मोहम्मद शहाबुद्दीन को तिहाड़ जेल प्रशासन ने नहीं दी पेरोल, पिता के अंतिम संस्कार में शामिल होने के उम्मीद पर फिरा पानी

मोहम्मद शहाबुद्दीन को तिहाड़ जेल प्रशासन ने नहीं दी पेरोल, पिता के अंतिम संस्कार में शामिल होने के उम्मीद पर फिरा पानी

NEWS4NATION DESK : पूर्व सांसद और बाहुबली शहाबुद्दीन पिछेल 3 साल से जेल में बंद हैं. इस बीच शनिवार को उनके पिता का निधन हो गया. पिता के निधन के बाद शहाबुद्दीन ने पैरोल की अर्जी दाखिल की थी. ताकि वो पिता के सुपुर्दे खाक की प्रक्रिया में शामिल हो सकें. शहाबुद्दीन ने यह अपील अपने पिता के इंतकाल के बाद अंतिम क्रिया कर्म के मद्देनजर बेटे का फर्ज निभाने के लिए दी थी. तिहाड़ में बंद पूर्व सांसद को पैरोल पर लाने की कानूनी कयावद रात में ही उनके वकीलों ने शुरू कर दी थी. 

लेकिन अब तिहाड़ जेल में बंद पूर्व सांसद और बाहुबली मोहम्मद शहाबुद्दीन अपने पिता के अंतिम संस्कार में शामिल नहीं हो पाएंगे. शहाबुद्दीन लंबी कानूनी प्रक्रिया के चलते तिहाड़ से पैरोल पर छूटकर नहीं आ सके. शहाबुद्दीन के पिता शेख मोहम्मद हसीबुल्लाह (90 वर्ष) का शनिवार रात निधन हो गया. 

पूर्व सांसद ने जेल प्रशासन से गुहार लगाई थी कि उन्हें अपने पिता के जनाजे में शामिल होने के लिए पैरोल दी जाए, लेकिन उन्हें यह छूट नहीं दी गई है. पूर्व सांसद के पिता का अंतिम संस्कार आज शाम छह बजे मगरिब की नमाज के बाद उनके पैतृक गांव प्रतापपुर के कब्रिस्तान में किया जाएगा. 

बताते चले की शहाबुद्दीन कई मामलों में फिलहाल दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद हैं. पिता के निधन के बाद  तिहाड़ जेल के डीजी के पास शहाबुद्दीन की यह अपील लंबित थी. इस अर्जी में शहाबुद्दीन ने दो सप्ताह के लिए पेरोल पर बाहर जाने की इजाजत मांगी थी. मो.शहाबुद्दीन के पिता शेख मोहमद हसीबुल्लाह का 90 वर्ष की उम्र में शनिवार की रात निधन हो गया था. पिछले कई दिनों से शेख हसीबुल्लाह बीमार चल रहे थे.



Find Us on Facebook

Trending News