छू लिया आसमां : गोल इंस्टीच्युट के 6327 छात्र-छात्राओं ने नीट में लहराया परचम

छू लिया आसमां : गोल इंस्टीच्युट के 6327 छात्र-छात्राओं ने नीट में लहराया परचम

PATNA: गोल के छात्रों ने नीट 2019 के रिजल्ट में ऑल इंडिया में टॉप रैंकर्स देने की परम्परा को जारी रखते हुए मेडिकल  प्रवेश परीक्षा में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया है. नीट में बिहार एवं झारखंड के अधिकतर टॉपर्स गोल इंस्टीच्युट से ही हैं. गोल फाउण्डेशन बैच का गौतम अपने पहले ही प्रयास में शानदार सफलता हासिल करते हुए नीट में 32 जेनरल रैंक 687/720 मार्क्स लाकर प्रदेश को गौरवान्वित किया है. गौतम अपने सफलता का श्रेय माता-पिता और भाई के साथ-साथ गोल इंस्टीच्युट को देते हुए बताया कि यहाँ के शिक्षकों की ओर से कॉम्पीटीशन के नए पैटर्न पर शिक्षा दिया गया. यहाँ के कोर्स का रिजल्ट ऑरिएण्टेड प्लान, रेगुलर टेस्ट के माध्यम से प्रैक्टिस और समय-समय पर मिल रहे महत्वपूर्ण दिशा निर्देश का हमारे सफलता में महत्वपूर्ण योगदान है.

गोल इंस्टीच्युट से गौतम के अलावा गोल एजुकेशन विलेज से गोल चैलेंजर ग्रुप से धीरज कुमार ने 572 जेनरल रैंक (659 मार्क्स), नैन्सी वत्स ने 818 जेनरल रैंक एवं 177 कैटेगरी रैंक (653 मार्क्स), आकांक्षा शर्मा 1079 जनरल रैंक (648 मार्क्स), सास्वत आकाश 1153 जेनरल रैंक (647 मार्क्स), गोल एचिवर कैंपस से प्रतिक्षा सिंह ने 1301 जेनरल रैंक (645 मार्क्स) और  मो. मोटीन ने 1833 जेनरल रैंक (638 मार्क्स), सारा जाबिन 1843 जेनरल रैंक (638 मार्क्स), संकेत कुमार 1933 जेनरल रैंक (637 मार्क्स) के अलावा स्नेहा राज ने 2093 जेनरल रैंक (636 मार्क्स), सुभांगिनी रंजन 2339 जेनरल रैंक (633 मार्क्स), कल्पना सिन्हा 2365 जेनरल रैंक (633 मार्क्स), यश प्रकाश ने 2514 जेनरल रैंक (631 मार्क्स), आकांक्षा कशिश 2840 जेनरल रैंक (629 मार्क्स), किशुनजी शाह 2915 जेनरल रैंक (628 मार्क्स), दिव्यांशु कुमार 3015 जेनरल रैंक (627 मार्क्स), आदित्य कुमार ने 3062 जेनरल रैंक (627 मार्क्स), सूर्यकान्त भारती ने 3708 जेनरल रैंक (622 मार्क्स) और महवाश आलिया ने 5996 जेनरल रैंक (609 मार्क्स) के साथ सैंकड़ों अन्य छात्रों ने सफलता प्राप्त की है.

गोल इंस्टीच्युट के संस्थापक और मैनेंजिंग डॉयरेक्टर विपीन सिंह ने सभी सपफल छात्रों को बधाई देते हुए कहा कि यह सफलता छात्रों के अथक प्रयास, संस्थान के टीम वर्क और अभिभावकों का गोल के प्रति विश्वास का प्रतिफल है. 

सिंह ने आशा व्यक्त किया की आने वाले वर्षों में गोल इंस्टीच्युट छात्रों और संस्थान के प्रयास से और भी बेहतर रिजल्ट देने के लिए प्रतिबद्ध है.

गोल इंस्टीच्युट के आनंद वस्त ने कहा की गोल विलेज और एचीवर कैंपस के छात्रों की शानदार सफलता के पीछे छात्रों का आपसी सहयोग के कारण अच्छा माहौल, पर्सनल केयर और लाइब्रेरी का महत्वपूर्ण योगदान रहा.

गोल इंस्टीच्युट के असिस्टेंट डायरेक्टर रंजय सिंह ने कहा कि गोल से अभी तक प्राप्त आंकड़ों के अनुसार 6327 छात्रों ने नीट क्वालीफाई किया है. इनमें लगभग 612 से अधिक छात्रों को सरकारी मेडिकल में दाखिला मिलने की संभावना होगी. रंजय सिंह ने बताया कि चैलेंजर ग्रुप के 100% छात्रों ने सफलता प्राप्त की. वहीं गोल विलेज से 86% और गोल एचिवर कैंपस के 84% से अधिक छात्रा सफल हुए.

Find Us on Facebook

Trending News