है वहां वे कभी थानेदार रहे ही नहीं। मामला गया जिला से जुड़ा हुआ है । 

जिस पुअनि सुधीर कुमार से प्रोसिडिंग के लिए सपष्टीकरण मांगा गया है वह वर्ष 2009 में पुलिस विभाग में नौकरी में गए। वहीं गया जिले के डेल्हा थाना कांड संख्या 39,40,41 /2005 में अभियुक्त को लाभ देने के आरोप में प्रोसिडिंग चालू कर दिया गया । गया पुलिस अधीक्षक कार्यालय से बेतिया पुलिस अधीक्षक कार्यालय भेजे गए पत्र में 25 दिसम्बर को उपस्थित होकर प्रोसिडिंग कार्यवाही में स्पष्टीकरण देने का निर्देश दिया गया है । बेतिया कार्यालय में स्पष्टीकरण का लेटर पहुचते ही हड़कम्प मच गया ।पुलिस महकमे में चर्चा का विषय बना हुआ है कि जब नौकरी 2009 शुरू की तो विभाग नौकरी से 5 वर्ष पहले ही थानेदार कैसे बना कर प्रोसिडिंग कर दिया ? सबसे रोचक बात तो यह है कि 2009 बैच के सुधीर कुमार का उस थाने में कभी पोस्टिंग ही नही रही है। 

बिहार पुलिस विभाग की कारनामा सुनकर आप दंग रह जाएंगे। 2009 बैच के पुअनि सुधीर कुमार गया जिला में 2011 में ज्वाइन किए । विभाग ने वर्ष 2005 के केस में अभियुक्तों के मेल में आकर लाभ देने के आरोप में उनपर प्रोसिडिंग में स्पष्टीकरण की मांग कर दिया है। गया पुलिस अधीक्षक कार्यालय ने बेतिया पुलिस अधीक्षक कार्यालय पत्र भेजकर 2009 बैच के सुधीर कुमार को उपस्थित हो कर स्पष्टीकरण देने को कहा है। गया पुलिस अधीक्षक कार्यालय के पत्र के अनुसार पुअनि सुधीर कुमार को 22 से 25 दिसम्बर तक उपस्थित होकर जबाब देने का निर्देश दिया गया है। 

बता दें, 2009 बैच के पुअनि सुधीर कुमार पुलिस विभाग में आने के बाद 2009 में ट्रेनिंग लेने के बाद पटना जिला में पोस्टेड रहे । वर्ष 2011 में गया जिला में पोस्टिंग हुई । गया जिला में जेएसआई में अतरी थाना ,बजीरगंज व थानेदार के रूप में पराया थाना में पोस्टेड रहे । उसके बाद वर्ष 2014 में बेतिया जिला में पोस्टिंग हो गई । पुलिस महकमा में चर्चा का विषय बना हुआ है कि नौकरी के पहले व बिना उक्त थाना में रहे ही पुलिस पदाधिकारी पर प्रोसिडिंग किया जा रहा है । जबकि इसके पूर्व भी पुअनि सुधीर कुमार द्वारा अपना सफाई एसपी कार्यालय में दिया जा चुका है । पूर्व एसपी द्वारा सुधीर कुमार को क्लीन चिट दिया जा चुका था ।उसके बाद भी फिर स्पष्टीकरण के लिए पत्र भेज दिया गया है जो बेतिया जिले में चर्चा का विषय बन गया है।

Find Us on Facebook

Trending News