कोसी के कहर से सबकुछ गंवा चुके 215 महादलित परिवारों का नहीं हुआ पुनर्वास, भाजपा विधायक ने पीएम मोदी को लिखा त्राहिमाम संदेश, राज्य सरकार पर उठा दिए सवाल

कोसी के कहर से सबकुछ गंवा चुके 215 महादलित परिवारों का नहीं हुआ पुनर्वास, भाजपा विधायक ने पीएम मोदी को लिखा त्राहिमाम संदेश, राज्य सरकार पर उठा दिए सवाल

BHAGALPUR : बिहपुर विधानसभा क्षेत्र से भाजपा के विधायक ई. शैलेंद्र ने शनिवार को पीएमओ, सीएमीओ समेत मंत्री व अन्य कई नेताओं को टैग कर मीडिया प्लेटफार्म ट्विटर पर अपना त्राहिमाम संदेश ट्वीट किया है। इस ट्वीट में उन्होंने बिहपुर विस के खरीक व बिहपुर प्रखंड में बीते दो वर्षों में कोसी के प्रलयंकारी कटाव के कारण विस्थापित हुए परिवारों के सरकारी स्तर पर आज तक पुनर्वास की व्यवस्था न किए जाने से दुख प्रकट किया है। 

विधायक ने पीएमओ को किए ट्वीट में कहा है कि बिहपुर प्रखंड के गोविंदपुर मुसहरी कहारपुर समेत खरीक प्रखंड के मैरचा सिंहकुंड, ढोढिश दादपुर व लोकमानपुर आदि गांव जो कोसी कछार स्थित है। तीन वर्ष पूर्व गोविदपुर गांव से 215 महादलित सोशल परिवार न सिर्फ विस्थापित हो गया है। बल्कि उक्त गांव का भी अब अस्तित्व नहीं है। फिर आजतक इन महादलित विस्थापितों का पुनवांस नहीं हो पाया है। इन्हें पुनर्वास के लिए जमीन तक उपलब्ध नहीं न हो पाया है। 

विधायक ने ट्वीट में कहा है कि मैंने बिहार विधानसभा के सदन में इस मांग को सरकार व संबंधित मंत्रालय के मंत्री के समक्ष प्रश्न के माध्यम से कई बार अवगत करा चुका हूं। इसके साथ ही कहा कि उनके प्रश्न को जल संसाधन विभाग अनदेखा कर रहा है।

एक के बाद एक किए चार ट्विट

बिहपुर विधायक ने समस्या को लेकर एक बाद एक चार ट्विट किए हैं। उन्होंने लिखा है कि मेरे विधानसभा अंतर्गत कहारपुर,मैरचा, सिहकुण्ड, गोविंदपुर, मुसहरी, ढोढीया दादपुर ओर लोकमानपुर कोशी नदी किनारे अवस्थित है 3 वर्ष पूर्व महादलित परिवारों का 215 घर गोविंदपुर मुसहरी गांव (बिहपुर प्रखंड) कोशी नदी के कटाव से विस्थापित हो रहा

वहीं दूसरे ट्विट में उन्होंने लिखा है कि आज तक उस महादलित परिवारों को बिहपुर अंचल के द्वारा जमीन मुहैया नहीं करा पाई है। लोकतंत्र के पवित्र मंदिर विधानसभा के अंदर मैं छह बार जल संसाधन विभाग (बिहार सरकार) को प्रश्न के माध्यम से अवगत कराया कि कोशी नदी से कहारपुर,मैरचा, सिहकुंड ओर लोकमानपुर गांव में कटाव हो रहा है।

तीसरे ट्विट में उन्होंने जल संसाधन के काम पर सवाल उठाया है। उन्होंने लिखा है कि जल संसाधन विभाग द्वारा हमारे प्रश्न को अनदेखा किया जा रहा है। पिछले विर्तीय वर्ष (21-22) में गुवारीडीह को बचाने के लिए पायलट चैनल का कार्य कराया जा रहा था लेकिन इस विर्तीय वर्ष में पायलट चैनल का कार्य बिल्कुल नहीं किया जा रहा जिसके कारण चैनल में गाद भर गया।

चौथे ट्विट में उन्होंने लिखा है कि कोशी नदी से हो रहे कटाव को रोकने के लिए मेरे विधानसभा क्षेत्र में कोई काम नहीं हो रहा है। भारत सरकार एवं राज्य सरकार से आग्रह है जल्द से जल्द कार्य शुरू कराया जायें 


Find Us on Facebook

Trending News