हजारों छात्र नहीं दे पाएंगे 67वीं BPSC की परीक्षा, UPSC परीक्षा के साथ टकरा रही हैं तिथियां, सीएम नीतीश से की तारीख बदलने की मांग

हजारों छात्र नहीं दे पाएंगे 67वीं BPSC की परीक्षा, UPSC परीक्षा के साथ टकरा रही हैं तिथियां, सीएम नीतीश से की तारीख बदलने की मांग

पटना. विवादों में घिरे 67वीं बीपीएससी के साथ परेशानियाँ कम होने का नाम नहीं ले रही है. बिहार लोक सेवा आयोग ने 67वीं संयुक्त प्रतियोगिता प्रारंभिक परीक्षा की तिथि 20 और 22 सितम्बर को कराने की घोषणा की है. दोनों दिन दो शिफ्टों में परीक्षा होनी है. लेकिन परीक्षा की तिथि 20 और 22 सितम्बर होने से अब हजारों विद्यार्थियों की मुसीबत बढ़ गई है. इसका कारण है यूपीएससी और बीपीएससी की परीक्षा तिथियों का एक ही अवधि में होना. 

दरअसल, संघ लोक सेवा आयोग यानी यूपीएससी की मैन्स की परीक्षा और बिहार लोक सेवा आयोग की पीटी परीक्षा दोनों की तिथि एक ही अवधि में है. यूपीएससी की मैन्स की परीक्षा 16, 17, 18, 24 और 25 सितम्बर को है. वहीं बीपीएससी ने 20 और 22 सितम्बर की तिथि निर्धारित है. इससे दोनों परीक्षा की तैयारी में लगे हजारों विद्यार्थियों और अभ्यर्थियों की मुसीबत हो गई. ऐसे हजारों छात्र हैं जो दोनों परीक्षा में शामिल होने वाले थे. अब एक ही अवधि में दोनों परीक्षा होने से कई छात्रों को किसी एक परीक्षा को छोड़ने के लिए मजबूर होने पड़ेगा. 

लोक सेवा आयोग की परीक्षा की तैयारी में लगे छात्रों का कहना है कि यूपीएससी की मैन्स की परीक्षा पहले से 16, 17, 18, 24 और 25 सितम्बर घोषित है.  ऐसे में बीपीएससी को परीक्षा की तिथि निर्धारित करने के दौरान परीक्षा तिथियों में टकराव न हो इसका ध्यान रखना था. लेकिन बीपीएस ने 20 और 22 सितम्बर को तिथि घोषित कर दी. बीपीएससी की यह परीक्षा पहले 8 मई को हुई थी लेकिन प्रश्नपत्र लीक होने के कारण परीक्षा रद्द कर दी गई. बीपीएससी परीक्षा में 6.02 लाख आवेदकों फॉर्म भरे हैं. कुल 804 पदों पर नियुक्ति होनी है. लेकिन अब समान अवधि में दोनों परीक्षा होने से परीक्षार्थियों की चिंता बढ़ गई है. 


परीक्षार्थियों का कहना है कि ऐसे हजारों आवेदक हैं जो दोनों परीक्षा में शामिल होने वाले थे. हजारों छात्र अच्छी कोचिंग के लिए दिल्ली में रहकर पढाई करते हैं. उनके लिए अब दोनों परीक्षा में शामिल होना मुश्किल हो गया है. छात्रों ने मुख्यमंत्री नीतीश और उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव से उनकी चिंताओं पर गौर करने की अपील है. उन्होंने सीएम नीतीश से अनुरोध किया है कि वे बीपीएससी को परीक्षा तिथि नए सिरे से जारी करने को लेकर चर्चा करें. यह बिहार के हजारों छात्रों के भविष्य से जुड़ा मामला है. यह बिहार को मिलने वाले योग्य अधिकारियों से जुड़ा मामला है. इसलिए बीपीएससी फिर से तिथि का निर्धारण करे जिससे छात्र यूपीएससी और बीपीएससी दोनों में शामिल हो सकें. 


Find Us on Facebook

Trending News