इस दिन का 87 सालों से था इंतजार : दरभंगा-सहरसा के बीच इस तारीख से दौड़ेगी रेलगाड़ी, 51 किमी कम हो जाएगी दूरी

इस दिन का 87 सालों से था इंतजार : दरभंगा-सहरसा के बीच इस तारीख से दौड़ेगी रेलगाड़ी, 51 किमी कम हो जाएगी दूरी

DARBHANGA : बिहार में पिछले कुछ सालों में कई जिलों के बीच रेल सेवाएं शुरू हुई हैं. जिनके लिए कई दशकों से इंतजार किया जा रहा था। अब इस सूची में एक और उपलब्धि जुड़ने जा रही है। जिसके लिए पिछले 87 साल से इंतजार किया जा रहा था। भारतीय रेलवे आगामी 30 जून से दरभंगा-सहरसा रेलखंड के बीच सीधी ट्रेन सेवा शुरू करने जा रही है। रेलवे प्रशासन के मुताबिक नए दरभंगा-सकरी-झंझारपुर-कूपहा-आसानपुर-सुपौल-सहरसा रेलखंड पर निर्माण कार्य बहुत तेजी से चल रहा है।

1934 के बाद बंद हो गई रेल सेवा

बताया जाता है कि 1934 के भूकंप में कोसी नदी पर बना पुराना पुल क्षतिग्रस्त हो गया था। जिसके बाद से इस रूट पर रेल सेवा बंद हो गई थी। जबकि 1934 से पहले दरभंगा सकरी निर्मली फारबिसगंज होते सहरसा की सीधी ट्रेन सेवा थी। वर्तमान में दरभंगा के लोगों को सहरसा जाने के लिए ट्रेन से समस्तीपुर भाया खगड़िया जाना पड़ता है।  जिसमें 5 से 6 घंटे लग जाता है। 

 नए रेल पुल की लंबाई 1.88 किमी है। इसकी चौड़ाई 45.7 मीटर है। इस पर कुल 39 स्पैन लगाए गए हैं। इसके निर्माण पर 620 करोड़ रुपए की लागत लगी है। नए पुल का स्ट्रक्चर एमबीजी लोडिंग क्षमता के अनुरूप बनाया गया है। वहीं सहरसा सरायगढ़- निर्मली-झंझारपुर-सकरी-दरभंगा रेलखंड चालू हो जाने के बाद उत्तर बिहार को एक नया रेलखंड मिल जाएगा। फिलहाल, दरभंगा के लोगों को ट्रेन से सहरसा जाने के लिए दरभंगा, समस्तीपुर, रोसड़ाघाट, खगड़िया होकर सहरसा स्टेशन तक जाना पड़ता है। नए रेल लाइन बन जाने से इसकी दूरी 51 किमी कम हो जाएगी । इस ट्रेन सेवा के शुरू हो जाने से मिथिला व कोसी के बीच दशकों से प्रभावित संबंध और प्रगाढ़ होंगे।


1.88 किमी पुल पर खर्च हुए 620 करोड़

नए रेल पुल की लंबाई 1.88 किमी है। इसकी चौड़ाई 45.7 मीटर है। इस पर कुल 39 स्पैन लगाए गए हैं। इसके निर्माण पर 620 करोड़ रुपए की लागत लगी है। नए पुल का स्ट्रक्चर एमबीजी लोडिंग क्षमता के अनुरूप बनाया गया है। 

तेजी से चल रहा है काम

रेलवे सूत्रों के मुताबिक सहरसा व दरभंगा के बीच कोसी पर नए पुल का निर्माण कार्य पूरा हो चुका है। इस पुल को सरायगढ़ से रेलवे ट्रैक के माध्यम से जोड़ दिया गया है। सकरी निर्मली रेलखंड का निर्माण कार्य भी अंतिम चरण में है। इसके पूरा होते ही दरभंगा-सकरी-झंझारपुर-सरायगढ़-सहरसा रेलखंड पर ट्रेनों का परिचालन शुरू होगा।


Find Us on Facebook

Trending News