मां की मौत पर बेटे नहीं आया तो बेटियों ने दिया अर्थी को कंधा, 4 km दूर श्मशान में ले जाकर किया अंतिम संस्कार

मां की मौत पर बेटे नहीं आया तो बेटियों ने दिया अर्थी को कंधा, 4 km दूर श्मशान में ले जाकर किया अंतिम संस्कार

Desk. बेटियों ने परंपरा को तोड़ते हुए अपनी मां के अर्थी को कंधे देकर अंतिम संस्कार किया है. मां की मौत होने पर भी उनके बेटे नहीं पहुंचे तो वृद्धा के अंतिम संस्कार का बीड़ा बेटियों ने उठाया है. बेटियों ने मां को श्मशान लिया और फिर उसका अंतिम संस्कार किया है. यह मामला ओडिशा के पुरी का है. बताया जा रहा है कि वृद्धा के 2 बेटे और 4 बेटियां हैं.

पड़ोसियों ने बताया कि मां की मौत होने पर भी दोनों बेटे नहीं आए. काफी इंतजार के बाद भी जब बेटे नहीं पहुंचे तो 4 बेटियों ने ही मां को श्मशान तक ले जाने का फैसला किया. बेटियों ने ही पड़ोसियों की मदद से अर्थी बनाई और उसे लेकर 4 किलोमीटर दूर श्मशान पहुंचीं, जिसका नाम स्वर्ग द्वार है. बेटों का यह रवैया तब था, जब पिता की मौत की बात मां ने सड़क पर ठेला लगाकर उन्हें पाला था.

मृतका के दामाद ने कहा कि कुछ दिन पहले उनकी सास मिलने आई थीं. उन्होंने तब कहा था, "तुम ही मेरे बड़े बेटे हो, क्योंकि मेरा कोई भी बेटा मेरा ध्यान नहीं रखता है. कई सालों से वे मुझे देखने भी नहीं आए." मृतिका की बेटी का कहना है कि कि हमारे भाई पिछले 10 साल से मां का ध्यान नहीं रख रहा है. कभी भी भाइयों ने मां को साथ नहीं रखा. इतने साल में एक बार भी उन्होंने यह नहीं पूछा कि मां ठीक हैं या नहीं. मां अकेले ही अपना ध्यान रखती थीं.

Find Us on Facebook

Trending News