नालंदा में अक्षय नवमीं के मौके पर महिलाओं ने की आंवला वृक्ष की पूजा, पुण्य प्राप्ति के लिए किया गुप्त दान

नालंदा में अक्षय नवमीं के मौके पर महिलाओं ने की आंवला वृक्ष की पूजा, पुण्य प्राप्ति के लिए किया गुप्त दान

NALANDA : अक्षय नवमीं के मौके पर बिहारशरीफ के विभिन्न मोहल्ले में महिलाओं ने आंवला वृक्ष का पूजा अर्चना कर कुष्मांड यानि भुआ का गुप्त दान किया। ऐसी मान्यता है कि कार्तिक नवमी के दिन आंवला वृक्ष का पूजन कर कथा सुनकर दान करने से पुण्य की प्राप्ति होती है। आज के दिन किया गया किसी प्रकार का दान का फल कभी क्षय नहीं जाता है। इसलिए खासकर कार्तिक स्नान करने वाली महिलाएं इस व्रत को करती है।


कई जगहों पर आज के दिन आंवला वृक्ष के नीचे खाना बनाया जाता है और उसी को प्रसाद के रूप में सभी ग्रहण करते है। यू तो पवित्र कार्तिक मास में प्राकृतिक की ही पूजा होती है। हमारे धर्म शास्त्र में प्राकृतिक को संरक्षित रखने के लिए कहा गया है। इस कारण सोमवती अमावस्या को पीपल वृक्ष , वट सावित्री की पूजा में वट वृक्ष और अक्षय नवमी को आँवला वृक्ष की पूजा अर्चना की जाती है। 

बता दें की अक्षय नवमी एक ऐसा पर्व हैं, जो कार्तिक मास की दिव्यता और भव्यता को एक अलग आयाम देता है। आंवला नवमी पर आंवले के पेड़ के नीचे पूजा और भोजन करने की प्रथा की शुरुआत माता लक्ष्मी ने की थी। 

कथा के अनुसार, एक बार मां लक्ष्मी पृथ्वी भ्रमण पर आईं तो रास्ते में उनके मन में भगवान विष्णु और भगवान शिव की पूजा करने की इच्छा हुई।  धरती पर आकर मां लक्ष्मी सोचने लगीं की भगवान विष्णु और शिवजी की पूजा एक साथ कैसे की जा सकती है।  तभी उन्हें याद आया की तुलसी और बेल के गुण आंवले में पाए जाते हैं।  तुलसी भगवान विष्णु को और बेल शिवजी को प्रिय है।  

नालंदा से राज की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News