सत्ता से दूर जाने के बाद भाजपा को पता चला ‘नीतीश कुमार हैं आदतन धोखेबाज’, संजय जायसवाल का दावा- हाँ हम नीतीश पर बनाते थे दबाव

सत्ता से दूर जाने के बाद भाजपा को पता चला ‘नीतीश कुमार हैं आदतन धोखेबाज’, संजय जायसवाल का दावा- हाँ हम नीतीश पर बनाते थे दबाव

पटना. नीतीश कुमार को आदतन धोखेबाज बताते हुए बिहार भाजपा के अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल ने बुधवार को कहा कि वे हमेशा ही विश्वासघात करते रहे हैं. भाजपा के साथ इस बार नीतीश कुमार ने जो विश्वासघात किया है इसका जवाब उन्हें लोकसभा चुनाव 2024 में जनता देगी. उन्होंने दावा किया कि लोकसभा चुनाव 2024 में भाजपा बिहार में 40 में से 36 सीटें जीतेगी. 

भाजपा के साथ रहकर सरकार चलाने में नीतीश कुमार के दबाव महसूस करने के मसले पर संजय जायसवाल ने कहा कि हाँ हम नीतीश कुमार से जहरीली शराब पीने से होने वाली मौतों के मामले से सवाल करते थे. क्या जहरीली शराब से हो रही मौत पर सवाल करना और शराब माफिया पर नकेल कसने की बात करना भाजपा का दबाव था ? उन्होंने कहा कि भाजपा हमेशा नीतीश कुमार को कहती थी शराबबंदी का उल्लंघन कर तस्करी करने वाले लोग राजद के गुंडे हैं. लेकिन नीतीश को भाजपा की यह बात अखड़ जाती थी. शराबबंदी कानून का उल्लंघन करने वाले राजद के गुंडों को गिरफ्तार करने की भाजपा की मांग को कैसे दबाव कहा जाएगा. 

उन्होंने कहा कि बिहार में बढ़ते अपराध, लगातार हो रही हत्या, कई जघन्य वारदातों को लेकर हम नीतीश कुमार से सवाल करते थे. उसे नियंत्रित करने के लिए कहते थे तो क्या यह दबाव बनाना था. बिहार में बेहतर कानून व्यवस्था के लिए नीतीश कुमार को भाजपा नहीं कहती तो क्या यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को कहती. उन्होंने नीतीश कुमार को आदतन विश्वासघात करने वाला नेता करार दिया. 

जायसवाल ने कहा कि नीतीश कुमार और जदयू के अध्यक्ष ललन सिंह ही तेजस्वी यादव के मॉल घोटाले के कागज दिखाते थे. उन पर कार्रवाई करने की बात कहते थे. लेकिन आज नीतीश और ललन उसी तेजस्वी के साथ चले गए. यह स्पष्ट है कि नीतीश कुमार ने बिहार की जनता के साथ विश्वासघात किया है. नीतीश और तेजस्वी आज एक दूसरे को साधने के लिए साथ आ गए हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चुनाव प्रचार के कारण ही 2020 में बिहार में एनडीए को जनता ने बड़ा समर्थन दिया था. लेकिन नीतीश कुमार ने मोदी के नाम पर आए जनसमर्थन का विश्वासघात किया. 


Find Us on Facebook

Trending News