LPG गैस के बाद प्राकृतिक गैस का दाम भी बढ़ा, मोदी सरकार ने दोगुने से भी अधिक बढ़ाई कीमतें, 1 अप्रैल से लागू

LPG गैस के बाद प्राकृतिक गैस का दाम भी बढ़ा, मोदी सरकार ने दोगुने से भी अधिक बढ़ाई कीमतें, 1 अप्रैल से लागू

Desk. देश भर में लगातर बढ़ रहे पेट्रोल और डीजल के दाम के बाद अब प्राकृतिक गैस की कीमत को भी बढ़ दी गयी है। जानकारी के अनुसार प्राकृतिक गैस के दमों में दोगुना बढ़ा दिया गया है, जो 1 अप्रैल से लागू हो जाएगा। वैश्विक स्तर पर ईंधन के दाम में आई तेजी के बीच घरेलू स्तर पर उत्पादित प्राकृतिक गैस की कीमत को बढ़ाकर दोगुने से अधिक कर दी है।

पेट्रोलियम मंत्रालय के अंतर्गत आने वाले पेट्रोलियम योजना एवं विश्लेषण प्रकोष्ठ (पीपीएसी) की गुरुवार को जारी अधिसूचना के अनुसार, सार्वजनिक क्षेत्र की ओएनजीसी और ऑयल इंडिया के नियमित क्षेत्रों से उत्पादित गैस की कीमत मौजूदा 2.90 डॉलर प्रति 10 लाख ब्रिटिश थर्मल यूनिट (यूनिट) से बढ़ाकर 6.10 डॉलर प्रति 10 लाख ब्रिटिश थर्मल यूनिट कर दी गई है।

गहरे जल क्षेत्र जैसे कठिन इलाकों में स्थित फील्ड्स के लिए कीमत बढ़ाकर 9.92 डॉलर प्रति यूनिट कर दी गई है, जो अबतक 6.13 डॉलर प्रति यूनिट थी। अप्रैल से सितंबर 2022 तक के लिए घोषित की गई घरेलू प्राकृतिक गैस की नई कीमत 2014 के बाद से सबसे उच्च है।

सीएनजी, पीएनजी, उर्वरक हो सकते हैं महंगे

प्राकृतिक गैस की कीमत में किए गए इजाफे के बाद देश में सीएनजी और पीएनजी के दामों में और इजाफा हो सकता है। इसकी वजह है कि ये दोनों ईंधन, प्राकृतिक गैस से ही तैयार होते हैं। प्राकृतिक गैस का उपयोग बिजली उत्पादन, उर्वरक बनाने, सीएनजी और खाना पकाने के लिए घरेलू रसोई बनाने में किया जाता है। नेचुरल गैस के दाम दाम बढ़ने से बिजली उत्पादन की लागत बढ़ेगी, लिहाजा इससे बिजली की दरें बढ़ेंगीं। हालांकि ग्राहकों पर इसका ज्यादा असर पड़ने की संभावना नहीं है क्योंकि अभी नेचुरल गैस से काफी कम बिजली तैयार की जा रही है। लेकिन फर्टिलाइजर महंगा हो सकता है।


Find Us on Facebook

Trending News