फिर दिखी अव्यवस्था : ANM इंटरव्यू देने आए अभ्यर्थियों के जहां-तहां बिखरे दिखे चप्पल और टूटी हुई दिखी चूड़ियां, घंटों रहा अफरा-तफरी का माहौल

फिर दिखी अव्यवस्था : ANM  इंटरव्यू देने आए अभ्यर्थियों के जहां-तहां बिखरे दिखे चप्पल और टूटी हुई दिखी चूड़ियां, घंटों रहा अफरा-तफरी का माहौल

KAIMUR :   कैमूर जिले के सदर अस्पताल भभुआ द्वारा कोरोना काल में सिर्फ 3 महीने के लिए एएनएम पद पर बहाली के लिए मात्र 65 रिक्तियां निकाली गई थी। जिसके लिए पूरे बिहार से 1300 से भी अधिक अभ्यर्थियों ने walk-in इंटरव्यू के लिए फॉर्म जमा किया। हजारों की संख्या में जुटे अभ्यर्थियों के पहुंच जाने और मुक्कमल ब्यवस्था नहिं रहने के कारण कोविड-19 की धज्जियां उड़ती रही। लेकिन देर रात्रि इंटरव्यू में शामिल होने को लेकर हुई धक्का-मुक्की में सदर अस्पताल के कैंपस में जहां-तहां अभ्यर्थियों के चप्पले बिखरी दिखाई दिया, चूड़ी टूटी दिखाई दिया ,तो कुछ दवा के रैपर गिरे पड़े दिखाई दिए।

 वैश्विक महामारी  कोरोना के कारण बेरोजगारी के हालात का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि 65 रिक्तियों के लिए बिहार के पटना, नार्थ बिहार, सहरसा ,बेगूसराय सहित तमाम जिलों से अभ्यर्थी walk-in-interview में धक्का-मुक्की खाते हुए कल सुबह 8 बजे से लाइन में लगकर रात्रि के 8 बजे तक अपनी बारी का इंतजार करते दिखाई दिए।  अस्पताल प्रशासन कुछ पुलिसकर्मी का मदद लेकर लोगों को व्यवस्थित करने में लगा था लेकिन बेतहाशा भीड़ देखकर सभी के होश उड़ गये। कुछ समय के लिए एएनएम अभ्यर्थियों ने भी उमस भरी गर्मी में देर शाम अपना आपा खो कर सिविल सर्जन ऑफिस के चैनल गेट को ही जोर जोर से हीलाने लगे मानो थोड़ा सा धक्का देने पर वह गेट टूट ही जाए । 

आखिर ऐसे हालात के लिए किसकी होगी जिम्मेदारी। जहां बेरोजगारी की मार झेल रहे अभ्यर्थी किसी भी तरह अपनी जान जोखिम में डालकर उस अफरा-तफरी माहौल में 12 घंटे से भी अधिक समय तक अपनी बारी आने का खड़े रहकर इंतजार करते दिखे। जिले की प्रभारी सिविल सर्जन डॉ मीना कुमारी का मानना है कि सभी को कोविड-19 के गाइडलाइन का पालन करते हुए ही रहने का निर्देश सुबह में दिया जा चुका था, लेकिन जिस तरह से भीड़ जमा हो गई उसको देखकर कुछ कहा नहीं जा सकता।

Find Us on Facebook

Trending News