रिटायर होने के बाद गांववालों ने दी हाथी पर बिठाकर शिक्षक को विदाई, गाजे बाजे के साथ निकाली बारात

रिटायर होने के बाद गांववालों ने दी हाथी पर बिठाकर शिक्षक को विदाई, गाजे बाजे के साथ निकाली बारात

DESK : आम तौर पर हर शिक्षक के लिए छात्रों के मन श्रद्धा का भाव होता है। कई शिक्षक अपने व्यवहार और कार्य कुशलता से छात्रों के अभिभावकों के लिए भी आदरणीय हो जाते हैं। ऐसा ही मामला राजस्थान के भीलवाड़ा जिले में सामने आया है। जहाँ शाहपुरा के अरवड़ गांव में जब एक शिक्षक सेवानिवृत हुए तो उन्हें हाथी पर बैठाकर विदाई दी गयी। यहीं नहीं शिक्षक के सम्मान में गाजे-बाजे के साथ गांव में बारात निकाली गई। इसमें पूरा गांव और आसपास के लोग शामिल हुए। दिन में शिक्षक भंवरलाल की विदाई के बाद गांव में शाम को कवि सम्मेलन का भी आयोजन किया गया। इसमें जिले के जाने माने कई कवि आए। इसकी पूरी व्यवस्था गांव की ओर से की गई।

मिली जानकारी के मुताबिक 31 दिसंबर को अरवड़ सरकारी स्कूल में कार्यरत शिक्षक भंवरलाल शर्मा सेवानिवृति हो गए। उनकी विदाई के लिए स्कूल में कार्यक्रम आयोजित किया गया। भंवरलाल पिछले 20 साल से इस स्कूल में अपनी सेवाएं दे रहे थे। 8 माह पूर्व इनका तबादला इसी स्कूल के अधीनस्थ आने वाली सरदारपुरा स्कूल में हो गया था। लम्बे समय तक अरवड़ स्कूल में रहने के कारण यहां के स्टूडेंट व ग्रामीणों में इनके प्रति काफी प्रेम था। 

बताया जाता है की शिक्षक भंवरलाल शर्मा ने भी अपने निजी फंड से छात्रों को कम्प्यूटर शिक्षा के लिए दो लाख रुपए दिए हैं। इन्होंने गांव से स्कूल में आने वाले हर बच्चें को एक परिजन के तौर पर शिक्षा दी। उनके इसी प्रेम व बच्चों को पढ़ाने के तरीके के चलते स्कूल के सभी बच्चें उन्हें आइकॉन मानते थे।



Find Us on Facebook

Trending News