दुनिया की आबादी 8 अरब के हुई पार, 100 करोड़ पार करने में लगे महज 12 साल

दुनिया की आबादी 8 अरब के हुई पार, 100 करोड़ पार करने में लगे महज 12 साल

N4N DESK : जनसँख्या पर संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट यूएन रिपोर्ट ऑन पापुलेशन में कहा गया था की 15 नवम्बर को दुनिया की आबादी 8 अरब हो जाएगी। आज 1.30 बजे दुनिया के 800 करोड़वे बच्चे ने जन्म ले लिया है। जनसँख्या को रियल टाइम ट्रैक करनेवाली साईट के मुताबिक आज दुनिया ने 800 करोड़ की आबादी को पार कर लिया है। लेकिन जनसँख्या वृद्धि की बात करें तो दुनिया को 100 करोड़ की आबादी पार करने में 1800 साल लगे थे। 

ईसा की शुरुआत के दौरान विश्व की आबादी केवल 20 करोड़ थी। जो 1804 ईस्वी में बढ़कर एक अरब हो गयी थी। जबकि 200 करोड़ का आंकड़ा पार करने में महज 126 साल लगे थे। 1930 में दुनिया की आबादी बढ़कर 2 अरब हो गयी थी। उसके बाद महज 30 साल यानी 1960 में दुनिया की 300 करोड़ की आबादी हो गयी। 14 साल में यानी 1974 में आबादी बढ़कर 4 अरब हो गयी थी। 1987 में यह 5 अरब, 1998 में 6 अरब, 2010 में 7 अरब हो गयी। इसके बाद महज 12 साल में आज दुनिया की आबादी बढ़कर 8 अरब हो गयी है। 

जनसँख्या में इस बढ़ोतरी का ज़िम्मेवार औद्योगिक क्रांति के बाद मेडिकल सेवाओं में सुधार को माना जाता है। वहीँ सुविधाओं के बढ़ने से महिलाओं और बच्चों की मौत में आई कमी से जनसंख्या में तीव्र गति से बढ़ोतरी हो रही है। हालाँकि आबादी पर UN की रिपोर्ट में कहा गया है कि 2050 तक आबादी में से आधे से ज्यादा हिस्सा केवल आठ देशों में होगा। 

इनमें भारत समेत पाकिस्तान, फिलीपींस, मिस्र, कांगो, नाइजीरिया, तंजानिया और इथियोपिया शामिल हैं। UN ने 61 ऐसे देशों का अनुमान भी लगाया है जिनकी आबादी 2022 से 2050 के बीच घट जाएगी। इनमें सबसे ज्यादा देश यूरोप के होंगे।

Find Us on Facebook

Trending News