बिहार उत्तरप्रदेश मध्यप्रदेश उत्तराखंड झारखंड छत्तीसगढ़ राजस्थान पंजाब हरियाणा हिमाचल प्रदेश दिल्ली पश्चिम बंगाल

BREAKING NEWS

  • जदयू चिकित्सा सेवा प्रकोष्ठ ने पीएमसीएच में ओपीडी सहित अन्य सुविधाओं के उद्घाटन पर जताई ख़ुशी, कहा सीएम नीतीश के नेतृत्व में स्वास्थ्य सेवाओं का हो रहा विकास
  • जदयू चिकित्सा सेवा प्रकोष्ठ ने पीएमसीएच में ओपीडी सहित अन्य सुविधाओं के उद्घाटन पर जताई ख़ुशी, कहा सीएम

  • 28 फरवरी को सिवान आएंगे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, जिलाधिकारी और एसपी ने लिया कार्यक्रम स्थल का जायजा
  • 28 फरवरी को सिवान आएंगे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, जिलाधिकारी और एसपी ने लिया कार्यक्रम स्थल का जायजा

  • यूपी में क्रांस वोटिंग ने अखिलेश को दिया झटका, तीन की जगह राज्यसभा की दो सीटों से ही करना पड़ा संतोष, भाजपा के खाते में आठ सीट
  • यूपी में क्रांस वोटिंग ने अखिलेश को दिया झटका, तीन की जगह राज्यसभा की दो सीटों से ही

  • भाई के हर्ष फायरिंग का वीडियो वायरल होने पर बोले लोजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष, कहा विधि सम्मत कार्रवाई के लिए हैं तैयार
  • भाई के हर्ष फायरिंग का वीडियो वायरल होने पर बोले लोजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष, कहा विधि सम्मत कार्रवाई

  • तमिलनाडु में रालोमो की इकाई गठित, टी.एस दासप्रकाश बने अध्यक्ष, उपेंद्र कुशवाहा ने दी बधाई
  • तमिलनाडु में रालोमो की इकाई गठित, टी.एस दासप्रकाश बने अध्यक्ष, उपेंद्र कुशवाहा ने दी बधाई

  •  प्रदेश की आपसी सद्भाव को खत्म करना ही जन विश्वास यात्रा का लक्ष्य  : प्रभाकर मिश्र
  • प्रदेश की आपसी सद्भाव को खत्म करना ही जन विश्वास यात्रा का लक्ष्य : प्रभाकर मिश्र

  • नालंदा पहुंचे बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय ने इंडिया गठबंधन पर किया हमला, कहा 7 परिवारों ने अस्तित्व बचाने के लिए बनाया एलायंस
  • नालंदा पहुंचे बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय ने इंडिया गठबंधन पर किया हमला, कहा 7 परिवारों ने अस्तित्व बचाने

  • 45 साल की शादीशुदा महिला के प्यार में पागल था नाबालिग, जुदा होने का गम नहीं कर सका बर्दाश्त, दे दी जान
  • 45 साल की शादीशुदा महिला के प्यार में पागल था नाबालिग, जुदा होने का गम नहीं कर सका

  • नालंदा में बदमाशों ने चाकू से गोदकर की डॉक्टर के माँ की निर्मम हत्या, परिजनों ने जमीनी विवाद में घटना को अंजाम देने का लगाया आरोप
  • नालंदा में बदमाशों ने चाकू से गोदकर की डॉक्टर के माँ की निर्मम हत्या, परिजनों ने जमीनी विवाद

  • नालंदा में बेटी का इलाज कराकर घर लौट रहे दंपत्ति को अनियंत्रित ट्रक ने रौंदा, पत्नी के सामने ही पति और पुत्री की हुई मौत
  • नालंदा में बेटी का इलाज कराकर घर लौट रहे दंपत्ति को अनियंत्रित ट्रक ने रौंदा, पत्नी के सामने

पांच साल की विधायकी के बाद सत्ताधारी पार्टी ने नहीं दिया टिकट, बेरोजगारी दूर करने के लिए पूर्व विधायक ने लिया मधुमक्क्खी पालन का प्रशिक्षण

पांच साल की विधायकी के बाद सत्ताधारी पार्टी ने नहीं दिया टिकट, बेरोजगारी दूर करने के लिए पूर्व विधायक ने लिया मधुमक्क्खी पालन का प्रशिक्षण

AURANGABAD : औरंगाबाद के रहनेवाले ललन बाबू इन दिनों बेचारे बने हुए है। पहले नेतागिरी करते थे। बिहार के सत्ताधारी दल जदयू में थें। पार्टी में चलती थी। चलती के जमाने में पार्टी ने ललन राम पर पूरी मेहरबानी की। 2010 के विधानसभा चुनाव में जदयू ने पहली बार उन्हे कुटुम्बा (सुरक्षित) सीट से  पार्टी का उम्मीदवार बनाया। ललन बाबू सीधे-साधे और भोले-भाले है। लिहाजा जनता ने उनके भोलेपन पर भरोसा किया और उन्हे चुनाव जीताकर विधायक बना दिया। विधायक बनते ही उनकी हनक पहले से ज्यादा बढ़ गयी। माननीय बनते ही उनकी चलती चल गयी। मिला जुला के अच्छी खासी हैसियत में आ गये। हैसियत बढ़ी तो विधायक जी को कुछ बुरी आदतें लग गयी। खैर उस वक्त बिहार में पूर्ण शराबबंदी लागू नही थी। लिहाजा पीने-पिलाने पर कोई दिक्कत नही थी। 


विधायकी के दौर में यह सब मजें में चल रहा था। विधायक के रूप में मजे के साथ ललन बाबू  जनता के भी काम में लगे थे। पूरे पांच साल तक कही जय-जय हो रही थी तो कही किसी कारण से लोग नाराज भी थे। धीरे-धीरे विधायकी का समय पूरा होने का साल 2015 आ गया। ललन बाबू को पूरी उम्मीद थी कि पार्टी उन्हे दुबारा टिकट देगी। लेकिन राजधानी पटना में राजनीतिक उठा पटक के बाद जदयू ने भाजपा का दामन छोड़कर राजद और कांग्रेस का साथ ले लिया। अब नये साथी दलों को भी जदयू को खुश करना था। इस वजह से कांग्रेस को खुश करने के लिए जदयू ने अपनी जीती हुई सीट कांग्रेस को दे दी। कांग्रेस ने राजेश कुमार को उम्मीदवार बनाया। जबकि ललन बाबू बेटिकट हो गये। बेटिकट हाेने के बावजूद उन्होने पार्टी से वफादारी निभाई। गठबंधन के साथी उम्मीदवार का साथ दिया और हम से उम्मीदवार संतोष मांझी की तगड़ी चुनौती के बावजूद कांग्रेस प्रत्याशी राजेश कुमार चुनाव जीत गये। पूरे पांच साल राजेश जी विधायक रहे। इस बीच जदयू का राजद-कांग्रेस से याराना टूटने से ललन जी को उम्मीद थी कि 2015 के विधानसभा चुनाव में जदयू उन्हे टिकट देगी। लेकिन फिर उन्हे टिकट नही मिला। बल्कि हम से को एनडीए गठबंधन में आ जाने के कारण इस पार्टी के श्रवण भुईयां को उम्मीदवार बना दिया गया। उम्मीद के बीच बेचारे ललन जी फिर बेटिकट हो गये। इधर कांग्रेस के राजेश कुमार फिर से चुनाव जीत गये। 

लिहाजा ललन जी फिलहाल पिछले दस साल से राजनीतिक बेरोजगारी का दंश इस कारण झेल रहे है कि पार्टी ने उन्हे कही से किसी तरह का घास नही डाला। इधर अपनी ही पार्टी की पूर्ण शराबबंदी की नीति का भी एक बार खामियाजा ललन जी को भुगतना पड़ा। अब आलम यह है कि बेचारे ललन जी के पास कोई खास कुछ काम नही है। लिहाजा वे राजनीतिक रूप से बेरोजगार से है। इसी बीच ललन जी को पता चला कि नबीनगर पावर जेनरेटिंग कंपनी लि.(एनपीजीसीएल) कारपोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व निर्वहन के तहत भागलपुर कृषि विश्वविद्यालय, सबौर के सहयोग से मधुमक्खी पालन का प्रशिक्षण देने जा रही है। यहां पर ललन जी को अपनी बेरोजगारी और राजनीतिक बेरोजगारी दोनो को दूर करने के लिए उम्मीद की एक किरण दिखी। लिहाजा पूर्व विधायक ललन जी ने मधुमक्खी पालन की तीन दिनों की ट्रेनिंग ली। ट्रेनिंग से पूर्व विधायक अब मधुमक्खी पालन का सारा गुर सीख चुके है। अब उन्होने इरादा पक्का कर लिया है कि मधुमक्खी पालन कर अपनी बेरोजगारी दूर करेंगे। साथ ही कुटुम्बा विधानसभा क्षेत्र में जगह जगह शिविर लगाकर किसानों को मधुमक्खी पालन करने की ट्रेनिंग भी देंगे। ऐसा करने से एक तो बेरोजगार पूर्व विधायक को आमदनी होगी तो दूसरी ओर इसी बहाने उनके लिए वोट की भी फसल तैयार होगी। तो अब इंतजार कीजिएं पूर्व विधायक ललन बाबू द्वारा उत्पादित किये जाने वाले शुद्ध मधु का स्वाद लेने का और मधु का सेवन कर ताजगी कर जीवन में ताजगी लाने का।

औरंगाबाद से धीरेन्द्र पाण्डेय की रिपोर्ट