‘अपशगुनी’ बंगला में रहेंगे तेजस्वी यादव? जो भी रहा उसका पूरा नहीं हुआ उप मुख्यमंत्री का कार्यकाल

‘अपशगुनी’ बंगला में रहेंगे तेजस्वी यादव? जो भी रहा उसका पूरा नहीं हुआ उप मुख्यमंत्री का कार्यकाल

पटना. बिहार के उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव को लेकर राजनीतिक गलियारों में एक नए किस्म की चिंता उभर आई है. नीतीश कुमार के साथ मिलकर बिहार में महागठबंधन सरकार बनाने वाले तेजस्वी यादव के लिए भले यह एक बड़ी राजनीतिक जीत हो. लेकिन, नीतीश और तेजस्वी के नेतृत्व वाली यह सरकार कितने दिनों तक चलेगी सबसे बड़ा सवाल यही है. उसमें भी अब तेजस्वी यादव को जो सरकारी बंगला आवंटित होना उससे महागठबंधन सरकार की स्थिरता को लेकर चिंता और ज्यादा बढ़ गई है. 

दरअसल, उप मुख्यमंत्री के लिए पटना के 5-देशरत्न मार्ग का बंगला आवंटित है. इस बंगले में अब तक तारकिशोर प्रसाद रह रहे थे, जो एनडीए सरकार में उप मुख्यमंत्री थे. सरकार जाने के बाद तारकिशोर ने बांग्ला खाली करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है. माना जा रहा है कि इसी बंगले में अब मौजूदा उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव रहेंगे. और यही सबसे बड़ी चिंता है. 

5-देशरत्न मार्ग बंगला में अब तक जो भी उप मुख्यमंत्री रहे हैं उनका कार्यकाल पूरा नहीं हो पाया है. वर्ष 2015 तेजस्वी यादव पहली बार उप मुख्यमंत्री बने और इसी बंगले में रहे. लेकिन जुलाई 2017 नीतीश कुमार ने राजद से गठबंधन तोड़कर भाजपा के साथ सरकार बना ली. हालांकि तेजस्वी का इस भव्य और आलिशान बांग्ला से मोह नहीं छूटा. उन्होंने लम्बे अरसे तक बंगला खाली नहीं किया. यहां तक कि इसे लेकर वे सुप्रीम कोर्ट तक गए. 8 फरवरी 2019 को सुप्रीम कोर्ट ने तेजस्वी की याचिका खारिज करते हुए कहा था कि जब आप उपमुख्यमंत्री थे, तब बंगला अलॉट किया गया था, अब आप उस पद पर नहीं हैं इसलिए बंगला खाली करना होगा. सुप्रीम कोर्ट ने तेजस्वी पर कोर्ट का वक्त बर्बाद करने पर 50 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया था.

तेजस्वी के बाद 5-देशरत्न मार्ग का यह सरकारी आवास सुशील कुमार मोदी को अलॉट हुआ. लेकिन कुछ महीने बाद ही भाजपा ने सुशील मोदी को बिहार की राजनीति से दूर कर दिया. उन्हें नीतीश सरकार में उप मुख्यमंत्री पद से हटा दिया गया. सुशील मोदी का इस बंगले में आना उनके राजनीतिक करियर को बड़ा झटका दे गया और वे बिहार से दूर कर दिए. 

उनके बाद भाजपा ने तारकिशोर प्रसाद को उप मुख्यमंत्री बनाया. अब तक 5-देशरत्न मार्ग बंगला में तारकिशोर ही रह रहे थे. अचानक से इसी महीने नीतीश कुमार ने नाटकीय घटनाक्रम में एनडीए से अलग होने का फैसला किया. उन्होंने अब फिर से राजद और अन्य दलों के साथ मिलकर सरकार बना ली. इस कारण तारकिशोर प्रसाद को अब इस बंगले को खाली करना पड़ रहा है. पांच साल के अन्तराल पर 3 उप मुख्यमंत्री इस बंगले में रहते हुए अपनी कुर्सी गँवा चुके हैं. ऐसे में अब तेजस्वी यादव को आवंटित होने वाले 5-देशरत्न मार्ग बंगला को एक तरह से ‘अपशगुनी’ माना जा रहा है. 


Find Us on Facebook

Trending News