कलयुग में यह भी संभव! पांच बेटे, लेकिन कोई भी अपनी बूढ़ी मां को रखने को तैयार नहीं, गुस्साए एसपी ने उठाया यह बड़ा कदम

कलयुग में यह भी संभव! पांच बेटे, लेकिन कोई भी अपनी बूढ़ी मां को रखने को तैयार नहीं, गुस्साए एसपी ने उठाया यह बड़ा कदम

RAJGARH : जिस मां के पांच बेटे हों, पांचों को पैरों पर खड़ा किया, एक दिन वही बेटे अपनी बूढ़ी को बेसहारा छोड़ दें तो आखिर उस मां पर क्या बीत रही होगी? मध्य प्रदेश में ऐसा ही एक मामला सामने आया है। जहां पांचों बेटों द्वारा बेसहारा छोड़े जाने के बाद वृद्ध महिला ने पुलिस से मदद की गुहार लगाई। मामला जिले के एसपी तक पहुंचा, जिसके बाद भी पांचों अपनी मां को रखने को तैयार नहीं हुए। जिसके बाद एसपी को उनके खिलाफ कड़ा कदम उठाना पड़ा। 

मामला एमपी के राजगढ़ के देवाखेड़ी गांव से जुड़ा है। जहां रहनेवाली रामकुंवर बाई अपने पति लक्ष्मणसिंह की मौत के बाद से अकेली रह रही थी. उसके पांच बेटे हैं। जिन्हें बचपन से लेकर युवा होने तक बड़े नाजों से पाला, उनकी हर ख्‍वाह‍िश पूरी की. शादी-ब्याह कर उनके घर बसाएं लेकिन आज वही औलाद अपनी बूढ़ी मां को दो टाइम की रोटी देने के लिए तैयार नहीं है. पांचों बेटों द्वारा ठूकराए जाने के बाद लाचार मां ने ख़िलचीपुर थाने में पहुच कर पुलिस से गुहार लगाई।

एसपी के दखल के बाद भी नहीं हुए तैयार

बताया गया कि वृद्ध महिला का मामला जिले के एसपी तक पहुंचा। उन्होंने पुलिस के माध्यम से पांचों पुत्रों को समझाइश दी, लेकिन बूढ़ी मां का सहारा बनने के लिए कोई तैयार नहीं हुआ। जिसके बाद पुलिस कप्तान ने पांचों बेटों के खिलाफ कड़ा कदम उठाने के निर्देश दिए। 

मां को दर्द देने का मिला अंजाम

एसपी के आदेश के बाद ख़िलचीपुर पुलिस ने हिम्मत सिंह, राजेंद्र सिंह और धीरज सिंह वर्तमान में तीनों निवासी इन्दौर, शंकर सिंह हालमुकाम भवानीमंड़ी एवं रमेश सिंह निवासी सोयतकलां के विरुद्ध वरिष्ठ नागरिक देखभाल अधिनियम की धारा 24 के तहत अपराध पंजीबद्ध किया। पुलिस के अनुसार इनमें तीन बेटों राजेन्द्र, हिम्मत और रमेश को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। वहीं दो बेटो की गिरफ्तार और होना है।


Find Us on Facebook

Trending News