यह कैसी व्यवस्था : जलजमाव के कारण लड़कियों ने कॉलेज और स्कूल जाना छोड़ा, 40 फ़ीसदी उपस्थिति हुई कम, दावा हर दिन होती है सफाई, लोगों ने कहा - 6 साल हो गए नालों की उड़ाही हुए

यह कैसी व्यवस्था : जलजमाव के कारण लड़कियों ने कॉलेज और स्कूल जाना छोड़ा, 40 फ़ीसदी उपस्थिति हुई कम,  दावा हर दिन होती है सफाई, लोगों ने कहा - 6 साल हो गए नालों की उड़ाही हुए

CHHAPRA : एक तरफ जहां सरकार करोड़ों रुपए खर्च कर छात्र छात्राओं को बेहतर शिक्षा देने के लिए व्यवस्था कर रही है तो दूसरी तरफ सरकार के ही नुमाइंदे इसमें बाधा बन रहे हैं शहर के गुजरी बाजार स्थित जयप्रकाश विश्वविद्यालय के प्रीमियर कॉलेज में शामिल और देश के प्रथम राष्ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद के नाम पर स्थापित राजेंद्र महाविद्यालय और वहीं पर स्थित राजेंद्र कॉलेजिएट स्कूल मैं छात्राओं और छात्रों की उपस्थिति दिन-ब-दिन कम होती जा रही है इसका मुख्य कारण यह नहीं है कि शिक्षक नहीं आते या कॉलेज और स्कूलों में पढ़ाई नहीं होती इसका मुख्य कारण है राजेंद्र कॉलेज एन एच 93 मुख्य गेट से लेकर गुदरी सोनार पट्टी तक जलजमाव का होना। करीब 6 साल से इस सड़क पर जलजमाव है और दोनों तरफ के नाले पूरी तरह बज बजा रहे हैं आज तक इन नालों की उड़ा ही नहीं हुई है। वहीं नगर निगम के कर्मी व अधिकारी यह दावा कर रहे हैं कि आए दिन इन नालों की सफाई होती है जबकि वास्तविकता देखने पर अपने आप प्रतीत हो जाती है किनारों पर लंबे-लंबे घास जमे हुए हैं नालों में सिल्ट मुहाने तक भरे हुए हैं। नालों का पानी नाले से ना होकर सड़क पर बह रही है।

-उप मुख्यमंत्री से हुई शिकायत फिर भी निराकरण नहीं

इस समस्या को लेकर राजेंद्र महाविद्यालय के प्राचार्य ने हाल ही में एक कार्यक्रम में शामिल होने आए उपमुख्यमंत्री से इसकी शिकायत कर दी साथ ही लिखित आवेदन भी दिया की समस्या से निजात दिलाई जाए लेकिन हद तो यह हो गई कि आज तक ना लो कि उड़ा ही नहीं हुई और ना ही जलजमाव को दूर किया गया राजेंद्र महाविद्यालय के प्रचार ने इस समस्या को लेकर कई अन्य अधिकारियों को भी सूचित किया है लेकिन उन्होंने भी कोई कदम नहीं उठाया।

-प्राध्यापक बोले जलजमाव से नहीं आ रही है छात्राएं

महाविद्यालय के प्राध्यापकों ने दो टूक कहा कि कॉलेज में छात्राओं की उपस्थिति कब होने का मुख्य कारण यह जलजमाव है छात्र किसी तरह से साइकिल बाइक या स्कूटी से आ जाते हैं लेकिन छात्रा है नहीं आ पाती हैं परेशानी तो तब हो जाती है जब कोई परीक्षा होती है और राज्य तथा देश के कोने-कोने से आए परीक्षार्थी स्थिति को देखकर काफी दुख व्यक्त करते हैं। अभी के स्थिति यह है कि राजेंद्र महाविद्यालय और राजेंद्र कॉलेजिएट स्कूल में छात्र-छात्राओं की उपस्थिति 40 फेसबुक कब हो रही है।


- निगम अधिकारियों को खड़ी खड़ी सुनाई

जब अधिकारी एक शिकायत पर स्थिति का अवलोकन करने पहुंचे तो उनके सामने ही स्थानीय लोगों और राजेंद्र कॉलेज के कर्मियों ने खरी खोटी सुना दी। नगर निगम के दावे को गलत बताते हुए लोगों ने कहा कि बीते 6 साल से यहां के नालों क्यों उड़ा ही नहीं हुई है 6 सालों से सड़क पर जलजमाव है और इसे लेकर आज तक कोई कवायद नहीं की गई है

डिप्टी सीएम के आगमन पर हुई थी सफाई

ऐसा नहीं है कि सफाई नहीं होती ।समय-समय पर सफाई कराई जाती है। हाल ही में उपमुख्यमंत्री आए थे तब सफाई कराई गई थी फिर सफाई कराई जा रही है।

हरीश कुमार, उप नगर आयुक्त, नगर निगम छपरा

जलजमाव को लेकर शिकायत मिली है सफाई के लिए उप नगर आयुक्त और सिटी मैनेजर को सूचित कर दिया गया है जल्द ही नालों के उड़ा ही की जाएगी और जलजमाव से छात्र छात्राओं व आप लोगों कोको मुक्ति दिलाई जाएगी।

संजय कुमार उपाध्याय, निगमायुक्त, नगर निगम, छपरा

Find Us on Facebook

Trending News