विश्व गैंडा दिवस: वाल्मीकिनगर गंडक बराज से मिला मृत गैंडा, जांच में जुटा वन विभाग

विश्व गैंडा दिवस: वाल्मीकिनगर गंडक बराज से मिला मृत गैंडा, जांच में जुटा वन विभाग

बगहा. वाल्मीकि टाईगर रिजर्व वन प्रमंडल दो के वाल्मीकिनगर रेंज से सटे गंडक नारायणी में पड़ोसी देश नेपाल के चितवन निकुंज से बह कर आए एक गैंडे के शावक का शव वाल्मीकिनगर रेंज के वन कर्मियों ने बुधवार को बरामद किया. इसके बाद गैंडे के शव का पोस्टमार्टम के बाद अंतिम क्रिया कर दिया गया है.

सहायक वनसंरक्षक अमिता राज ने बताया कि नेपाल के चितवन निकुंज से गंडक नदी के रास्ते पानी में बह कर आए मृत गैंडे की मृत्यु का करण पानी में अधिक समय रहने के कारण हुआ है. हालांकि गैंडे की मृत्यु के मुख्य कारण की जानकारी पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद हीं पता चल पाएगा. उन्होंने कहा कि बुधवार की सुबह पता चला की एक गैंडा नदी में बह कर तिरहुत कैनाल के एक नंबर फ़ाटक में फंसा है. सूचना की गंभीरता को देखते हुए वनकर्मियों की टीम को मौके पर भेज दिया गया. जहां घंटो मशक्कत के बाद मृत शावक गैंडे का रेस्क्यू किया गया.

वहीं वीटीआर के वेटनरी डॉक्टर मनोज कुमार टोनी ने बताया कि गैंडा हो सकता है की किसी ऊंची स्थान से फिसल कर नदी में गिर गया हो, गिरने के कारण उसे चोट आई हो और अत्यधिक समय तक पानी में रहने के कारण दम घुटने से उसकी मौत हो गई हो. मृत  गैंडे नर प्रजाति का बताया जा रहा है, उसकी उम्र लगभग ढाई वर्ष बताया गया है. इसके बिसरा को जांच के लिए बरेली लेबोरेट्री में भेजा जा रहा है. वहीं मृत गैंडे को पोस्टमार्टम के बाद उसके शव को अंतिम क्रिया कर दिया गया.

पूर्व में भी बाढ़ के पानी में चितवन नेशनल पार्क नेपाल से दर्जनों गैंडे पानी में बहकर टाइगर रिजर्व क्षेत्र में आ चूके हैं, जिनमें लगभग 8 गैंडो को सफल रेस्क्यू के बाद नेपाल प्रशासन को सौंप दिया गया था. जबकि लगभग आधा दर्जन टाइगर रिजर्व में निवास कर रहे गैंडो की मौत बारी बारी से हो गयी. बावजूद इसके अभी भी एक शावक गैंडा हवाई अड्डा के समीप तो एक टाइगर रिजर्व में विचरण कर रहे हैं.

Find Us on Facebook

Trending News